स्किन पर एक्ने होना किसी भी महिला को अच्छा नहीं लगता। यह ना केवल आपकी स्किन की खूबसूरती में ग्रहण लगा देते हैं, बल्कि इससे कई बार आपको दर्द का अहसास भी होता है। नियमित एक्ने से निजात पाना अपेक्षाकृत आसान होता है। लेकिन जब रेग्युलर एक्ने खराब हो जाते है, तो इससे सिस्टिक एक्ने की समस्या विकसित होती है। यह वास्तव में एक्ने की एक एक्सट्रीम कंडीशन है, जिसमें सूजन व मवाद आदि भी हो सकती हैं। इसे डील करना दर्दनाक हो सकता है और सामान्य एक्ने ट्रीटमेंट के जरिए इसका उपचार नहीं किया जा सकता। वैसे तो सिस्टिक एक्ने की समस्या किसी को भी हो सकती है, लेकिन ऑयली स्किन की महिलाओं को इसका सामना अधिक करना पड़ता है। इतना ही नहीं, अगर इसका सही समय पर उचित उपचार नहीं किया जाता तो इससे स्थिति बद से बदतर हो जाती है। तो चलिए आज हम आपको सिस्टिक एक्ने से निजात पाने के कुछ घरेलू उपचार के बारे में बता रहे हैं, जो यकीनन आपके बेहद काम आएंगे-

बर्फ का करें इस्तेमालinside  ice pack use

त्वचा पर बर्फ रगड़ने से त्वचा को शांत करने और सूजन, त्वचा की रेडनेस को कम करने में मदद मिलती है और यहां तक कि सिस्टिक एक्ने के दर्द से भी राहत मिलती है। इसके इस्तेमाल के लिए एक वॉशक्लॉथ में आइस क्यूब्स लपेटें। अब इसे प्रभावित एरिया पर सर्कुलर मोशन में रगड़ें। यह प्रक्रिया कुछ देर तक दोहराएं। अब आप अपने चेहरे को अपने आप सूखने दें। इसके बाद अपना चेहरा न धोएं। वांछित परिणाम के लिए एक सप्ताह में इस उपाय को 3-4 बार दोहराएं।

इसे ज़रूर पढ़ें-5 रुपए में घर पर करें 'Mint Facial' और पाएं बेदाग त्‍वचा

हल्दी आएगी काम

inside  turmrice

हल्दी संक्रमित त्वचा के लिए एक शक्तिशाली प्राकृतिक उपचार है। करक्यूमिन, हल्दी में मौजूद एक सक्रिय घटक है, जिसमें एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इन्फ्लमेट्री गुण होते हैं जो दर्द और सूजन को कम करने में मदद करते हैं। इतना ही नहीं, हल्दी में जीवाणुरोधी और एंटीसेप्टिक गुण भी होते हैं जो त्वचा को साफ रखने और तेजी से ठीक करने में मदद करते हैं। इसके इस्तेमाल के लिए एक बाउल में एक चम्मच हल्दी डालें। अब इसमें थोड़ा पानी मिक्स करके एक थिक पेस्ट बनाएं। अब इस पेस्ट को प्रभावित एरिया पर लगाकर 30 मिनट के लिए छोड़ दें। अब इसे धो दें और सूखने दें। सप्ताह में एक से दो बार आप इस प्रक्रिया को दोहराएं।

Recommended Video

टी ट्री ऑयल है हेल्दी

inside  tea tree oil

टी ट्री ऑयल अपने मजबूत जीवाणुरोधी गुणों के लिए जाना जाता है। इसका मतलब है कि टी ट्री ऑयल में मुँहासे पैदा करने वाले हानिकारक बैक्टीरिया से लड़ने और आपकी त्वचा को साफ़ करने की क्षमता होती है। टी ट्री ऑयल के एंटी इन्फ्लमेट्री गुण सिस्टिक एक्ने के कारण होने वाले दर्द और सूजन को रोकते हैं। इसके इस्तेमाल के लिए दो बूंद टी ट्री ऑयल में दस से बारह बूंद नारियल या जोजोबा ऑयल को मिक्स करें। अब अपने चेहरे को अच्छी तरह क्लीन करें और इसे सूखने दें। इसके बाद एक कॉटन पैड को इस ऑयल में डिप करें और इसे प्रभावित एरिया पर लगाएं। जब यह अच्छी तरह सूख जाए तो आप आखिर में स्किन पर मॉइश्चराइजर अप्लाई करें। बेहतरीन रिजल्ट के लिए हर एक दिन छोड़कर इस प्रक्रिया को दोहराएं।

इसे ज़रूर पढ़ें-अगर गालों पर दिखने लगे हैं काले घेरे और हो रही है टैनिंग तो शहनाज़ हुसैन के ये DIY टिप्स करें ट्राई

 

विनेगर की लें मदद

inside  vineger

विनेगर एक एसिडिक इंग्रीडिएंट है, जिसका उपयोग क्लीयर स्किन पाने के लिए किया जाता है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती हैं, जो हानिकारक बैक्टीरिया को दूर रखते हैं और आपकी स्किन को हेल्दी व फ्रेश बनाते हैं। यह स्किन में ऑयल प्रॉडक्शन को कण्ट्रोल करने में भी मदद करता है, जिससे क्लॉग पोर्स से छुटकारा मिलता है और इससे मुंहासों को रोकने में मदद मिलती है। इसके इस्तेमाल के लिए विनेगर लेकर उसे पानी के साथ मिलाकर डायलूट करें। अब आप अपनी स्किन को पहले क्लीन करें। इसके बाद आप अपनी स्किन पर इसे दिन में दो बार अप्लाई करें और कुछ देर के लिए ऐसे ही छोड़ दे। कई दिनों तक इस प्रक्रिया को दोहराएं। आपको जल्द ही फर्क नजर आने लगेगा।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit-Freepik