समय बदल गया है। अब आज के दौर में कोई भी किसी से कम नहीं है। जहां पुरुष आपना पैर जमाये बैठें थे आज वहां महिलाएं भी दस्तक दे चुकी है। आज हर फिल्ड में महिलाएं अग्रणी है। कदम-कदन पर कंधे से कंधा मिला के हर नौकरी पेशा फिल्ड में महिलाएं पहुंच चुकी है। यही वजह है कि अब महिलाओं को किसी काम के लिए पीछे भागना नहीं पड़ता है। लेकिन देश में कुछ ऐसे भी जगह है जहां महिलाओं को नौकरी के लिए नहीं रखा जाता है। लेकिन इन सभी पहलुओं को पीछे छोड़ते हुए दक्षिण भारत के केरल की दो महिलाएं आज मिसाल बन चुकी है। जिन्होंने अपने मेहनत और लगन से दिखा दिया है कि जो काम इंडियन कॉफी हाउस ने अपने 61 साल के लंबे इतिहास में नहीं किया उस काम को करना पड़ा। इन दोनों महिलाओं की मेहनत को देखते हुए आखिरकार इंडियन कॉफी हाउस को अपने यहां जॉब देना ही पड़ा। इससे पहले इंडियन कॉफी हाउस ने अपने 61 साल के समय में किसी भी महिला को नौकरी पर नहीं रखा था लेकिन अब यहां धीरे-धीरे महिलाओं के काम को देखते हुए उन्हें नौकरी पर रखा जा रहा है। उन दो महिलाओं के बारे में जिन्होंने यहां तक का सफर तय किया और कैसे-  

इसे भी पढ़ें: Women Achiever: रूपा गुरुनाथ बनीं तमिलनाडु क्रिकेट असोसिएशन की पहली महिला अध्यक्ष

श्रीकुट्टी और शीना- 

indian coffee house recruits two women first time inside

श्रीकुट्टी और शीना इस साल इंडियन कॉफी हाउस द्वारा भर्ती की गई 10 महिलाओं में शामिल थी जो ग्रामिण इलाको से आती है। इस ग्रामिण इलाके में किसी भी आधुनिक काम को लेकर बड़ा सवाल उड़ता रहा है लेकिन श्रीकुट्टी और शीना की मेहनत ने इस ग्रामिण जगह से निकाल के उस मुकाम तक पहुचा दिया है, जिसका श्रीकुट्टी और शीना कभी सपना देखती थी। आज श्रीकुट्टी और शीना इंडियन कॉफी हाउस में रसोईया का काम करने पर बहुत खुश है। 

इंडियन कॉफी हाउस-

indian coffee house recruits two women first time inside

1958 में भारत के लगभग कई हिस्से में इंडियन कॉफ़ी हाउस को खोला गया। लेकिन इन 61 साल में अभी तक किसी भी महिला को इस होटल में काम के लिए चयनित नहीं किया गया था। श्रीकुट्टी और शीना के काबलियत और उनके खाने बनाने के बेहतरीन तरीके को देखते हुए इंडियन कॉफी हाउस को रखना पड़ा। 

क्या कहते हैं कॉफी हाउस के मालिक- 

indian coffee house recruits two women first time inside

इंडियन कॉफी हाउस के निदेशक में शामिल अनिल कुमार कहते हैं कि शीना ने जब पहली बार पुरुष कर्मचारियों के साथ महिला कर्मचारियों को जोड़ने के बारे में सोचने के लिए मजबूर किया था तब हमें अस्वीकार करना पड़ा क्योंकि हमने इससे पहले महिलाओं को काम पर नहीं रखा था। लेकिन बाद में सभी सचिवो से बात करने पर यह र्निणय लिया गया कि अब इस संस्था में महिलाओं को भी नौकरी पर रखा जाएगा। अब यहां पर महिलाओं को परीक्षण के बाद नौकरी पर आसानी से रखा जाता है। यह कहना है अनिल कुमार का। 

कौन और क्या कहती श्रीकुट्टी और शीना-

श्रीकुट्टी और शीना केरल के तिरुवंतपुरम के ग्रामिण जगह से आती है। श्रीकुट्टी कहती है कि "मैं खुश हूं कि मुझे यहां काम मिला है। और यहां तक कि मेरे आसपास के सभी लोग भी इस नौकरी से खुश है। चार महीने पहले अपने पति को खोने के बाद 24 वर्षीय श्रीकुट्टी कहती है इंडियन कॉफी हाउस में नौकरी से उन्हें अपने दो बच्चों की जरूरतों का ख्याल रखने में काफी मदद मिलती है। वही नौकरी मिलने पर शीना भी बहुत खुश है। 

इसे भी पढ़ें: Inpiring Woman: अनुप्रिया लाकड़ा बनीं देश की पहली आदिवासी महिला पायलट, महिलाओं के लिए इंस्पिरेशन

आम लोगों कि राय- 

indian coffee house recruits two women first time inside

इंडियन कॉफी हाउस ने महिला कर्मचारियों को नौकरी देने के फैसले का होटल के ग्राहकों द्वारा भी स्वागत किया गया है। एक कर्मचारी का कहना है कि 'मैं इंडियन कॉफी हाउस में एक नियमित रूप से कर्मचारी रहा हूँ और आश्चर्य करता था कि यहां महिलाओं को रोजगार क्यों नहीं दिया जाता है। लेकिन अब मुझे खुशी है कि इंडियन कॉफी हाउस ने महिलाओं को शामिल करने का निर्णय लिया है। यह एक स्वागत योग्य कदम है'।