आज के समय में महिलाएं अपनी स्किन का अतिरिक्त ख्याल रखने के लिए कई तरह के स्किन केयर प्रॉडक्ट्स का इस्तेमाल करती हैं और इन प्रॉडक्ट्स में जिस चीज का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है, वह है रेटिनोल। रेटिनोल मूल रूप से विटामिन ए है, त्वचा को कई लाभ प्रदान करता है। इन्हें मुख्य रूप से एंटी-एजिंग क्रीम्स और मॉइश्चराइजर में इस्तेमाल किया जाता है। कहा जाता है कि विटामिन ए का टॉपिकल एप्लीकेशन या रेटिनोल स्किन में कोलेजन प्रॉडक्शन में सुधार करते हैं, त्वचा की इलास्टिसिटी में सुधार करते हैं और झुर्रियों और फाइन लाइन्स जैसे उम्र बढ़ने के संकेतों से लड़ते हैं।

विटामिन ए या रेटिनोल त्वचा के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व है जो हमारे शरीर द्वारा सिन्थिसिस नहीं किया जाता है। तो ऐसे में इसे अलग से स्किन केयर रूटीन में शामिल किया जाना चाहिए। यह स्किन को रिफ्रेश और रिजुविनेट करने में मदद करता है। हालांकि इसे लेकर महिलाओं के मन में कई तरह के मिथ्स होते हैं। तो चलिए आज हम आपको रेटिनोल मिथ्स और उनकी सच्चाई के बारे में बता रहे हैं-

मिथक 1: रेटिनोल लगाने के बाद धूप में जाने से बचें

sun protection retinal

तथ्यः बिल्कुल सच नहीं है। आपने कई बार सुना होगा कि दिन में रेटिनोल का उपयोग नहीं करना चाहिए या रेटिनोल लगाने के बाद धूप में नहीं जाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि यह सूर्य की हानिकारक यूवी किरणों से होने वाले नुकसान को बढ़ा सकता है और इससे सनबर्न का खतरा भी होता है। लेकिन, आपकी त्वचा की सुरक्षा के लिए एक कारगर तरीका है सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना। रेटिनोल अप्लाई करने के बाद आप सनस्क्रीन का इस्तेमाल अवश्य करें। सनस्क्रीन एक स्किनकेयर प्रॉडक्ट है जिसे आपको वैसे भी स्किन नहीं करना चाहिए और यह तब और भी महत्वपूर्ण हो जाता है जब आपने चेहरे पर रेटिनोल लगाया हो।

इसे जरूर पढ़ें:हाइलाइटर इस्तेमाल करते समय नहीं करें ये 4 मिस्टेक्स

मिथक 2: रेटिनोल से मिलेंगे इंस्टेंट रिजल्ट
retinal mithak skin 

तथ्यः आप यकीनन चाहेंगी कि यह सच हो। लेकिन वास्तव में यह सच नहीं है। कुछ महिलाओं की यह गलतफहमी होती है कि अगर वह रेटिनोल को अप्लाई करेंगी तो इससे उन्हें तुरंत परिणाम नजर आएंगे। लेकिन आपको यह समझना होगा कि यह कोई जादू नहीं है। किसी भी स्किनकेयर उत्पाद की तरह, इसके लिए आपको किसी भी परिणाम को दिखाने के लिए समय चाहिए। एक सप्ताह या एक महीने में ही परिणाम की उम्मीद न करें। आपकी त्वचा में कोई भी दृश्य परिवर्तन देखने में आपको कुछ महीनों का वक्त लग सकता है।

Recommended Video

मिथक 3: आंखों के नीचे रेटिनोल का ना करें इस्तेमाल

under eye retinal

तथ्यः यह भी एक मिथक ही है। बता दें कि रेटिनोल का इस्तेमाल मुख्य रूप से झुर्रियों और स्किन एजिंग से लड़ने में बेहद कारगर है और हमारे चेहरे पर वह क्षेत्र जहाँ ये समस्याएं देखने को मिलती हैं, वह आपकी आँखों के आसपास है। आप निश्चित रूप से अपनी आंखों के नीचे रेटिनोल का इस्तेमाल कर कसती है। हालांकि, अगर आपकी स्किन सेंसेटिव है तो आपको थोड़ा सतर्क रहना चाहिए। साथ ही रेटिनोल लगाने से पहले आप एक आई क्रीम अवश्य लगाएं।

मिथक 4: रेटिनोल आपकी स्किन को थिन बना सकता है

retinal uses beauty

तथ्यः यह कथन भी पूरी गलत है। रेटिनोल वास्तव में स्किन में कोलेजन उत्पादन को बढ़ाने में मददगार बनाता है और यह आपकी त्वचा को मजबूत, लोचदार और स्वस्थ बनाता है। अमूमन महिलाओं को रेटिनोल को इस्तेमाल करने के बाद स्किन पीलिंग का अनुभव करती हैं और इसलिए उन्हें ऐसा लगता है कि रेटिनोल स्किन को थिन बनाता है। लेकिन रेटिनोल का उपयोग करते समय आपको अपनी स्किन के थिन होने की चिंता नहीं करनी चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें:फेशियल ऑयल से जुड़े इन चार मिथ्स पर बिल्कुल भी ना करें भरोसा

मिथक 5: सिर्फ मैच्योर स्किन के लिए है रेटिनोल 

retinal for skin

तथ्यः यह सच नहीं है। जबकि रेटिनोल का उपयोग करने के पीछे मुख्य लक्ष्य त्वचा की उम्र बढ़ने के संकेतों जैसे कि फाइन लाइन्स और झुर्रियों से लड़ना है और इसलिए 30 या 40 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को इसे अवश्य इस्तेमाल करना चाहिए। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह केवल उन्हीं महिलाओं द्वारा ही इस्तेमाल किया जा सकता है। 20 के दशक में भी आप रेटिनोल का उपयोग कर सकती हैं क्योंकि यह कोलेजन उत्पादन में सुधार करता है और इस प्रकार स्किन अपीयरेंस और इलास्टिसिटी में सुधार करता है। इसके अलावा, यह त्वचा के छिद्रों को बंद करने और त्वचा में तेल उत्पादन को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।