अक्सर लड़कियां तलाक या ब्रेकअप के लिए खुद को जिम्मेदार मानती हैं। उन्हें लगता है कि अगर वक्त रहते उन्होंने अपने पार्टनर से खुलकर बात की होती या माफी मांग ली होती, तो शायद आज यह नौबत नहीं आती। जिसका नतीजा यह होता है कि रिश्ता टूटने या खराब एक्सपीरियंस के कारण लड़कियां आगे नहीं बढ़ पाती हैं। वह यह मान के बैठ जाती हैं कि अब उनकी जिंदगी यहीं पर रुक गई है और जो भी हुआ वह उनकी किस्मत में लिखा था। जबकि ऐसा कर के आप किसी को कुछ साबित नहीं करती हैं बल्कि इससे आपकी खुद की मानसिक और शारीरिक सेहत खराब होती है। प्यार करना, खुश रहना और खुलकर जिंदगी जीना हर इंसान का हक है। चाहे आपकी जिंदगी में वह इंसान हो या नहीं, जिसके साथ आप खुश रहती थी। लेकिन आपकी लाइफ में जो हो रहा है उसे स्वीकार कर के आपको आगे बढ़ना चाहिए। आज हम ब्रेकअप या तलाक के बाद खुश रहने के कुछ ऐसे सांइटिफिक लॉजिक बता रहे हैं जिन्हें आपको भी मानना पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें: इन relationship goals से रहें बचकर, यह आपके रिश्ते को बना देंगे toxic

जिंदगी का अंत नहीं है ये

breakup and  unsuccessful  life inside

आपको प्यार में धोखा मिला है या आपका तलाक हो गया है, तो इससे न ही दुनिया रुकेगी और न ही आपका जीवन रुकेगा। अपने आप को हमेशा यह एहसास दिलाएं कि आगे बढ़ने और खुश रहने के लिए आपके पास अभी भी बहुत सी चीजें हैं। अगर तमाम कोशिशों के बावजूद आपका मूड सही नहीं हो रहा है तो अपने फ्रेंड्स के साथ कहीं बाहर घूमने जाएं, डांस सीखें, कुकिंग करें या रीडिंग, कुछ ऐसा करें जो आपको बढ़ने में मदद करे। आप नहीं जानते कि कब आपको जिंदगी में सच्चा प्यार और पहले वाली खुशियां वापिस मिल जाएं।

मानसिक स्वास्थ्य को प्राथमिकता दें

breakup and  unsuccessful  life  inside

यह सच है कि तलाक या रिलेशनशिप में खराब एक्सपीरियंस के बाद आगे बढ़ना मुश्किल होता है। लेकिन आपको पता होना चाहिए कि आपके उदास रहने, रोने या ज्यादा सोचने से आपकी मेंटल हेल्थ खराब होगी। इसलिए किसी और की गलती से अपना नुकसान न करें। अगर आप डिप्रेशन में चली गई हैं और चाहकर भी खुद को बाहर नहीं निकाल पा रही हैं तो मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों से मदद लें।

इसे भी पढ़ें: पहली डेट की एक्साइटमेंट के चक्कर में कहीं इन बातों को न जाएं भूल

खुद से प्यार करना सीखें

breakup and  unsuccessful  life  inside

हमारे समाज में 'बदनामी' एक ऐसा शब्द है जिससे बचने के लिए लोग दूसरों के हिसाब से अपनी जिंदगी जीते हैं। अगर तलाक के बाद खुश रहने के लिए लोग आपको अप्रत्यक्ष रूप से रोक रहे हैं तो आप किसी की न सुनें। किसी और को यह तय न करने दें कि आपका चरित्र कैसा है या तलाक के बाद कैसा होना चाहिए। आपको खुद पता होना चाहिए कि आप कैसी हैं। अपने जीवन की छोटी छोटी खुशियों को वापिस लाएं। पहले की तरह पार्लर जाएं, पेडीक्योर करवाएं, स्पा लें, शॉपिंग करें, पार्टीज में जाएं और फ्रेंड्स के साथ मूवी देखें। इससे आपको तनाव नहीं घेर पाएगा और आप खुद से प्यार करने लगेंगी।