क्या  आप adventure lover हैं। ट्रैकिंग, राफ्टिंग और पैराग्लाइडिंग सब करने के बाद भी कुछ एडवेंचर करने की ख्वाहिश रह गई हो तो , भारत में कुछ ऐसी रोड्स मौजूद हैं जहां पैदल चलना भी किसी adventure से कम नहीं है। यह रोड्स भले ही tourist attraction points न हों मगर travel के दौरान जब इन रास्तों से गुजरना पड़ता है तो लोग अपने आप ही इन रोड्स की बनावट को देख कर अट्रैक्ट हो जाते हैं। मजे की बात तो यह है कि इन सड़कों पर नेचुरल ब्यूटी तो है मगर इस ब्यूटी को देखने के लिए आपको एक एडवेंचर राइड से गुजरना पड़ सकता है, क्यों कि यह सभी सड़कें एक जगह को दूसरी जगह से बेहद दुर्लभ तरीके से आपस में जोड़ती हैं। इनट्रेस्टिंग बात यह है कि इन सड़कों पर प्लेसजर फील करने की जगह आपको डर महसूस होगा। यहां यह कहावत एक दम फिट बैठती है, ‘जो डर गया समझो मर गया ‘क्योंकि इन सड़कों पर वही ट्रैवल कर सकता है, जिसे एडवेंचर करना पसंद हो। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसी ही सड़कों के बारे में बताएंगे, जिन्हें दुनिया की dangerous roads में काउंट किया जाता है। 

Read More: अच्छा तो यहां है स्वर्ग की सीढ़ी!

road ride

image courtesy: wikimedia.org

जोजिला पास 

11575 फिट की ऊंचाई पर मौजूद यह रास्ता  श्रीनगर को लद्दाख से जोड़ने वाला एकलौता रास्ता है। यह रास्ता इतना पतला है कि छोटी सी चूक आपको मौत की खाई में गिरा सकती है। यह रास्ताा इस लिए भी खतरनाक है क्योंनकि यहां पर खाई और रोड के बीच कोई भी बैरियर नहीं है। अगर गाड़ी थोड़ी भी डिसबैलेंस होती है तो बचने का कोई भी चांस नहीं होता। इस वजह से यहां ट्रेंड ड्राइवर्स को ही गाड़ी चलाने की इजाजत होती है। यहां ज्याादातर जो गाडि़यां आती जाती हैं, वह Srinagar से डोमेस्टि क यूज का सामान लेकर आती हैं, जिसे Ladakh में इस्तेमाल किया जाता है। दिसंबर से लेकर अप्रेल तक यहां इतना snowfall होता है कि इस रास्ते  को ही बंद कर दिया जाता है। बारिश के मौसम में भी यह रास्ता  खतरनाक हो जाता है। 

Read More: बर्फ का असली मजा लेना हो तो घूम आइए नारकण्डा

ice on road

image courtesy: myindiaencounters.com

चांग ला रोड 

समुद्र तल से इस रोड की ऊंचाई लगभग 17950 फिट है। इस रोड को इंडियन आर्मी द्वारा मेनटेन किया जाता है। यह जगह सालभर बर्फ से ढकी रहती है। यह रोड हिमालय पर स्थित Changthang Plateau तक जाने का एक मात्र सहारा है। वैसे यह रास्ता साल भर खुला रहता है मगर स्नोफॉल की वजह से अगर रास्ता  क्लीयर न हो तो इसे साफ करने के लिए बंद कर दिया जाता है। इस रोड पर ट्रवैल करने के लिए आपको कुछ प्रिकॉशन भी लेने पड़ेंगे। जैसे कि यहां पर ऑक्सीजन लेवल इतना कम है कि 10 से 15 से ज्या दा यहां टिकना मौत को बुलावा देना है। इस रोड पर कई प्वाइंट्स हैं जिन्हें देख जा सकता है, मगर यहां इतनी ठंड होती है कि बिना प्रॉपर कपड़ों और जूतों के टिकना मुश्किल हो जाता है। बेस्टि है कि यहां आने से पहले अपनी मेडिसिन किट और गरम पानी की एक बॉटल रख लें और थोड़े थोड़े समय पर पीती रहें। 

Read More: इस Winter season नहीं घूम पाए इन places को तो करना पड़ेगा अगली सर्दियों का wait

indian roads

image courtesy: worldfortravel.com

लेह मनाली रोड

यह रोड वर्ल्ड  के कुछ सबसे highest mountains के बीच से होते हुए गुजरती है। यहां आने से पहले एक बार अपनी गाड़ी में फ्यूल जरूर भरवा लें और हो सके तो एक्स्ट्रा फ्यूल लेकर चलें क्योंकि यहां दूर दूर तक कोई भी आदमी नहीं दिखता। यहां का वेदर भी पल पल में बदलता है और यहां बेहिसाब ठंड होती है इसलिए गरम कपड़े पहनने में जरा भी लापरवाही न करें। मनाली से लेह को जोड़ने वाली यह रोड भारत को एक तरफ से चीन और दूसरी तरफ से पाकिस्‍तान से जोड़ती है, इसलिए यहां पर इंडियन आर्मी के कैंप्स भी देखने को मिलेंगे। यह रास्ता गर्मियों के मौसम में कुछ महीने के लिए ही खुलता है। यहां पहुंच कर किसी को भी स्वर्ग जैसी फीलिंग आएगी क्योंकि यह जगह natural beauty से भरा हुआ है।  

Watch More : अच्छा तो यहां है स्वर्ग की सीढ़ी!

zig zag road

 image courtesy: indiamike.com

थ्री लेवल जिग जैग रोड 

Sikkim के जुलुक और डजुलुक गांव के पास से गुजरने वाली यह रोड भारत को Tibet से जोड़ती है। 30 किलोमी‍टर की लेंथ वाली इस सड़क पर 100 से भी ज्यागदा हेयरपिन टर्न्स हैं। यह ज्योमैट्रिक कर्व्स आपको थ्रिलिंग एक्सुपीरियंस देंगे। इन कर्व्स। पर ही एक थंबी व्यू  प्वॉइंट है जहां से थ्री लेवल जिग जैग रोड का अद्भुद नजारा आप देख सकती हैं।

मगर आपको अगर चक्कर आने, हार्ट या पैरों से जुड़ा कोई हेल्थ इशू है तो आप यहां आना एवॉइड करें क्योंकि इन ज्योमैट्रिक कर्व्स से आपकी यह तकलीफ और भी बढ़ सकती है। इसके साथ ही यह भी ध्यान रखें कि यहां आने के लिए जून से सितंबर का समय सबसे से अच्छा  होता है, इसलिए अपनी ट्रिप आप इन महिनों के दौरान ही प्लान करें। 

 

  • Anuradha Gupta
  • Her Zindagi Editorial