• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

भगवान कृष्ण से जुड़ा है इस चर्चित मंदिर का इतिहास, आप भी जानें

इस लेख में उस मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें एक बाण से तीन लोगों पर विजय प्राप्त करने का वरदान मिला था।
author-profile
Published -08 Aug 2022, 16:36 ISTUpdated -08 Aug 2022, 17:17 IST
Next
Article
khatu shyam temple history in hindi

भारत की संस्कृति और आध्यात्मिकता की चर्चा सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विश्व भर में हैं। इस देश में हर कदम पर आपको एक से एक भव्य और प्राचीन मंदिर मिल जाएंगे जिसके बारे में आपने भी नहीं सुना होगा।

भारत में मौजूद हजारों साल प्राचीन मंदिरों की कहानी बेहद दिलचस्प हैं। इन्हीं में से एक है खाटू श्याम मंदिर। फेमस खाटू श्याम मंदिर को श्री कृष्णा का ही रूप माना जाता है। इस लेख में हम आपको खाटू श्याम मंदिर से जुड़ी कुछ दिलचस्प कहानियों के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं।

खाटू श्याम मंदिर कहां और क्या है इतिहास?

all about khatu shyam temple history

आपको बता दें कि प्रसिद्ध खाटू श्याम मंदिर राजस्थान के सीकर में स्थित है। इस प्राचीन मंदिर में हर दिन हजारों की संख्या में भक्त दर्शन के लिए पहुंचते हैं। खासकर जन्माष्टमी के दिन इस मंदिर में सबसे अधिक भीड़ रहती है, क्योंकि इस मंदिर को भगवान कृष्ण जी का ही रूप माना जाता है। (भारत के अनेखे मंदिर)

अगर खाटू श्याम मंदिर के इतिहास के बारे में जिक्र करें तो इसका इतिहास बेहद ही दिलचस्प है। कहा जाता है कि इस मंदिर का इतिहास हजारों साल पुराना है। इस मंदिर को लेकर यह मान्यता है कि खाटू श्याम को वर्तमान समय में (कलयुग) का देवता माना जाता है। 

इसे भी पढ़ें: जानें भारत के प्राचीन मंदिरों के बारे में, जिसका वर्षों पुराना है इतिहास

खाटू श्याम मंदिर की पौराणिक कथा

khatu shyam temple

खाटू श्याम मंदिर को महाभारत काल से जोड़कर देखा जाता है। ऐसी मन्यता है कि भीम का हिडिम्बा के पुत्र घटोत्कच का एक पुत्र था जिसका नाम बर्बरीक था। मान्यता थी कि बर्बरीक को भगवती जगदम्बा से अजेय होने का वरदान प्राप्त था।

जब महाभारत युद्ध शुरू होने वाली थी तब बर्बरीक कुरुक्षेत्र की ओर प्रस्थान किया। इसी दौरान उसकी मुलाकात श्री कृष्ण से हुई। जब कृष्णा ने पूछा कि तुम किसकी तरफ से युद्द लड़ने वाले हो तो उन्होंने कहा कि जो पक्ष हार रही होगी उसकी तरफ से लडूंगा। तब श्री कृष्ण ने उन्हें रोकने के लिए दान के रूप में शीश मांग लिया, लेकिन बर्बरीक के इच्छा जाहिर की कि शीश युद्ध वाली जगह रख दीजिए ताकि युद्ध देख सकू। इस बलिदान से श्री कृष्ण बहुत खुश हुए और उन्होंने वरदान दिया कि भविष्य में आपको श्याम के नाम से पूजा जाएगा।

Recommended Video

इसे भी पढ़ें: तस्वीरों में देखिए दुनिया के 10 सबसे भव्य मंदिरों की एक झलक, भारत नहीं इस देश में है सबसे बड़ा मंदिर

खाटू श्याम मंदिर कैसे पहुंचें?    

about khatu shyam temple history in hindi

खाटू श्याम आप आसानी से पहुंचा सकते हैं। यह मंदिर जयपुर से लगभग 80 किमी की दूरी है। सबसे पास में रींगस रेलवे स्टेशन है। यहां से आप टैक्सी या कैब लेकर आसानी से जा सकते हैं। जयपुर एयरपोर्ट से भी आप खाटू श्याम मंदिर मंदिर जा सकते हैं। एयरपोर्ट से लगभग 95 किमी की दूरी पर है यह मंदिर।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे लाइक, शेयर और कमेंट्स ज़रूर करें। इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@sutterstocks)

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।