• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

नेचर लवर्स के लिए खास तोहफा, सुहाने मौसम में बनाएं ‘Valley Of Flowers’ घूमने का प्लान

1 जून से विश्व धरोहर स्थल कहा जाने वाला ‘Valley Of Flowers’ 1 जून से खुल गया है। ऐसे में आप यहां वेकेशन पर घूमने जा सकते हैं। 
author-profile
Published -01 Jun 2022, 18:25 ISTUpdated -01 Jun 2022, 18:37 IST
Next
Article
Flower Valley ()

भारत अपने खूबसूरत प्राकृतिक दृश्यों के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक, भारत में कई ऐसी जगहें मौजूद हैं जिनके दृश्य आपका मन मोह लेंगे। वैली ऑफ फ्लावर्स भी इनमें से एक है, यह खूबसूरत जगह उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में स्थित है। साल 1982 में इस घाटी को विश्व संगठन यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर के रूप में घोषित किया गया। स्थानीय लोग इस जगह को देवता के निवास स्थल के रूप में भी जाना जाता है। 

इस खूबसूरत फूलों की घाटी में दुनिया के दुर्लभ वन्य जीव, फूल, जड़ी-बूटियां व पक्षी पाए जाते हैं। जिस कारण यहां का प्राकृतिक दृश्य हर किसी का मन मोह लेते हैं। 1 जून से यह वैली ऑफ फ्लॉवर यात्रियों के लिए खोल दिया गया है, जहां जाकर आप खूबसूरत नजारों का लुफ्त उठा सकती हैं। तो देर किस बात की, आइए जानते हैं इस जगह से जुड़ी खास बातों के बारे में- 

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान का हिस्सा है यह वैली- 

viral ad on women pregnancy ()

वैली ऑफ फ्लावर करीब 87.50 किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है। जो लगभग 2 किलो चौड़ी और 8 किलोमीटर लंबी है। यह खूबसूरत वैली(पारवती वैली) समुद्रतल से 3352 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। बता दें कि यह खूबसूरत वैली नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान का हिस्सा है। माना जाता है कि रामायण काल में प्रभु हनुमान यहीं से संजीवनी बूटी लेकर गए थे। 

 इसे भी पढ़ें- जून के महीने में नॉर्थ-ईस्ट की ये जगहें कपल्स के लिए होंगी बेस्ट

रंग बदलती है यह फूलों की घाटी- 

famous valley in india

स्थानीय लोग हमेशा से ही घाटी इस घाटी को देखते हैं। ऐसे में वो मानते हैं कि इस घाटी को भगवान और परियों द्वारा तैयार किया गया है। इतना ही नहीं यह फूलों की घाटी किसी जादुई दृश्य से कम नहीं है, माना जाता है कि हर 2 सप्ताह में यह अपना रंग बदलती है। यह कभी लाल रंग, कभी पीली तो कभी नीली नजर आने वाली यह घाटी हर पर्यटक को आकर्षित करती है। यहां पर 500 से अधिक प्रजातियों के फूल पाए जाते हैं , जिनमें एनीमोन, जर्मेनिया, मार्श, गेंदा, प्रिभुला, पोटेंटिल्ला, तारक और सौसुरिया शामिल है।

घाटी के खुलने का समय- 

flower valley

वैली ऑफ फ्लावर्स को केवल गर्मियों के मौसम मे जून से अक्टूबर तक के लिए खोला जाता है। बाकी के महीनों में यह घाटी बर्फबारी से भरी रहती है। ऐसे में घूमने के लिए यह 5 महीने का समय सबसे परफेक्ट है। 

इसे भी पढे़ें- दिल्ली की चिलचिलाती गर्मी से राहत पाने के लिए कम बजट में इन हिल स्टेशन की करें सैर

कैसे पहुंचे- 

दिल्ली शहर से वैली ऑफ फ्लावर्स तक पहुंचने के लिए आपको यह रूट फॉलो करना पड़ेगा। इसके लिए आपको दिल्ली से हरिद्वार, हरिद्वार से ऋषिकेश, ऋषिकेश से रुद्रप्रयाग, रुद्रप्रयाग से जोशीमठ, जोशी से गोविंदघाट तक वाया रोड पहुंचा जा सकता है। इसके बाद गोविंदघाट से घांघरिया और घांघरिया से फूलों की घाटी तक का सफर आपको ट्रैकिंग तय करना होगा। इसके अलावा आप चाहें तो हेलिकॉप्टर से भी इस घाटी के खूबसूरत नजारों को इंजॉय कर सकते हैं। 

तो ये थी वैली ऑफ फ्लावर से जुड़ी जरूरी जानकारियां, जिनके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी के साथ। 

Image Credit-  freepik

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।