रुद्राक्ष एक ऐसी चीज़ है जिसकी पुराणों से लेकर धार्मिक अनुष्ठानों तक बहुत मान्यता है। रुद्राक्ष के अलग-अलग प्रकार होते हैं और इसे बहुत पवित्र माना जाता है। कई लोगों को लगता है कि रुद्राक्ष को सिर्फ बाज़ार से ही खरीदा जा सकता है, लेकिन यकीन मानिए आप इसे घर पर भी उगा सकते हैं। ये एक पौधे से उगता है और अगर आपने इसकी केयर ठीक से कर ली तो आपके आंगन में भी रुद्राक्ष का पेड़ खिल सकता है।

क्या आप जानते हैं कि रुद्राक्ष का फल नीले रंग के आउटर खोल के साथ पैदा होता है। भगवान शिव का प्रिय माना जाता है रुद्राक्ष और इसे देखकर कई लोगों को मन की शांति भी मिलती है। आप इसे हॉर्टिकल्चर की नजर से देख रहे हों या फिर धार्मिक नजर से रुद्राक्ष काफी पसंद आ सकता है। ऐसे में क्या आप जानते हैं कि इसे कैसे उगाया है?

कहां ज्यादातर उगता है रुद्राक्ष?

रुद्राक्ष अधिकतर हिमालय की वादियों में उगता है और आपको जानकर हैरानी होगी कि ये दिल्ली में भी कई फेमस जगहों में पाया जाता है, जैसे दिल्ली यूनिवर्सिटी कैम्पस एरिया के आस-पास, लेकिन लोग घर पर रुद्राक्ष का पौधा लगाते नहीं हैं।

rudraksha tree at home

इसे जरूर पढ़ें- तुलसी के पौधे को हरा-भरा रखने के सरल उपाय

कैसे घर पर उगाएं रुद्राक्ष का पौधा?

अब बात करते हैं कि रुद्राक्ष का पौधा घर पर कैसे लगाया जाए और उसके लिए क्या जरूरी चीज़ें चाहिए होती हैं?

रुद्राक्ष का पेड़ अगर अच्छे से ग्रो करे तो ये 60-80 फीट ऊंचा भी हो सकता है इसलिए कोशिश करें कि इसे ऐसी जगह उगाएं जहां इसे बढ़ने की जगह मिले। इसकी करीब 35 प्रजातियां उपलब्ध हैं और आप इसे किसी नर्सरी से या फिर ऑनलाइन खरीद सकते हैं। इसे लगाने के 2-3 साल के अंदर इसमें फल आने लगते हैं। एकदम से इसमें फलों के आने की उम्मीद ना करें इसके लिए थोड़ा समय जरूर लगेगा। 

rudraksha and tree

घर पर लाएं रुद्राक्ष का पौधा- 

बीज से उगाने की जगह ये बेहतर होगा कि आप नर्सरी से एक हेल्दी पौधा लेकर आएं। इसे आप प्रपोगेट भी कर सकते हैं और किसी हेल्दी पौधे से ग्राफ्टिंग कर सकते हैं। ग्राफ्टिंग के लिए जिस तरह से गुलाब के पौधे की कलम काटी जाती है उसी तरह से रुद्राक्ष के पौधे की भी काटी जाएगी। फिर इसे उपयुक्त मिट्टी में लगाया जाएगा। 

रुद्राक्ष के पौधे के लिए सही गमला चुनना-

रुद्राक्ष के पौधे के लिए अगर आपको गमला चुनना है तो ऐसा चुनें जो कम से कम 18-20 इंच गहरा हो और 10 इंच चौड़ा हो। आपको बता दें कि ये पेड़ बन जाता है और बहुत ज्यादा बड़ा हो जाता है इसलिए इसे जमीन पर लगाना भी अच्छा होगा। अगर गमला चुन रहे हैं तो बड़ा गमला ही काम का साबित होगा। आपको टेरीकॉट कंटेनर चुनने चाहिए क्योंकि इस पौधे को अच्छे ड्रेनेज की जरूरत होती है। प्लास्टिक के कंटेनर लेने से बचें। 

rudraksha fruit

रुद्राक्ष के पौधे के लिए ऐसी रखें मिट्टी- 

जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं कि इस पौधे को अच्छे ड्रेनेज की जरूरत होती है, इसलिए मिट्टी भी अच्छे ड्रेनेज वाली ही चाहिए। आपको इसमें खाद भी नाइट्रोजन और अन्य न्यूट्रिएंट्स से भरपूर डालनी होगी। मिट्टी, कोकोपीट, खाद का मिक्सचर बनाएं और उसके बाद उसमें पौधा लगाएं। गार्डन की मिट्टी 60%, खाद 30% और कोकोपीट 10% रखें। इसें थोड़े से पत्थर और रेत भी मिलाएं। 

इसे जरूर पढ़ें- गार्डन के ये 5 फूल कर सकते हैं कई बीमारियों का इलाज, एक्सपर्ट से जानें गुलाब, गेंदा, गुड़हल को कैसे करें डाइट में शामिल 

किस तापमान की जरूरत होती है? 

रुद्राक्ष के पौधे को बढ़ने के लिए ठंडक की जरूरत होती है इसलिए सर्दियां इसे लगाने का अच्छा समय हो सकती हैं। अगर आप ऐसी जगह रहते हैं जहां तापमान काफी ज्यादा होता है तो इस पौधे को शेड में रखें। यानी अगर 35 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा का तापमान है तो दोपहर की सीधी धूप से इसे बचाएं। बाकी सर्दियों के समय इसे पूरी धूप में रखें जिससे ये आसानी से फल-फूल सके। इसे लाइट और एयरी जगहें पसंद हैं, लेकिन तेज़ धूप इसके लिए सही नहीं है। 

पानी कैसे दें? 

इसे गर्मियों के समय ज्यादा पानी की जरूरत हो सकती है और सर्दियों के समय कम पानी की। बारिश के मौसम में भी इसे पानी देने की जरूरत नहीं। ध्यान रखें कि ये पानी जड़ के पास बहुत समय तक जमा ना रहे। ड्रेनेज का सही इंतज़ाम हो। 

प्रूनिंग और मेंटेनेंस- 

एक बार रुद्राक्ष 8 फीट तक आ गया तो इसकी छंटाई बहुत जरूरी हो जाती है। इसकी प्रूनिंग नई ब्रांच खिलने का मौका देगी। इसके साथ ही होममेड फर्टिलाइजर भी देते रहना होगा। गोबर की खाद इसके लिए अच्छा फर्टिलाइजर साबित हो सकती है। जहां तक बीमारी की बात है तो इसमें ज्यादा पानी डालने से जड़ों के खराब होने की बीमारी लग सकती है। बाकी अधिकतर ये पेस्ट्स की समस्या से दूर रहता है। 

Recommended Video

रुद्राक्ष का पौधा 2-3 साल में फल देने लायक हो जाएगा और तब तक ये काफी लंबा हो चुका होगा। रुद्राक्ष की खूबी ये है कि एक बार ये फल देने लायक हो गया तो ये साल में कई बार फल देगा और नीले फल इसमें दिखने लगेंगे। उन नीले फलों के अंदर होता है रुद्राक्ष जिसे साफ कर और सुखाकर हम इस्तेमाल करते हैं।

 

तो अब आप समझ ही गए होंगे कि घर पर रुद्राक्ष का पौधा कैसे उगाया जाता है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।