• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

यहां होती है भीम की पत्नी की पूजा, जानें मंदिर से जुड़े मिथक

अगर आप भी हिडिम्बा देवी मंदिर से जुड़े मिथक के बारे में जानना चाहते हैं तो इस लेख को ज़रूर पढ़ें।
author-profile
Published -11 Jul 2022, 08:30 ISTUpdated -10 Jul 2022, 18:23 IST
Next
Article
know about hidimba devi temple history in hindi

हिमाचल प्रदेश एक ऐसा राज्य है जो रामायण, महाभारत आदि कई धार्मिक ग्रंथों से जुडा हुआ है। यह राज्य कई पौराणिक कथा और मंदिरों के लिए भी प्रसिद्ध है। इन्हीं में से एक है हिडिम्बा देवी का मंदिर। हिमाचल प्रदेश के मनाली में मौजूद यह मंदिर भारतीय महाकाव्य के महाभारत के भीम की पत्नी हिडिम्बा देवी को समर्पित है। यह सिर्फ मनाली का ही नहीं बल्कि समूचे हिमाचल प्रदेश का एक लोकप्रिय मंदिर है। जो भी सैलानी मनाली घूमने के लिए जाता है वो इस मंदिर के दर्शन के लिए ज़रूर पहुंचता है। इस लेख में हम आपपको इस मंदिर से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं।

हिडिम्बा मंदिर का इतिहास?

Hidimba Devi Temple

यह प्राचीन मंदिर हिमालय पर्वतों के पास डुंगरी शहर के पास देवदार पेड़ों से घिरा हुआ है। पौराणिक कथा के अनुसार भीम और पांडव मनाली से जब जा रहे हैं थे तब उन्होंने हिडिम्बा को राज्य की देखभाल करने का जिम्मा दिया था। एक अन्य कथा है कि जब उनका बेटा घटोत्कच बड़ा हुआ तो उसे राज्य का भार देकर वो जंगल में ध्यान करने चली गई। कई वर्षों बाद उनकी प्रार्थना सफल हुई और देवी को गौरव प्राप्त हुआ। इस स्थान पर महाराजा बहादुर सिंह ने मंदिर का निर्माण करवाया था।

इसे भी पढ़ें: इन विचित्र गांवों के बारे में पढ़कर आप भी कुछ समय सोच में पड़ जाएंगे

हिडिम्बा देवी की पौराणिक कहानी?

Hidimba Devi Temple Myths In Hindi

हिडिम्बा पांडवों के दूसरे भाई यानी भीम की पत्नी थीं। कहा जाता है कि हिडिम्बा एक राक्षसी थी जो अपने भाई हिडिम्ब के साथ इस क्षेत्र में रहती थी। ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने कसम खाई थीं कि जो भी व्यक्ति मेरे भाई हिडिम्ब को युद्ध में हरा देगा उससे वो शादी कर लेंगी। कुछ समय बाद पांडव निर्वासन के समय यहां पहुचें और हिडिम्ब से लड़ाई हुई और लड़ाई में हिडिम्ब हार गया। युद्ध में बाद हिडिम्बा और भीम की शादी हो गई। (मनाली में इन मंदिरों का करें दर्शन)

Recommended Video

हिडिम्बा मंदिर के बारे में रोचक बातें

Hidimba Devi Temple Myths

  • हिडिम्बा मंदिर के बारे में कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण पैगोडा शैली में किया गया है। पैगोडा शैली में निर्मित होने की वजह से यह सैलानियों के बीच बेहद लोकप्रिय है।
  • आपको बता दें कि इस मंदिर का निर्माण पत्थर से नहीं बल्कि लकड़ी से किया गया है। इस मंदिर में चार छत है। नीचे तीन छत देवदार की लकड़ी से किया गया है और सबसे ऊपर धातु से निर्माण किया गया है।
  • इस मंदिर का दरवाजा भी लकड़ी का है। दरवाजे पर जानवर और फूल-पत्ती की तस्वीर है, जिसे हिडिम्बा का ही रूप माना जाता है।

महोत्सव का होता है आयोजन

जी हां, यहां हर साल विशाल महोत्सव का भी आयोजन होता है। श्रावण के महीने यह इस मंदिर के पास उत्सव का आयोजन होता है। कहा जाता है कि यह उत्सव राजा बहादुर सिंह की याद में मनाया जाता है। कहा जाता है कि यह मेला धान की रोपाई पूरा होने के बाद किया जाता है। स्थानीय लोगों का मानना है कि यह मंदिर इस मंदिर का निर्माण लगभग 500 प्राचीन से भी अधिक है। (भारत के प्राचीन मंदिरों के बारे में)

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@sutterstocks)

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।