पार्टी में काफी एक्‍सपेरीमेंट करने के बाद आखिरकार कांग्रेस को अपने समर्थकों की वर्षों पुरानी मांग को पूरा करना पड़ा और प्रियंका गांधी को राजनीति के आखाड़े में उतारना पड़ा। हालाकि जब वर्ष 1988 में मंच पर खड़े होकर 16 वर्ष की प्रियंका गांधी ने पहला भाषण दिया था तब ही कांग्रेस के समर्थकों ने प्रियंका को पार्टी में शामिल करने का प्रस्‍ताव रखा था। उनकी यह अधूरी मांग 31 साल बाद पूरी हो ही गई। हालाकिं सुनने में तो यह भी आया था कि प्रियंका वर्ष 2014 के आम चुनाव ही लड़ना चाहती थीं मगर प्रियंका का मन वाराणासी से चुनावा लड़ने का था और वह पीएम मोदी से टक्‍कर लेना चाहती थीं। मगर, तब ऐसा न हो सका। खैर, आपको बता दें कि प्रियंका गांधी के हाव-भाव और तेवरों को देख कर हमेशा ही उनकी तुलना इंदिरा गांधी से की जाती रही है। प्रियंका के चेहरे पर इंदिरा की झलक देख तो कई लोगों ने यह तक कह डाला कि प्रियंका ही कांग्रेस की नइया को पार लगा सकती हैं। मगर, प्रियंका हमेशा सायलेंट मोड पर रहीं। उन्‍होंने पार्टी के लिए प्रचार प्रसार जरूर किए मगर, राजनीति के दंगल में उतरने की अपनी मंशा का शो-ऑफ उन्‍होंने कभी नहीं किया। तो चलिए आज हम आपको राजनीति की इस महिला महाराथी के कुछ दिलचस्‍प किस्‍से सुनाते हैं। 

 interesting facts about politician priyanka Gandhi

प्रियंका पर पार्टी की जिम्‍मेदारी 

प्रियंका गांधी को पार्टी ने वाइस प्रेसिडेंट बना कर पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की जिम्‍मेदारी सौंपी है। राजनीति के नजरिए से यह बहुत महत्‍वपूर्ण क्षेत्र है। प्रियंका के कंधे पर इस क्षेत्र में कांग्रेस की पकड़ को मजबूत बनाने का प्रेशर है। आपको बता दें कि प्रियंका का जन्‍मदिन 12 जनवरी को होता है। इसलिए उन्‍हें इसी महीने में पार्टी का वाइस प्रेसिडेंट बना कर तोहफा दिया गया है। 

इसे जरूर पढ़ें:  प्रियंका वाड्रा से लेकर डिंपल यादव तक ये हैं इंडिया की मोस्ट स्टाइलिश महिला नेता

मां की परछाईं हैं प्रियंका 

पिता राजीव गांधी की हत्‍या के वक्‍त प्रियंका गांध 19 वर्ष की थीं। जब मां सोनिया गांधी ने पार्टी की कमान संभाली तो प्रियंका ने भी तय कर लिया की मां का साथ कभी नहीं छोड़ेंगी और वह हमेशा सोनिया की परछाई बन कर रहीं। जब-जब चुनाव आते तो वह अपनी मां के प्रचार प्रसार का काम संभाल लेतीं। इतना ही नहीं वह चुनाव क्षेत्रों में जा कर वहां का दौरा करतीं। लोगों से बात करतीं। 

मोदी और योगी से टक्‍कर 

राजनीति के गलियारों में आजकल एक ही नाम का डंका बज रहा है और वह हैं प्रियंका गांधी वाड्रा। केवल अमेठी और रायबरेजी जैसे क्षेत्रों तक सीमित रहने वाली प्रियंका का मुकाबला अब मोदी और योगी सरकार से है। सवाल यह है कि क्‍या इंदिरा गांधी जैसी दिखने वाली प्रियंका पीएम मोदी के आक्रमक भाषणों का सामना कर पाएंगी? तो इससे पहले कि आप जवाब टटोलने लगे हम आपको बता देते हैं कि प्रियंका को भले ही पार्टी पद अभी मिला हो मगर पार्टी में वह लंबे समय से सक्रीय रह चुकी हैं। एक भाषण के दौरान जब मोदी ने प्रियंका को अपनी बेटी जैसा कहा तो इस पर प्रियंका का कहना था ‘मैं राजीव गांधी की बेटी हूं।’ प्रियंका के इन तेवरों को देख कर तो यही लगता है कि अपनी दादी की उनमें केवल झालक ही नहीं है बल्कि उनके तेवर भी वैसे ही हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:  प्रियंका गांधी के बारे में ये 5 बातें नहीं जानती होंगी आप

 interesting facts about politician priyanka Gandhi

पॉलिटिक्‍स में नहीं आना चाहती थीं प्रियंका 

देश के सबसे बड़े सियासी घराने की बेटी प्रियंका गांधी। जिनकों पैरों के नीचे सियासत कबसे लाल कालीन बिछाने को बेताब थी मगर, वह प्रियंका ही थीं जो पॉलीटिक्‍स को हमेशा ना ना कहती रहीं। कए पुराने मीडिया इंटरव्‍यू में जब उनसे पूछा गया कि वह राजनीति में आने से डरती हैं तो उनका जवाब था, ‘नहीं डर नहीं लगता, मगर मैं राजनीति में नहीं आना चाहती। मैं यह भी नहीं कहती कि ऐसा हो नहीं सकता। लाइफ कभी किसी चीज को नेवर नहीं कहना चाहिए। अगर जरूरत पड़ी तो मुझे आना ही होगा। मगर, फिलहाल मैं राजनीति से दूर रहना चाहती हूं।’

प्रियंका के पॉलिटिक्‍स में आने पर लोगों की खुशी 

अब तक घर गृहस्‍थी में सिमटी प्रियंका को राजनीति में आता देख जहां विरोधियों के पसीने छूट गए हैं वहीं वैंटीलेटर पर पड़ी कांग्रेस पार्टी में नई जान आ गई है। कोई कह रहा है ‘इंदिरा वापिस आगई’ तो कोई कह रहा है ‘अब होगा चमतकार’। लोग तो राहुल के डिसीजन की भी तारीफ कर रहे हैं और बोल रहे हैं ‘राहुल ने मार्स्‍टस्‍ट्रोक मार दिया है’ तो कोई बोल रहा है ‘गेमचेंज ने एंट्री ले ली है।’ प्रियंका के राजनीति में आने से लोगों में खुशी है। उन्‍हें प्रियंका से उम्‍मीद है कि वह इंदिरा जैसा ही करिश्‍मा दिखाएंगी। 

 interesting facts about politician priyanka Gandhi

दिलचस्‍प किस्‍से 

  • प्रियंका भले ही राजनीति में सक्रीय रूप से अब शामिल हुई हों मगर इन सबके बावजूद वह अपने भाई राहुल गांधी को पार्टी से जुड़े हर फैसले पर सलाह देती रही हैं और प्रियंका की सलाह पर राहुल ने पार्टी में काफी बदलाव भी किए हैं। 
  • कोई भी अवसर हो प्रियंका हमेशा कॉटन की साडि़यां ही पहनती हैं। एक समारोह में वह अपनी दादी इंदिरा गांधी की साड़ी पहन कर आई थीं। यह बात उन्‍होंने खुद ही बताई थी। वह बेहद साधारण रहती हैं। लोगों को उनकी यही सादगी बहुत पसंद है। 
  • प्रियंका अपने पति रॉबर्ट वाड्रा से 13 साल की उम्र में मिली थीं. शादी के पहले 6 साल तक एकसाथ थे. इसके बाद उन्होंने परिवार को अपने रिश्ते के बारे में बताया. प्रियंका और रॉबर्ट के रिश्ते को लेकर पहले गांधी परिवार राजी नहीं था. लेकिन प्रियंका दादी इंदिरा की तरह ही अपने प्यार के लिए अड़ गईं. आखिरकार दोनों ने शादी की. रॉबर्ट ने एक इंटरव्‍यू के दौरान बताया था कि उन्होंने प्रियंका को घुटने पर बैठकर प्रपोज नहीं किया था, बल्कि दोनों ने साथ बैठकर इस रिश्ते के लिए हामी भरी थी।
  • दादी इंदिरा गांधी की हत्या के बाद राहुल और प्रियंका ने अपनी स्‍कूली पढ़ाई को घर से ही जारी रखा था। उन्‍हें कुछ समय के लिए न किसी से मिलने दिया जाता था न वह घर से बाहर निकल पाते थें। उन्हें 24 घंटे सुरक्षाकर्मियों के साये में रहना पड़ता था।
  • प्रियंका गांधी ने वैसे दिल्ली के मॉडर्न स्कूल से पढ़ी हैं। यह स्‍कूल आज भी दिल्‍ली के सबसे अच्‍छे स्‍कूल में गिना जाता है। इसके बाद उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के जीसस एंड मैरी स्कूल से साइकॉलोजी की डिग्री हासिल की।
  • प्रियंका पहले काफी गुस्सैल स्वभाव की थीं मगर अब उनके सॉफ्ट नेचर की वजह से लोग उन्‍हें बहुत पसंद करते हैं। अपने स्‍वभाव में बदलाव वह योगा की मदद से कर पाई हैं। प्रियंका रोज नियम से 1 घंटे योगा करती हैं। 
  • प्रियंका को फोटोग्राफी, कुकिंग, और पढ़ना खासा पसंद है. प्रियंका को बच्चों से खासा लगाव है. उन्होंने ही राजीव गांधी फाउंडेशन के बेसमेंट में बच्चों के लिए लाइब्रेरी शुरू कराई जिसका इस्तेमाल रोजाना कई बच्चे करते हैं.
  • 1997 में प्रियंका और रॉबर्ट की शादी काफी लो-प्रोफाइल तरीके से हुई थी। शादी में महज 150 मेहमानों को निमंत्रण दिया गया। इन मेहमानों में बच्चन परिवार भी शामिल था।