बाजार में मिठाईयां नकली मिलती है। इस नकली मिठाई को खाने से हर साल हजारों लोग बीमार पड़ते हैं। इन बीमारियों से बचने के लिए ही लोग बाजार से मिठाई खरीदने के बजाय ही घर पर मीठाई बनाने लगे हैं। घर पर मिठाई बनानी आसान होती है। घर पर मिठाई बनाने के लिए कुछ बेसिक चीजों की जरूरत पड़ती है और फिर मावा तो सब में डाल दिया ही जाता है। 

बिना मावे के कोई मिठाई पूरी नहीं होती है और मावा तो बाजार से ही खरीदना पड़ता है। लेकिन क्या आपको मालूम है कि मावा भी नकली आता है? 

जी हैं, मावा भी नकली आता है। तो फिर क्या किया जाए? 

या तो मिठाई खाना छोड़ दें या फिर ऐसी मिठाई बनाएं जिसमें मावा नहीं डलता हो। जैसे कि गुलाबजामुन। 

या फिर, असली और नकली मावा की जांच कर नकली मावा खरीदने से बचें। क्योंकि नकली मावा का इस्तेमाल करने से भी कई तरह की बीमारियां होती हैं। 

नकली मावा

khoya sweet samosa inside

विशेषज्ञों के अनुसार जब एक किलो दूध को उबाला जाता है तो केवल 200 ग्राम मावा ही निकलता है। ऐसे में व्यापारियों को किसी तरह का फायदा नहीं होता है। फायदा प्राप्त करने के लिए ही व्यापारी मिलावटी मावा बनाते हैं। मिलावटी मावा बनाने में अक्सर शकरकंदी, सिंघाड़े का आटा, आलू और मैदे का इस्तेमाल होता है।

ऐसे करें नकली मावे की पहचान

मावा या खोया को अपने अंगूठे के नाखून पर रगड़ें। अलग यह असली होता तो इसमें से घी की महक आएगी और खुशबू देर तक रहेगी। क्योंकि दूध को बहुत देर तक उबालने से उसमें घी बनने लगता है। असली मावा में काफी घी होता है। 

khoya sweet samosa inside

गोली बनाएं 

मावा उठाकर हाथ में छोटी सी गोली बनाएं। अगर गोली फटने लगे और वह चिकनी ना बनें तो समझ जाएं की मावा नकली है। मावा में उपस्थित घी गोली को पूरी तरह से चिकना बना देता है। 

पानी में घोलें

2 ग्राम मावा का 5 मिलीलीटर गरम पानी में घोल लें और इसे ठंडा होने दें। ठंडा होने के बाद इसमें आयोडीन सोलूशन डालें। अगर खोया नकली होगा तो इसका रंग नीला हो जाएगा। मावे में थोड़ी चीनी डालकर गरम करने अगर यह पानी छोड़ने लगे तो यह नकली है। 

ये तो थे असली मावा को पहचानने के टिप्स। इन टिप्स को ट्राय करें और असली व नकली मावा की पहचान करें। 

Recommended Video

Read More: त्योहारों के खास मौके पर बनाएं राजस्थानी शाही मावा कचौड़ी