कई बार हमारे शरीर में धब्बे या मुंहासे होने लगते हैं, लेकिन अगर ये चेहरे पर भी होते हैं तो इसका कारण पीएच लेवल का बिगड़ना हो सकता है। जैसे शरीर का पीएच लेवल होता है वैसे ही चेहरे का भी होता है, विशेषज्ञों के अनुसार पीएच लेवल 4.8 और 6 के बीच में ही होना चाहिए। अगर ये इससे कम या ज्यादा होने लगता है, तो चेहरे पर काले, लाल या सफेद धब्बे होने लगते हैं। इतना ही नहीं, पीएच लेवल बिगड़ने पर मुंहासे और झुर्रियां भी समय के पहले ही बढ़ने लगती हैं। इसका कारण हमारा खान-पान भी हो सकता है या कोई गलत ब्यूटी प्रोडक्ट भी हो सकता है। कुछ आसान टिप्स अपनाकर आप अपने चेहरे का पीएच लेवल बैलेंस कर सकती हैं।  

सुबह-सुबह पिएं नींबू पानी

 skin problem inside

पीएच लेवल को सही करने के लिए आपको एल्कलाइन फूड का सेवन करना बेहद जरूरी होता है, जिससे आपकी स्किन से संबंधी समस्याएं कम होने लगती हैं। हालांकि नींबू भी एसिडिक खाद्द पदार्थ है, लेकिन ये आपके शरीर के लिए एल्कलाइन का काम करता है, जो पीएच लेवल को बैलेंस कर सकता है। अगर आप सुबह-सुबह उठकर नींबू पानी का सेवन करें, तो आप कई तरह के स्किन संबंधी समस्याओं से बच सकती हैं। इसके अलावा नींबू आपकी इम्यूनिटी भी बढ़ाता है, जो तमाम पाचन तंत्र की समस्याओं को दूर कर सकता है।

इसे जरूर पढ़ें: ड्राई स्किन और काले धब्बों पर असर करेगा केले और ग्लिसरीन से बना इंस्टेंट Face Pack

सही फेसवॉश का चुनाव करें

 चेहरे की त्वचा थोड़ी अल्मीय(Acidic) होती है, जो चेहरे की नमी बरकरार रखने का काम करती है। अगर आप चेहरे को धोते समय साबुन का इस्तेमाल करती हैं, तो ये चेहरे की नमी को खत्म कर देता है। साबुन में 8 से 11 के बीच पीएच पाया जाता है, जो त्वचा की कुदरती नमी छीन लेता है। इससे बचने के लिए जरूरी है कि आप साबुन के बजाए फेसवॉश का इस्तेमाल करें, ध्यान रखें कि उसका पीएच लेवल स्किन के अनुसार ही होना चाहिए।

एप्पल साइडर विनेगर है रामबाण इलाज

 skin problem inside

सॉफ्ट और नेचुरल दिखने वाली त्वचा के लिए टोनर के रूप में एप्पल साइडर विनेगर का इस्तेमाल करना काफी फायदेमंद साबित होता है। केवल वजन घटाने के लिए ही नहीं बल्‍कि कई तरह की स्‍किन संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए भी एप्पल साइडर विनेगर का प्रयोग किया जाता है। यह फोड़ा फुंसी, सनबर्न, झुर्रियों और धब्बों को सही करने में भी मदद करता है। इसके अलावा इसे स्‍क्रब में डालकर भी उपयोग किया जा सकता है। आपको स्किन को सही रखने के लिए एक अच्छे मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करना चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें: ब्लैकहेड्स हटाने और चेहरे की सफाई के लिए एरिका फर्नांडिस ने लिया ये ट्रीटमेंट, नतीजा देखकर नहीं हुआ यकीन

दांतों को भी रखें सुरक्षित

 अगर आपके मुंह में छाले पड़ने लगते हैं और खाना खाने में भी दिक्कतें आती हैं, तो इसका कारण टूथपेस्ट का पीएच लेवल भी हो सकता है। अगर दांतों का इनैमल टूट जाता है, तो बाद में उसका पहले जैसा होना पीएच पर ही निर्भर होता है। यदि पीएच 4.3 से 5 तक हो तो कैल्शियम और फॉस्फोरस के कारण इनैमल दोबारा बन जाता है। दांतों की समस्या से निपटने के लिए जरूरी है कि आप संतुलित पीएच वाला टूथपेस्ट चुनें।

Recommended Video

एसिडिक फूड का कम सेवन करें

 skin problem inside

पीएच का अर्थ होता है हाइड्रोजन आयन, अगर इसे बैलेंस नहीं किया जाए तो मुंहासे, ब्रेकआउट, फाइन लाइन्‍स और कालापन होना शुरू हो जाता है। इससे बचने के लिए आपको हाई सोडियम फूड्स का सेवन कम करना चाहिए और शुगर, फ्राइड पीनट्स, कैफिन और एल्कोहल आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। ये सभी फूड्स आपके पीएच लेवल के बैलेंस को खराब करते हैं और चेहरे पर तरह-तरह के मुंहासे होने लगते हैं।

 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें, और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik.com