टीन एज के बच्चों में बहुत से शारीरिक और मानसिक बदलाव देखने को मिलते हैं,जैसे हार्मोनल चेंजेज़ की वजह से कुछ शारीरिक बदलाव, तो बढ़ती उम्र के साथ कुछ मानसिक बदलाव। ऐसे में एक पेरेंट्स होने के नाते आपको उनकी परवरिश के लिए कुछ सावधानियां बरतने की आवश्यकता है।आइए आपको बताते हैं कि टीन एज बच्चों में ऐसे कौन से बदलाव आते हैं और पैरेंट्स किस तरह से उनकी परवरिश करें जिससे वो किसी गलत रास्ते पर न जाएं -

बच्चों में आने वाले बदलाव 

दोस्तों की कंपनी एन्जॉय करना 

teen age parenting ()

इस उम्र के बच्चे दोस्तों की कंपनी बहुत ज्यादा एन्जॉय करते हैं और माता-पिता की बातों को तरजीह नहीं देते हैं। जिसकी वजह से कई बार गलत संगति उन्हें बुरी आदतों की लत तक ले जाती है। 

गैजेट्स से लगाव 

इस उम्र के बच्चे बहुत ज्यादा गैजेट्स  फ्रेंडली हो जाते हैं जिसकी वजह से पूरे दिन अपने मोबाइल या लैपटॉप में सोशल नेटवर्किंग साइट्स में व्यस्त रहते हैं। यहाँ तक कि पढ़ाई भी नहीं करना पसंद करते हैं। ये बच्चे अपने पैरेंट्स तक की बातों पर ध्यान नहीं देते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: हर महिला के सामने आते हैं यह पैरेंटिंग चैलेंज, आप पहले से ही रहें तैयार

Recommended Video


स्वभाव में उद्दंडता आना 

टीन एज बच्चे कई बार उद्दंड स्वभाव के हो जाते हैं और अपने पैरेंट्स के साथ भी गलत व्यवहार करने लगते हैं। यही नहीं उनके माता-पिता जब उन्हें समझाने की कोशिश करते हैं तब वह बहुत ज्यादा गुस्से में उनसे बात करते हैं और बच्चों का यही व्यवहार उन्हें गलत रास्ते में ले जाता है। 

बच्चों की परवरिश के तरीके 

teen age parenting ()

बच्चों के साथ फ्रेंडली रहें 

बच्चों के माता-पिता को चाहिए कि उनके साथ मित्रवत व्यवहार करें। (पैरेंट्स से न छिपाएं ये बातें ) जैसे कि बच्चों के साथ बैठकर मूवी देखें, उनके साथ गेम्स खेलें और उनकी पसंद के हिसाब से उनके लिए गिफ्ट लाएं। कभी -कभी बच्चों के साथ बाहर उनकी पसंदीदा जगह पर घूमने जाएं। 

बच्चों की प्रशंसा है जरूरी 

बच्चों की बात-बात पर प्रशंसा करते रहें। बच्चा कुछ गलत करे तो उस पर गुस्सा दिखाने की जगह अच्छे काम करने की प्रेरणा दें। कई बारआपके द्वारा की गई पशंसा ही बच्चे को आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है। उसकी किसी दूसरे बच्चे से तुलना न करें। 

खुलकर बातें करें 

बच्चे से हर टॉपिक पर खुलकर बातें करें। माता -पिता को चाहिए की बच्चों से हर टॉपिक पर बात करें (बेस्ट पैरेंटिंग टिप्स )। बढ़ती उम्र के बच्चों की बहुत सी जिज्ञासाएं होती हैं इसलिए कभी भी बच्चों के साथ कम्युनिकेशन गैप नहीं आना चाहिए। घर में कम्यूनिकेशन गैप की वजह से वो बाहर अपनी जिज्ञासा शांत करने की कोशिश करते हैं। 

स्पेशल केयर और सपोर्ट दें 

टीन एज में बच्चे को स्पेशल केयर की ज़रुरत होती है इसलिए बच्चों के साथ बैठकर हर मुद्दे पर बातचीत करनी चाहिए। बच्चों का पूरा सपोर्ट करना चाहिए जिससे वो अपनी हर बात का निर्णय पैरेंट्स की मदद से कर सकें।teen age parenting ()

इसे जरूर पढ़ें:बच्चों में जरूर डालें ये संस्कार संवर जाएगा उनका भविष्य

लक्ष्य तय करने में मदद करें 

बच्चों को जीवन का लक्ष्य तय करने में उनकी मदद करें। उनके स्किल्स के हिसाब से उनके लिए किस क्षेत्र में जाना ठीक है ये समझकर उन्हें बताएं । कई बार ऐसा भी होता है कि पैरेंट्स  जिस क्षेत्र में बच्चे को भेजना चाहते हैं बच्चा उसमें नहीं जाना चाहता है।  ऐसे में उसकी प्रतिभा को ध्यान में रखकर ही बच्चे को  दिशा निर्देश दें। 

उपर्युक्त बातों का ध्यान रख कर आप अपने टीन एज के बच्चे को बखूबी प्रेरणा दे सकती हैं। वो किसी गलत रास्ते में जाने की बजाय बड़ों की इज्जत करना भी सीख जाएगा जिससे उसका भविष्य उज्जवल हो जाएगा। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:free pik and unsplash