महिलाओं और उनके द्वारा किए गए कृत्यों को सलाम करती हुई हरज़िन्दगी, जिसने हमेशा औरतों को हर क्षेत्र में आगे बढ़ने की प्रेरणा दी है। हरज़िन्दगी का लक्ष्य न केवल महिलाओं को आगे बढ़ाना है बल्कि हर नारी को उसकी ज़िन्दगी में खुशियां देना भी है। हरजिन्दगी ने अपनी तीसरी एनिवर्सरी का सेलिब्रेशन कई लाइव सेशन के साथ किया, जिसमें पहला लाइव सेशन जो पूरी तरह से महिलाओं पर केंद्रित था और जिसमें चाँद तारों की बातों और गृह दशाओं के बारे में बातें बताई गईं। इस लाइव सेशन में हमारे बीच देश के जाने माने एस्ट्रोलॉजर पंडित जगन्नाथ गुरु जी मौजूद थे और साथ में जानी मानी वास्तु एक्सपर्ट व एस्ट्रोलॉजर रिद्धि बहल जी उपस्थित थीं। जिन्होंने हमारे व्यूवर्स को एस्ट्रो और वास्तु से जुड़े कई टिप्स तो दिए ही साथ ही उनकी जिज्ञासाओं का निवारण भी किया। आइए जानें इस पूरे सेशन में गुरु जी और रिद्धि जी ने हमें क्या टिप्स दिए। 

कोरोना वायरस की वजह से आने वाला समय कैसा होगा ?

anniversary celebration her zindagi ()

सेशन की शुरुआत में होस्ट पूर्णिमा ने गुरु जी से प्रश्न किया कि आने वाला समय कोरोना महामारी के कारण कैसा होगा ? समस्याएं कम होंगी या बढ़ेंगी ? इस बात का पंडित जगन्नाथ गुरु जी ने बड़े ही सहज भाव से जवाब देते हुए बताया कि जब किसी चीज़ की शुरुआत होती है तब उसका भय मन में ज्यादा होता है। लेकिन जैसे ही चीजें आगे बढ़ती हैं डर कम होने लगता है। वही हाल कोरोना वायरस का भी है। शुरुआत में इस वायरस ने जन जीवन को प्रभावित किया लेकिन अब लोगों के मन से इसका डर कम हो गया है। हालांकि खतरा अभी टला नहीं है इसलिए सबसे ज्यादा अपनी सुरक्षा करने की जरूरत है। आने वाले समय में कम से कम फरवरी तक ऐसा ही समय रहेगा। इसलिए सबसे ज्यादा बच्चों और बुजुर्गों को सतर्क रहने की जरूरत है। 

लॉकडाउन में पारिवारिक समस्याएं बढ़ीं, आने वाले समय में क्या होगा ?

पूर्णिमा ने रिद्धि जी से पूछा कि लॉक डाउन के दौरान कई परिवारों के बीच मतभेद बढ़ गए थे। क्या आने वाले समय में भी ऐसी ही गृहदशा रहेगी ? रिद्धि जी ने बताया कि सितम्बर का महीना बहुत ज्यादा महत्त्वपूर्ण था और इसमें कई तरह के बदलाव आने थे। राहु और केतु करीब डेढ़ साल बाद राशि बदलते हैं और राहु केतु ने अपनी राशि बदली जिसका सीधा सम्बन्ध इस महामारी कोरोना से है। ये कहा जा सकता है कि राहु और केतु बहुत ज्यादा जिम्मेदार हैं कोरोना वायरस के लिए। खासतौर पर केतु और बृहस्पति गृह का संयोजन अब समाप्त हो गया है। इसके अलावा शनि और बृहस्पति भी वक्रीय से डायरेक्ट हो चुके हैं,जो बहुत ज्यादा महत्त्वपूर्ण है और पॉसिटिविटी से भरा हुआ है। नवम्बर में गुरु अपनी राशि बदलेंगे और मकर राशि में प्रवेश करेंगे। इसके बाद परिस्थितियां बदल सकती हैं। सितम्बर से नवम्बर तक के समय में कोई अच्छी खबर जैसे कि इसकी वैक्सीन से जुडी कोई खबर जरूर मिलेगी। ये समस्या एक डैम से ख़तम नहीं होगी लेकिन इस पर नियंत्रण जरूर पाया जा सकेगा। ये समस्या फेज़ेज़ में ही समाप्त हो जाएगी, साथ ही सभी तरह के बिगड़े रिश्ते सुलझने की भी संभावना है। गुरु जी के अनुसार साल 2021 में कोरोना वायरस का अंत संभव है।

महामारी से साथ कई आपदाएं भी आईं, भविष्य में क्या होगा ?

गुरु जी ने बताया कि ये साल कई प्राकृतिक आपदाओं से भरा हुआ था लेकिन आगे के तीन महीने ऐसी कोई आपदा नहीं आएगी। किसी तरह का मौसम में बदलाव जरूर दिखेगा लेकिन इसका मानव जीवन पर बहुत बुरा असर नहीं होगा। लेकिन अगले साल सितम्बर के बाद किसी बड़ी प्राकृतिक आपदा की संभावना है। इसलिए हमें थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत है। रिद्धि जी ने इस सवाल पर बताया कि मार्स अभी एरीज में है और 5 अक्टूबर को मार्स अपनी राशि बदलेगा और मीन राशि में प्रवेश करेगा। चूंकि मार्स भूमि से जुड़ा हुआ माना जाता है इसलिए अक्टूबर के महीने में भूमि से जुड़ी किसी आपदा जैसे भूकंप आने की संभावना है। 

लॉकडाउन में कई लोगों की नौकरियां गईं बेरोजगार लोगों का भविष्य में क्या होगा ?

anniversary celebration her zindagi ()

रिद्धि बहल जी ने बताया कि जिसे भी नौकरी को लेकर किसी भी तरह का भ्रम है उनके लिए नार्थ ईस्ट डायरेक्शन सबसे अच्छी है। इसलिए ऑफिस या घर में नार्थ ईस्ट डायरेक्शन में बैठकर काम करें। नार्थ ईस्ट जोन, नए अवसरों का माना जाता है। इसलिए जो लोग नई जॉब ढूढ़ रहे हैं वो इसी दिशा में बैठकर काम करें। इसके अलावा नार्थ ईस्ट पानी का जोन है इसलिए कोशिश करें कि इस दिशा में कोई लाल या पीले रंग की चीज़ न रखें या फिर इलेक्ट्रिकल चीज़ें और आग को इस दिशा में न रखें। 

इसे जरूर पढ़ें : Numerology October 2020: अक्टूबर का महीना जन्‍म अंक के अनुसार कैसा रहेगा? जानें

दर्शकों के प्रश्नों का जवाब दिया 

दर्शकों ने कई तरह के सवाल भी पूछे जैसे एक दर्शक किशोरी ने सवाल पूछा कि शादी के लिए आने वाला समय कैसा होगा ? पंडित जी ने इसका जवाब देते हुए कहा कि दिसंबर से कुछ अच्छे बदलाव देखने को मिलेंगे। वहीं रिद्धि जी ने बताया कि शादी जरूर होंगी लेकिन प्रीकॉशन्स लेना बहुत जरूरी है। जैसे सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करना भविष्य में भी जरूरी होगा। 

रिद्धि जी ने बताया कि परिस्थितियां गृहों की चाल बदलने के साथ नियंत्रण में आना शुरू हो जाएंगी। लेकिन अभी पूरी तरह से रिलैक्स होना ठीक नहीं है। प्रीकॉशन्स लेकर ही चलना पड़ेगा। साल 2019 में पड़ा सूर्य ग्रहण और गुरु व केतु का धनु राशि में प्रवेश ही मुख्य रूप से इस महामारी का कारण है। वैसे तो हर राशि वालों को ध्यान रखने की जरूरत है। लेकिन जो रशियां जल तत्व से जुड़ी हैं जैसे कर्क राशि, वृश्चिक राशि और मीन राशि वालों को ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है क्योंकि उनका प्रतिरक्षा तंत्र कमजोर होता है। 

165 साल बाद अश्विन मास में बना मलमास का संयोग 

गुरु जी के अनुसार यह बड़ा ही पवित्र महीना है इसमें लोगों की कई इच्छाएं पूर्ण होती हैं। रिद्धि बहल जी ने बताया कि जिस तरह पितर पक्ष बड़ा ही पवित्र माना जाता है क्योंकि पूर्वजों का आशीर्वाद मिलता है उसी तरह मलमास भी अत्यंत पवित्र है और ये बड़ा ही  स्पिरिचुअल महीना माना जाता है। इस समय किये गए पूजा पाठ और दान का असर दस गुना तक मिलेगा। इसलिए दान जरूर करें। एक दर्शक तान्या मालिक ने रिद्धि जी से पूछा कि क्या ये समय कुछ नया काम शुरू करने के लिए अच्छा है ? रिद्धि जी ने बताया कि अधिकमास में कोई नया शुभ कार्य न करें। लेकिन नवरात्रि में किसी नए काम का प्रारम्भ करना अच्छा रहेगा। 

इसे जरूर पढ़ें :मलमास में तुलसी पूजन करने से मिल सकता है लाभ, रखें इन बातों का ध्यान

स्टूडेंट्स के लिए कैसा होगा समय 

गुरु जी के अनुसार स्टूडेंट्स को 2021 में थोड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है लेकिन आगे चलकर यानी अक्टूबर के बाद अच्छा समय शुरू होगा। 

किन लोगों को हीरा पहनना चाहिए 

रिद्धि बहल ने बताया कि शुक्र से जुडी राशियां जैसे तुला राशि ,वृष राशि वालों के लिए हीरा या उसकी तरह के कोई और जेम धारण कर सकते हैं ,इसके अलावा मीन राशि वालों के लिए गोल्ड अच्छा होता है। 

इस तरह के कई टिप्स और दर्शकों के प्रश्नों का जवाब देते हुए लाइव सेशन बहुत ही खूबसूरती के साथ आयोजित हुआ। सेशन के समापन में रिद्धि बहल जी ने दर्शकों को टिप्स देते हुए कहा कि सभी को सूर्य नमस्कार जरूर करना चाहिए और कोशिश करें कि सुबह 9 बजे से पहले सूर्य नमस्कार करें क्योंकि 9 बजे के बाद सूर्य अपनी दिशा बदल देता है । सूर्य नमस्कार करने से सकारात्मकता आती है। 

हरज़िन्दगी की तीसरी एनिवर्सरी पर बधाई देते हुए गुरु जी और रिद्धि जी ने इस महामारी के समय में अपनी सुरक्षा करने की सलाह देते हुए आगे बढ़ने को कहा। गुरु जी ने कहा कि शनिवार को हनुमान जी की पूजा से अच्छे फल की प्राप्ति होगी। रिद्धि जी हर ज़िन्दगी से शुरुआत से जुडी हैं और उन्होंने हरज़िन्दगी के कार्यों की सराहना करते हुए अपनी शुभकामनाएं दीं।  

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।