• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

कलर करेक्टर का इस्तेमाल करने से मिलते हैं यह चार बड़े फायदे

अगर आपको स्किन डिस्कलरेशन की समस्या है तो आपको मेकअप अप्लाई करते समय कलर करेक्टर का इस्तेमाल अवश्य करना चाहिए।  
author-profile
  • Mitali Jain
  • Editorial
Published -18 Jul 2022, 14:00 ISTUpdated -18 Jul 2022, 14:26 IST
Next
Article
color corrector tips

कोई भी महिला अपने लुक को निखारने के लिए मेकअप का सहारा लेती है। लेकिन वास्तव में आपका फाइनल लुक इस बात पर निर्भर करता है कि आपने कितना सटीक मेकअप किया है। अमूमन मेकअप के दौरान फाउंडेशन से लेकर लिपस्टिक व आईशैडो आदि का इस्तेमाल तो लगभग हर महिला करती है, लेकिन कलर करेक्टर पर उनका ध्यान कम ही जाता है। जबकि वास्तव में यह आपके मेकअप लुक को पूरी तरह से बदल सकते हैं।

दरअसल, अधिकतर महिलाओं के चेहरे पर रेडनेस या डॉर्क स्पॉट्स आदि होते हैं, जिन्हें सिर्फ कंसीलर की मदद से हाइड करना संभव नहीं होता है। ऐसे में यह कलर करेक्टर काम आते हैं। मार्केट में रेड से लेकर ग्रीन आदि शेड्स के कलर करेक्टर मिलते हैं, जो चेहरे पर मौजूद इन अनचाहे शेड्स को कैंसल कर देते हैं और आपको एक इवन टोन स्किन प्रदान करते हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको कलर करेक्टर से मिलने वाले कुछ फायदों के बारे में बता रहे हैं, जिनके बारे में जानने के बाद आप भी इसका इस्तेमाल करना पसंद करेंगी-

डार्क सर्कल्स को करे हाइड

hide dark circle

डार्क सर्कल्स आपकी नेचुरल ब्यूटी को कहीं छिपा देते हैं। अमूमन महिलाएं डार्क सर्कल्स को छिपाने के लिएकंसीलर का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन अगर आप फिर भी इन्हें हाइड नहीं कर पाती हैं, तो ऐसे में आपको कलर करेक्टिंग कंसीलर का इस्तेमाल करने पर विचार करना चाहिए। चूंकि डार्क सर्कल्स में एक नीला रंग होता है, तो ऐसे में आप अस्थायी रूप से उनकी उपस्थिति को छिपाने के लिए एक पीची पिगमेंट कलर करेक्टर का उपयोग कर सकती हैं। इससे आपके डार्क सर्कल्स विजिबल नहीं होंगे।

इसे जरूर पढ़ें- चेहरे पर कंसीलर लगाते समय रखें इन बातों का ध्‍यान, मेकअप नहीं होगा खराब

डिस्कलरेशन को करे दूर

colour collector

यूं तो इवन स्किन टोन पाने के लिए महिलाएं फाउंडेशन को अप्लाई करती हैं। यह आपकी स्किन को एक स्मूद बेस अवश्य देता है, लेकिन स्किन डिस्कलरेशन को हाइड करने में यह उतना कारगर नहीं है। अगर आपको डार्क स्पॉट्स आदि के कारण स्किन डिस्कलरेशन की समस्या है तो ऐसे में कलर करेक्टरका इस्तेमाल करना अधिक बेहतर माना जाता है। डार्क सर्कल्स को छिपाने के लिए आप येलो कलर के कलर करेक्टर का इस्तेमाल करें। पीला रंग नीले और बैंगनी शेड्स को भी बेअसर करके आपकी स्किन को अधिक इवन दिखाने में मदद कर सकता है। 

Recommended Video

रेडनेस को करे बेअसर

कई महिलाओं के चेहरे पर बहुत अधिक रेडनेस होती है। फिर भले ही आप ब्रेकआउट और ब्लेमिश से परेशान हों या फिर सनबर्न (सनबर्न की समस्या से निपटें) या सेंसेटिव स्किन के निशान से निपट रहे हों। ऐसे में स्किन की रेडनेस को छिपाना यकीनन काफी चुनौतीपूर्ण हो सकता है। लेकिन अगर आप इस मुश्किल काम को आसान बनाना चाहती हैं तो इसमें कलर करेक्टर आपकी मदद करेंगे। इसके लिए, आपको ग्रीन कलर के कलर करेक्टर का इस्तेमाल करने की आवश्यकता है। यह आपकी स्किन की रेडनेस की अपीयरेंस को बेअसर करके आपके लुक को निखारेगा। 

स्किन को बनाए ब्राइटन

brighter skin

कभी-कभी स्किन सुस्त दिख सकती है और अगर डल स्किन पर मेकअप किया जाए तो इससे मेकअप भी डल नजर आता है। ऐसे में आप कलर करेक्टर की मदद से आप एक आसान मेकअप फिक्स कर सकते है। आप येलो और अनइवन टोन को बैलेंस करने के लिए पर्पल कलर करेक्टर का इस्तेमाल करें। आप कलर करेक्टर को सीधे ही चेहरे के उस स्थान पर अप्लाई कर सकती हैं और ब्रॉडर ब्रश की मदद से उसे ब्लेंड करें।

इसे जरूर पढ़ें- धूप से झुलसी त्‍वचा को ठीक करने के लिए अपनाएं ये 10 टिप्‍स


तो अब कलर करेक्टर से मिलने वाले इतने फायदों को जानने के बाद आपने भी इसे अपने मेकअप किट का हिस्सा बनाने का विचार अवश्य बना लिया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।  

Image Credit- freepik

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।