काशी  विश्वनाथ धाम मंदिर को भला कौन नहीं जानता है। जब भी भगवान् शिव के तीर्थ स्थानों की बात आती है विस्वनाथ मंदिर का नाम सर्वोपरि होता है। हरसाल लाखों की संख्या में दूर-दूर से श्रद्धालु यहां आते हैं और बाबा के दर्शन से ओत -प्रोत होकर मनोकामनाओं की पूर्ति की प्रार्थना करते हैं। लाखों श्रद्धालुओं का भक्तिधाम काशी विश्वनाथ धाम न सिर्फ भारत में बल्कि दूर विदेशों में रहने वाले लोगों के बीच भी लोकप्रिय है। आज भगवान शिव की नगरी में स्थित ये भव्य धाम अपनी खूबसूरती के लिए भी जाना जाता है।

लेकिन इस मंदिर के लिए प्रचलित एक कथा के अनुसार कई सौ साल पहले औरंगजेब ने इस मंदिर को ध्वस्त करा दिया था और फिर आगे लगभग 125 साल तक यहां कोई विश्वनाथ मंदिर नहीं था। इसके बाद साल 1735 में महारानी अहिल्या बाई ने इस इस मंदिर का पुनः निर्माण कराया और फिर से मंदिर अस्तित्व में आया। लेकिन इस मंदिर को और ज्यादा ख़ास बनाने के लिए करीब 2 साल पहले प्रधानमंत्री मोदी जी ने एक प्रोजेक्ट का शुभारम्भ किया गया जिसका नाम काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट रखा गया । यह प्रोजेक्ट आज अपने समापन पर है और आज यानी 13 दिसंबर को पी एम मोदी इसका उदघाटन करेंगे। आइए जानें क्या है इस प्रोजेक्ट की ख़ास बात। 

काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट की शुरुआत कब हुई 

kashi vishwnath dham pm modi

काशी विश्वनाथ धाम मंडी प्रोजेक्ट की शुरूआत आज से करीब 2 साल कुछ महीने पहले हुई थी। इस प्रोजेक्ट की आधारशिला पीएम मोदी ने 8 मार्च, 2019 को रखी थी और आज लगभग  33 महीने बाद यहां पर मशीनों का शोर पूरी तरह थम चुका है और काशी विश्वनाथ धाम ने भव्य स्वरुप ले लिया है। इस प्रोजेक्ट का काम 12 दिसंबर 2021 को ही पूरा हो चुका है और 13 दिसंबर 2021 को मोदी जी इसका उद्घाटन करेंगे। 

इसे जरूर पढ़ें:बनारस घूमने का बना रहे हैं प्लान, तो इन जगहों को करें एक्सप्लोर 

क्या है काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट

काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर प्रोजेक्ट नरेंद्र मोदी ने कई ख़ास वजहों से किया। दरअसल इस स्थान से उनका पुराना नाता तो है ही, वो इस स्थान को हजारों साल पुराने कशी विश्वनाथ धाम जैसा खूबसूरत बनाना चाहते थे। जिसके लिए उन्होंने इस प्रोजेक्ट का आरंभ किया। मोदी जी पहले जब भी विश्वनाथ मंदिर का दौरा करते थे उनके मन में की भव्यता वापस लाने का ख्याल ही आता था। 2014 में पीएम बनने के बाद पवित्र शहर के विकास और परिवर्तन की योजना उनका मुख्य उद्देश्य बन गया। मोदी जी ने काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट के लिए  न केवल आर्किटेक्ट्स को शुरुआती ब्रीफिंग दी, बल्कि आर्किटेक्चरल डिजाइन के लिए लगातार इनपुट और अंतर्दृष्टि भी दी, जिसमें प्रोजेक्ट के 3डी मॉडल के जरिए समीक्षा भी शामिल थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे उद्घाटन 

vishvnath dham project  pm modi

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी आज, 13 दिसंबर को काशी विश्वनाथ धाम के पहले चरण का उद्घाटन करेंगे। पीएम मोदी के इस कार्यक्रम को भव्य बनाने के लिए पूरी काशी नगरी में जबरदस्त तैयारियां की गई हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उद्घाटन के समय इस स्थान पर  200 से ज्यादा कर्मचारी तैनात रहेंगे। इस परियोजना का निर्माण 339 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है और यह मंदिर को गंगा नदी के तट से जोड़ने के लिए आसानी से सुलभ मार्ग बनाने के लिए किया गया है। 

इसे जरूर पढ़ें:शादी के लिए बनारस के ये 3 बेहतरीन मंदिर, आप भी जानें

Recommended Video


पीएम मोदी काल भैरव मंदिर भी जाएंगे

पीएम मोदी काल भैरव मंदिर भी जाएंगे और गंगा आरती के साक्षी बनेंगे। पीएम मोदी बिहार और नागालैंड के डिप्टी सीएम के साथ 12 बीजेपी नीत राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ एक सम्मेलन में भी भाग लेंगे। सम्मेलन में असम, अरुणाचल प्रदेश, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, मणिपुर, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री शामिल होंगे।

इस प्रकार काशी विश्वनाथ धाम प्रोजेक्ट वास्तव में कुछ ख़ास है जो पर्यटकों के सामने जल्द ही नए रूप में आने को तैयार है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।