दुनियाभर से लोग दिल्ली में घूमने के लिए आते हैं। यहां कई ऐसी ऐतिहासिक इमारतें हैं जिनकी दुनियाभर में तारीफ की जाती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि दिल्ली के कुतुब मीनार के पास एक ऐसी जगह है जिसका शायद ही किसी ने नाम सुना होगा। इस जगह को हिजड़ों के खानकाह के नाम से जाना जाता है। आप इसके नाम से ही समझ गए होंगे कि यह जगह किन लोगों के लिए बनी है। यह जगह किन्नरों के समुदाय को समर्पित है। यह जगह अपने आप में खास महत्व रखती है। आज हम आपको इस जगह के बारे में बताएंगे। आइए जानते हैं इस जगह के बारे में।

इतिहास

hijron ka khanqah place

हिजड़ों का खानकाह जगह कुतुब मीनार से कुछ ही दूरी पर स्थित है। इस जगह पर आपको 50 कब्रें देखने को मिलेंगी जिन्हें लोदी वंश के शासनकाल यानी 15वीं शताब्दी के दौरान यहां दफनाया गया था। यह जगह खास किन्नरों के लिए ही बनाई गई है। साथ ही यहां पर आपको थोड़े ऊंचे स्थान पर एक जगह देखने को मिलेगी जहां पर मियां साहेब या हाजी साब की कब्र भी मौजूद है। हालांकि, अब यहां किसी को दफनाया नहीं जाता है। 

इसे भी पढ़ें: इस बार घूम आएं कनॉट प्लेस के म्यूजिम ऑफ इल्यूजन , जानें क्या है खास

क्या खास है इस खानकाह में

hijron ka khanqah facts

यह जगह कुतुब मीनार के पास होने के बावजूद भी लोगों की नजरों से काफी दूर है। यह जगह किन्नरों के लिए काफी अहम है। हिजड़ों का खानकाह किन्नरों के लिए अध्यातम से जुड़ने का एक जरिया है। वे लोग यहां आते हैं, दुआ पढ़ते हैं और कब्रों पर फूल चढ़ाते हैं। अक्सर किन्नर लोग यहां समुदाय में या अकेले आते हैं। वे ज्यादातर गुरुवार के दिन यहां दुआ पढ़ने आते हैं। केवल इतना ही नहीं कई बार ये लोग परिसर के आसपास मौजूद गरीबों को खाना भी बांटते हैं।  इसके अलावा कुछ समय से इस जगह की रखवाली भी किन्नर लोग ही कर रहे हैं।आपको यह जानकर हैरानी होगी की इस परिसर के अदंर एक मस्जिद है। इस मस्जिद का रखरखाव किन्नरों द्वारा ही किया जाता है। साथ ही जब आप इस मस्जिद के अंदर जाएंगे तो आपको  यह बिल्कुल महसूस नहीं होगा कि यह जगह इतनी पुरानी है। 

इसे भी पढ़ें: जब मन ना लगे तो अकेली निकल पड़े दिल्ली की इन 5 गलियों में

दरवाजे पर नहीं लगता ताला 

know about hijron ka khanqah

हिजड़ों का खानकाह परिसर के बाहर आपको लोहे का दरवााजा (जानें खूनी दरवाजे के बारे में) दिखाई देगा। लेकिन हैरानी की बात यह है कि इस दरवाजे पर आपको कोई भी लटका हुआ ताला नहीं दिखेगा।  ऐसा भी कहा जाता है कि इस जगह पर मालिकाना हक किन्नर पन्ना हाजी का है। इस परिसर के आसपास आपको कई दुकाने भी देखने को मिलेंगे जिनका किराया बेहद कम है। कहा जाता है कि किन्नर पन्ना हाजी इन दुकानों से केवल 100 रूपये महीना ही किराया लेते हैं। 

Recommended Video

शांति का होगा एहसास

अगर आप शांति महसूस करना चाहते हैं तो आपको इस जगह पर जरूर जाना चाहिए। यहां पर कोई भी व्यक्ति जा सकता है।  परिसर एक बेहद ही शांत जगह है। यहां पर लोगों की भीड़ भी बेहद कम रहती है। यहां पर आपको कई कब्र देखने को मिलेंगी। आपको इस जगह को एक बार जरूर देखना चाहिए। इस जगह पर जाकर आपको सुकुन महसूस होगा। इसलिए इस बार इस जगह को अपनी लिस्ट में जरूर शामिल करें

उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। ऐसे ही अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।

Image Credit: static.toiimg.com,navbharattimes.indiatimes.com,curlytales.com & gumlet.assettype.com