कितना अद्भुत अनुभव होता है, जब कोई व्यक्ति अपनी तमाम परेशानियों से लड़कर एक मुकाम पर पहुंचता है। अगर यह कोई महिला करे, तो खुशी दोगुनी होना लाजिमी है। ऐसी कितनी महिलाएं हैं, जिन्होंने अपने काम से लोगों को चौंका दिया। ऐसी एक देश की बेटी भावना जाट ने टोक्यो ओलंपिक 2021 क्वालिफाई करके अपने परिवार और देश का नाम रौशन किया है।

भारत ने टोक्यो ओलपिंक के लिए जो 127 नाम भेजे हैं, उनमें एक नाम भावना जाट का भी। भावना रेसवॉकिंग एथलीट हैं, जिन्होंने तमाम बाधाओं को पार करने के बाद अपनी कामियाबी की कहानी लिखी। आइए जानें उनके अब तक के सफर के बारे में विस्तार से जानें।

राजस्थान के एक छोटे से गांव से हैं भावना

bhawna jatt qualifies for tokyo olympics

भावना जाट राजस्थान के राजसमंद जिले के रेलमगरा के पास स्थित काबरा गांव की रहने वाली हैं। उनका जन्म 3 जनवरी 1996 में एक किसान परिवार में हुआ। तीन बच्चों में सबसे छोटी भावना ने 13 साल की उम्र से ही रेसवॉकिंग शुरू कर दी थी। आर्थिक तंगी के कारण उन्हें बीच में ही अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी थी।

उनके टीचर ने पहचानी प्रतिभा

13 साल की उम्र में जब उन्होंने रेसवॉकिंग शुरू की, तब उनके फिजिकल एजुकेशन के टीचर हीरा लाल कुमावत ने उनकी प्रतिभा पहचानी और उन्हें जिला स्तरीय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में ले लिया, जहां केवल 3000 मीटर रेस वॉक में स्लॉट उपलब्ध थे। वह इस आयोजन में दूसरे स्थान पर रहीं।

रूढ़िवादी सोच से लड़कर आगे बढ़ीं

indian athlete bhawna jatt biography

भावना ने आर्थिक तंगी और पड़ोसियों के ताने जैसी कई मुश्किलों का सामना किया। भावना एक ऐसे गांव से हैं, जहां आज भी महिलाओं को घर से बाहर निकलने पर रोक लगाई जाती है। उनके पड़ोसी और गांव वाले उनके पिता पर दबाव डाला करते थे कि उन्हें घर से बाहर न निकलने दिया जाए। मगर भावना के पिता और उनके भाइयों ने उनका पूरा साथ दिया। पड़ोसियों के तानों से बचने के लिए भावना तड़के 3 बजे ही प्रैक्टिस पर निकल जाया करती थीं, ताकि कोई उन्हें देख न सके।

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics 2021: डिस्कस थ्रोअर सीमा पूनिया हैं दूसरों के लिए मिसाल, जानें इनसे जुड़ी कुछ बातें

ऐसे मिली उपलब्धि

साल 2014 और 2015 के बीच, भावना ने जोनल और राष्ट्रीय जूनियर स्तर की प्रतियोगिताओं में पदक जीते। साल 2016 में, उन्होंने भारतीय रेलवे हावड़ा, पश्चिम बंगाल में एक टिकट कलेक्टर के रूप में नौकरी की।

2019 में ऑल इंडिया रेलवे प्रतियोगिता में 20 किलोमीटर की रेसवॉकिंग में उन्होंने गोल्ड मेडल जीता था। 20 किलोमीटर की दूरी को उन्होंने 1:36:17 सेकेंड में पूरा किया था।

इसे भी पढ़ें :मिलिए पहलवान सोनम मलिक से जिन्होंने सबसे कम उम्र में ओलंपिक के लिए किया क्वालिफाई

उन्होंने रांची में 2020 में हुए नेशनल चैंपियनशिप में नया रिकॉर्ड बनाया। राष्ट्रीय ओपन चैंपियनशिप में फरवरी 2020 में उन्होंने 1:29:54 का समय लेकर रेसवॉकिंग का राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ा और 2020 समर ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया, जिसमें 1:31:00 क्वालिफाइंग टाइम था।

Recommended Video

कई बेटियों के लिए बन गई एक प्रेरणा

जैसा कि हम बता चुके हैं कि भावना एक ऐसे गांव से हैं, जहां आप भी लड़कियों को लेकर लोगों की रूढ़िवादी सोच है। भावना ने इन सब बाधाओं से हार न मानकर अपने लिए एक मुकाम बनाया है। भावना का टोक्यो ओलंपिक तक का सफर न केवल उनके गांव, बल्कि प्रदेश में अभावों से जूझ रही बेटियों को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगा।

ओलंपिक में हिस्सा लेना भावना के लिए एक नई चुनौती है, हालांकि हमें उनकी काबिलियत पर पूरा भरोसा है। आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो इसे लाइक और शेयर करें। ऐसी जांबाज महिलाओं की प्रेरणादायक कहानियों को पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ। 

Image Credit : www.instagram.com/bhawnajat & sportsinap