जब बात बॉलीवुड लव स्टोरीज की आती हैं तो आज भी राजकपूर और नर्गिस की अधूरी प्रेम कहानी को याद किया जाता है। बॉलीवुड की सबसे हिट जोड़ी कही जाने वाली नर्गिस और राजकपूर की जोड़ी को लोग अभी भूले नहीं हैं। खासतौर पर उन पर फिलमाया गया गीत ‘प्यार हुआ इकरार हुआ’ आज भी प्यार करने वाले अकसर गुनगुना लेते हैं। मगर, इस गीत पर नजर आए राजकपूर और नर्गिस का रील लाइफ में तो साथ रहा मगर, रियल लाइफ में दोनों एक दूसरे से बेहद मोहब्बत होने के बावजूद साथ न रह सके। ऐसा कहा जाता है कि इन दोनों के दिलों का इश्क पर्दे पर अभिनय के रूप मे दिखता था। इनकी फिल्में देख कर कोई भी चकमा खा सकता था कि दोनों असल में एक दूसरे पर जाहिर कर रहे हैं या केवल अभिनय कर रहे हैं। दोनों की अमर प्रेम कहानी के उपर कई किताबें लिखी गई हैं। जिनमें दोनों की रोचक कहानियां पढ़ने को मिलती हैं। आइए कुछ के बारे में हम आपको बताते हैं। 

nargis bollywood love story

पहली मुलाकात 

दोनों की पहली मुलाकात बेहद फिल्मी अंदाज में हुई थी। राज कपूर नरगिस के घर उनकी मां जद्दन बाई से मिलने पहुंचे थे। मगर, वह तो न मिलीं मगर नरगिस मिल गईं। जब राज कपूर ने नरगिर के घर का दरवाजा खटखटाया तो उस वक्त नरगिस पकोडि़यां तल रही थीं। दरवाजा खोलते वक्त उनके गालों और बालों पर बेसन लगा हुआ था। उस वक्त नरगिस के भोलेपन पर राजकपूर का दिल आ गया। पहली मुलाकात कई मुलाकातों बदल गई। कुछ ही समय में नरगिस भी राजकपूर को अपना दिल दे बैठीं। दोनों ने मिलकर कई फिल्मों में काम किया और वह सभी हिट भी हुईं। 

दोनों की फिल्में 

राज कपूर और नर्गिस 1940-1960 के दशक की बॉलीवुड की सबसे खूबसूरत और पॉपुलर जोड़ियों में से एक है। इन दोनों के आगे कोई जोड़ी टिक नहीं पाई है।  र्गिस ने राजकपूर के साथ कुल 16 फिल्में की, जिनमें से 6 फिल्में आर के बैनर की ही थी। इस फेहरिस्त में आग, बरसात, अंदाज़, आवारा, आह, श्री 420, जागते रहो और चोरी-चोरी जैसी यादगार फिल्में शामिल हैं जो आज तक फैंस के बीच जमकर पसंद की जाती हैं। दोनों की ऑन स्क्रीन कैमिस्ट्री को लोग खूब पसंद करते मगर, इसके साथ-साथ इनकी ऑफी स्क्रीन कैमिस्ट्री के भी चर्चे शुरू हो गए। 

raj kapoor bollywood love story

नरगिस का राजकपूर के लिए प्यार 

आरके स्टूडियो में पहली फिल्म ‘आग’ शूट हुई थी फिल्म में राज कपूर और नर्गिस पहली बार एक दूसरे के साथ काम कर रहे थे। फिल्म के दौरान ही दोनों के बीच प्यार के अंकुर खिले और नर्गिस का नाम राज कपूर के साथ जुड़ गया। आरके स्टूडियो का लोगो भी नर्गिस और राज कपूर पर फिल्म बरसात में शूट किए गए एक सीन पर आधारित है। इस सीन में नर्गिस राज कपूर की बाहों में झूल रही हैं और लोगो भी कुछ ऐसा ही है। गौरतलब है 16 सितंबर 2017 को आरके स्टूडियो में टीवी शो ‘सुपर डांस’ की शूटिंग के दौरान आग लग गई थी और स्टूडियो का बड़ा हिस्सा जल कर राख हो गया था। तब से यह स्टूडियो बंद पड़ा है। इस स्टूडियो कपूर फैमिली ने दोबारा बनवाने की सोची मगर इसे बनवाने का खर्च इतना था कि कपूर खानदान ने इसे बेचने का फैसला ले लिया है। वैसे आर के स्टूडियो को बेचने की नौबत पहली बार नहीं आई है। पहले भी एक बार जब राज कपूर की कोई फिल्म बॉक्स ऑफिस में नहीं चल पा रही थी तब भी स्टूडियो को बेचने जैसी नौबत बन गई थी मगर, तब एक्ट्रेस नरगिस ने अपने सोने के कंगन को बेच कर स्टूडियो को बिकने से बचाया था। इस बात का जिक्र पत्रकार मधु जैन ने अपनी किताब ‘फर्स्ट फैमिली ऑफ इंडियन सिनेमा: द कपूर्स’ में किया है। 

स्टूडियो का लोगो

जब नर्गिस को इस बात का अहसास हो गया कि राज कपूर उनके लिए अपनी वाइफ कृष्णा को नहीं छोड़ेंगे तो उन्होंने राज कपूर और आरके स्टूडियो दोनों से ही अपनी दूरियां बनाना शुरू कर दिया। 1956 में फिल्म ‘जागते रहो’ की शूटिंग खत्म होने के बाद नर्गिस ने आरके स्टूडियो में कदम नहीं रखे। नर्गिस के जाने के कई सालों तक राजकपूर ने स्टूडियों की हर चीज को वैसे ही रहने दिया जैसा नर्गिस छोड़ कर गई थीं।  मगर 24 बरस बाद जब राज कपूर के बेटे ऋषि कपूर की शादी हुई तब आरके स्टूडियो में 20 दिन तक जश्न मनाया गया और इस जश्न में नर्गिस भी सुनील दत्त के साथ शामिल हुईं। कहा जाता है, राजकपूर जब तक जिंदा रहे तब तक उन्होंने नर्गिसे जुड़ी चीजों को स्टूडियो से नहीं हटाया।

bollywood immortal love stories

नरगिर और राजकपूर का अलगाव 

राजकपूर से नर्गिस का अलगाव तो बहुत पहले ही हो गया था। मगर, जब नर्गिस ने एक्टर सुनील दत्त से शादी कर ली तो राजकपूर दुखी हो कर काफी रोए। इस बारे में राजकपूर की वाइफ कृष्णा को भी पता था। कृष्णा यह भी जानती थी राजकपूर के मन में नर्गिस के लिए कितना प्रेम है। मगर, वह अपनी शादी बचाने के लिए नर्गिस को पहले ही संकेत दे चुकी थीं कि वह राजकपूर से दूर हो जाएं। कहा जाता है कि नर्गिस की शादी के बाद राजकपूर ने खुद को सिगरेट जला कर देखा कि कहीं वह सपना तो नहीं देख रहे। मगर, यह सच था, जिसे राज ने कबूल भी किया और नर्गिस को शादी की बधाई भी दी। 

साल 1981 में आज ही के दिन 3 मई को नरगिस दुनिया छोड़ गईं। उन्हें कैंसर था। इसका इलाज वह अमेरिका से करा कर लौटी थीं। मगर भारत आते ही वह कोमा में चली गईं। जब राज कपूर को नर्गिस की डेथ के बारे में पता चला तो वह पहले हंसे और हंसते-हंसते रोने लगे।