वैसे तो बॉलीवुड में प्रेम कहानियों पर कई फ़िल्में बनी हैं लेकिन कुछ ही ऐसी फ़िल्में हैं, जिसने दर्शकों के दिल और दिमाग पर कब्ज़ा जमा लिया है। जी हां, हम बात कर रहें हैं शाहरुख खान और काजोल की सुपरहिट फिल्म 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' की, जिसने  युवाओं को प्यार करना और परिवारवालों को शादी के लिए कैसे मनाया जाता है ये सिखाया था। शायद यही वजह है कि ये फिल्म सबके दिल के इतने करीब है। इस फ़िल्म में आखिर कुछ तो ऐसी बात थी, जो 90 के दशक का हर लड़का अपने आप को राज समझता था और हर लड़की अपने को सिमरन । इस फिल्म ने कहीं न कहीं उस दौर में उन प्रेमियों को पंख दिये जो प्यार तो करते थे पर डर के कारण अपनी मोहब्बत को जाहिर नहीं कर पाते थे। 

20 अक्टूबर 2020 को इस फिल्म को रिलीज़ हुए पूरे 25 साल हो जाएंगे। मूवी के 25 साल पूरा होने के मौके पर हमने सोचा क्यूं ना इस फ़िल्म के कुछ फेमस डायलॉग्स को दोबारा सुना और पढ़ा जाए ताकि हम महसूस कर सकें कि नब्बे के दशक के प्यार में कितनी गहराई थी। पेश हैं इस फ़िल्म के कुछ फेमस डायलॉग -

तुम्हारी आंखें मुझे मेरी दादी मां की याद दिलाती हैं 

ddlj movie dialogue ()

कुछ याद आया ये डायलॉग, जी हां ये बात उस समय की है जब सिमरन भागती हुई ट्रेन पकड़ती है और राज उसे ट्रेन पकड़ने में मदद करता है। सिमरन अपनी कोई फेवरेट बुक पढ़ रही होती है और राज उसे बार-बार परेशान करता है। राज सिमरन की आंखों की तरफ ध्यान से देखते हुए बोलता है  तुम्हारी आंखें मुझे मेरी दादी मां की याद दिलाती हैं। कुछ याद आया ये सीन और डायलॉग.......हो न हो एक बार तो हर लड़के को अपनी प्रेमिका की आंखें उसकी दादी की याद जरूर दिलाती होंगी। 

बड़े बड़े देशों में ऐसी छोटी-छोटी बातें होती रहती हैं 

ddlj movie dialogue ()

आपको याद आया ये सीन.... देखा याद आ गया ना.. कैसा लगा था आपको ये सीन। सच- सच बताना। मुझे तो बहुत पसंद आया था ये सीन और डायलॉग। जहां सिमरन यानी काजोल की ट्रेन छूट जाती है और राज यानी शाहरुख़ खान उसकी मदद करता है। तब सिमरन राज  से माफ़ी मांगती है और राज उसकी बात को सुनकर बोलता है.. इट्स ओके सेनोरिटा...बड़े बड़े देशों में ऐसी छोटी छोटी बातें होती रहती है... मैं सोचती हूं कि काश आज भी गलती होने पर कोई ऐसा बोल दें तो कितना अच्छा हो। 

राज अगर ये तुझे प्यार करती है, तो ये पलट कर जरूर देखेगी..पलट...पलट

ddlj movie dialogue

इस डायलॉग को भला कौन भूल सकता है। जब सिमरन राज को छोड़कर जा रही होती है और राज अपने आप से कहता है कि राज अगर ये तुझसे प्यार करती है तो ये पलट कर तुझे जरूर देखेगी ....पलट...पलट......और सच में सिमरन जब पलट कर देखती है, तो हम सब भी ख़ुशी से ऐसे झूम उठते जैसे हमें अपना प्यार मिल गया हो। सच में ये डायलॉग कितना अच्छा था.. पर क्या आपमें से किसी ने भी रियल लाइफ में ऐसा बोला है ... सच बताना... देखा आपकी मुस्कुराहट ने बता दिया कि बोला तो है !

मैं एक हिंदुस्तानी हूं...और मैं जानता हूं कि एक हिंदुस्तानी लड़की की इज़्ज़त क्या होती है 

ddlj movie dialogue ()

राज और सिमरन दोनों रात में अकेले हैं और सिमरन गलती से बियर पी लेती है। बियर के नशे में वो रात में क्या कर लेती है उसे कुछ भी याद नहीं है। राज अगले दिन जब सिमरन को होश आने पर चिढ़ाता है और बोलता है कि रात में उसने न जाने क्या कर लिया। सिमरन कुछ गलत की आशंका में रोने लगती है तब राज उसे ये बताता है....... मैं एक हिंदुस्तानी हूं...और मैं जानता हूं कि एक हिंदुस्तानी लड़की की इज़्ज़त क्या होती है। क्यों याद आया न वो सीन जिस पर हर हिन्दुस्तानी लड़के की एक बार गर्व जरूर महसूस हुआ था। 

Recommended Video

तुम मुझे प्यार करती हो ? सबसे ज्यादा.... मुझपे भरोसा है ? खुद से ज्यादा 

ddlj movie dialogue ()

यह डायलॉग तब का है जब सिमरन की शादी बाबूजी किसी और हिंदुस्तानी लड़के से करवा रहे होते हैं और शादी का समय नजदीक आ गया था, सिमरन को लगने लगा कि अब उसकी और राज की शादी नहीं हो पाएगी। उसी समय राज उसको बोलता है,  तुम मुझसे प्यार करती हो.... तो सिमरन बोलती है, सबसे ज़्यादा...फिर राज बोलता है, मुझपे भरोसा करती हो... सिमरन कहती है खुद से भी ज़्यादा...  उफ्फ्फ ! आपको यकीन नहीं होगा कि उस समय का ये डायलॉग प्यार में फंसे हर एक आशिक की जुबां पर था और आज भी दो चाहने वाले ये डायलॉग तो जरूर एक बार बोलते ही हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: Dilwale Dulhania Le Jayenge: फिल्म के इस गाने को लेकर श्योर नहीं थी काजोल, अपने किरदार का खुद उड़ाती थी मजाक

सपने देखो, जरूर देखो... बस उन्हें पूरा होने की शर्त मत रखो 

ddlj movie dialogue ()

हर बेटी अपनी मां से सबसे ज्यादा क्लोज होती है।

ऐसी ही केमिस्ट्री फिल्म में है सिमरन और उसकी मां की , सिमरन बाबूजी के सख्त व्यवहार की देखते हुए अपनी मां से राज के बारे में बताती है और मां अपनी बेटी को इस डायलॉग से समझाती है " सपने देखो, जरूर देखो... बस उन्हें पूरा होने की शर्त मत रखो" क्यों कुछ याद आया मां बेटी का वो इमोशनल सीन। 

इसे जरूर पढ़ें: जानिए DDLJ की शूटिंग लोकेशन से जुड़ी दिलचस्प बातें

जा सिमरन जा..जी ले अपनी ज़िंदगी...

ddlj movie dialogue ()

वैसे हर मूवी का अंत हैप्पी वाला होता है पर कुछ ही एक मूवी होतीं है, जिसका अंत भुलाए नहीं भूलता। ऐसा ही इस मूवी का लास्ट सीन आप कैसे भूल सकते हैं। जब सिमरन अपने पिता से अपनी मोहब्बत की भीख मांगती है और आखिरकार पिता उसे उसकी जिंदगी जीने के लिए आजाद कर देता है और कहता है, जा सिमरन जा.. इस लड़के से ज्यादा प्यार तुझे कोई और नहीं कर सकता...जा बेटा जा अपने राज के पास जा...जा सिमरन जा... जी ले अपनी ज़िंदगी.... सच में आज भी मैं जब इस सीन को देखतीं या डायलॉग को सुनती हूं, तो मुझे लगता है कि नब्बे के दशक के जितने भी पिता होंगे उन्होंने अपनी बेटी के प्यार को अपनाते हुए एक बार तो ये डायलॉग जरूर बोला होगा। 

जब आज  DDLJ मूवी अपनी सिल्वर जुबली मना रही है तो क्यों न एक बार फिर इन सभी डॉयलोग्स को याद करके पूरी मूवी देखें और यादों को फिर से ताजा करें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: pintrest