महिलओं की सुंदरता को निखारने में ज्वैलरी का बहुत बड़ा रोल होता है और ज्वैलरी से महिलाओं का रिश्ता बहुत पुराना है अब तक गोल्ड, सिल्वर, ब्लैक मेटल व व्हाइट मेटल से तैयार ढेरों ज्वैलरी महिलाओं को सुंदर बनाने के काम आती है, लेकिन अब पेपर से बनी ज्वैलरी ट्रेंड में है। इस नई तरह की ज्वैलरी के प्रति टीनएजर्स से लेकर मिड एज तक की महिलाओं का क्रेज देखने को मिल रहा है पेपर से तैयार होने वाली यह ज्वैलरी कई तरह से फायदेमंद साबित हो रही है। कम कीमत व लाइट वेट के कारण इसे पसंद करने वालों की कमी नहीं है। 

क्या है पेपर ज्वैलरी

paper jew  neck inside  

अपने लुक को बहतरीन बनाना हो तो पेपर ज्वैलरी अच्छा ऑबशन है, ग्रूमिंग में  हमेशा से ही एक्सेसरीज फिनीशिंग टच का काम करती हैं। इससे कलर, फ्लेयर और स्टाइल आपके पूरे लुक में शामिल होते हैं। एक्सेसरीज में यूं तो बहुत सारी चीजे आती हैं लेकिन ज्वैलरी एक खास स्टेटमेंट बनकर आपकी पर्सनॉलिटी को उभारती है। इन्हीं खास एक्सेसरीज में ज्वैलरी का एक नया ट्रेंड पेपर ज्वैलरी के नाम से उभर रहा है। क्या है खास इस ज्वैलरी में जानते हैं पेपर ज्वेलरी में इयररिंग, ब्रेसलेट, सिंगल पेंडेंट सेट तैयार किए जाते हैं। यह फंकी लुक, सिंपल लुक के तौर पर काफी पसंद की जाती है।

इसे भी पढ़ें: ऑफिस में नहीं दिखना है बहनजी तो एथनिक लुक के लिए ये टिप्स अपनाएं और स्मार्ट कहलाएं

कैसे और किससे बनाएं

 पेपर ज्वैलरी बनाने के लिए पहले रॉ मटेरियल तैयार किया जाता है। फिर इसे हाथ से विभिन्न आकृतियों में ढाला जाता है। इसे जोड़ने, मजबूत और सख्त करने, रंग करने और वाटरप्रूफ बनाने में काफी सावधानी बरती जाती है। पेपर क्वीलिंग से भी  ज्वैलरी तैयार की जाती है। इसके लिए थिक शीट वाले पेपर का इस्तेमाल किया जाता है। कटिंग व डिजाइनिंग के जरिए इसे आभूषण के रूप में ढ़ाला जाता है। इसमें इयररिंग की रेंज 25 रुपए से शुरू होती है, वहीं सिंगल पेंडेंट की रेंज 100 रुपए से शुरू होती है। ब्रेसलेट 35 रुपए तक में मिल जाते हैं।इसमें वुडन, ग्लास बीड्स, क्रिस्टल, कुंदन, स्टोन, पोलकी, प्लास्टिक बीड्स व सेमी प्रेशियस स्टोन का यूज किया जाता है, जो ज्वेलरी को अट्रेक्टिव व खूबसूरत बनाने में हेल्प करता है।

paper j  bang inside  

एलर्जिक या रिएक्शन नहीं करती

कई लोगों की स्किन सेंसिटिव  होती है और मेटल से उन्हें एलर्जी या रिएक्शन की समस्या हो जाती है।  लेकिन पेपर ज्वेलरी से ऐसा नहीं होता। स्किन सेंसटिव होने पर कई बार लोगों को मेटल से एलर्जी की प्रॉब्लम होने लगती है, ऐसे में पेपर ज्वैलरी उनके लिए बेस्ट सल्यूशन है। पेपर ज्वैलरी में इयररिंग, ब्रेसलेट, ब्रोच, नेकपीस जैसे कई एट्रैक्टिव आयट्म्स तैयार किए जाते हैं। इसमें बीड्स, क्रिस्टल, कुंदन, स्टोन, पोलकी, व स्टोन्स का  इस्तेमाल किया जाता है जो ज्वैलरी को अट्रैक्टिव व खूबसूरत बनाता है।

वाटरप्रूफ होती है  

पानी के संपर्क में आने पर भी पेपर ज्वैलरी खराब नहीं होती और न ही इस पर पसीने का असर होता है। इसमें रिसाइकिल पेपर का यूज करते हैं। इससे पर्यावरण से कार्बन घटता है और यह एन्वायरमेंट को कोई नुकसान नहीं पहुँचाता। मेटल ज्वेलरी की अपेक्षा इसकी कीमत काफी कम होती है। कुछ समय तक यूज करने के बाद इन्हें फेंका जा सकता है।

 

इसे भी पढ़ें: इन नेचुरल चीजों से सौम्या टंडन रखती हैं अपनी स्किन और फिगर का ख्याल 

बेहतरीन डिजाइंस

पेपर ज्वैलरी के एक से बढ़ कर एक डिजाइन सभी को आकर्षित करते है अन्य ज्वैलरी की तुलना में ये  ज्यादा क्रीएटिव होती है, ऐसे में देखने बेहद खूबसूरत लगती हैं। इसको बनाने का तरीका भी आसान है यदि आप ये ज्वेलरी  घर पर खुद भी बना सकती हैं। पेपर ज्वैलरी को सभी लोग पसंद करते हैं। किसी पार्टी, फंक्शन में जाते वक्त या दोस्तो के संग घूमते वक्त आप कभी भी पहन सकती है।

paper jew  set inside

इको-फ्रेंडली

इसमें रिसाइकिल पेपर का यूज़ करते हैं, जिससे पर्यावरण से कार्बन कम होता है और पर्यावरण को कोई नुकसान नहीं पहुंचता।

लाइट वेट और कीमत भी कम

कम कीमत व लाइट वेट इस ज्वैलरी की ये एक और खासियत है। अपनी इस खूबी के कारण इसे हर कोई पसंद करता है। कुछ समय तक यूज़ करने के बाद  अगर आप इस  ज्वैलरी से बोर हो चुके है तो आप इन्हें फेंक सकती हैं। सस्ती होने के कारण कोई गम भी नहीं होता है