हमारे बुजुर्ग कई रीति रिवाजों का पालन करते थे। उन्हीं रीति रिवाज़ों को हम ढकोसला समझकर नजर-अंदाज़ कर देते हैं। दरअसल यह सारे रिवाज ज्योतिष और उसके अवचेतन मन पर होने वाले प्रभावों पर आधारित होते हैं।

हम कई बार सूर्यास्त के बाद अनजाने में कई गलतियां कर देते हैं जिसका असर न सिर्फ हमारे वर्तमान पर पड़ता है बल्कि भविष्य पर भी होता है  कुछ ऐसी ही बातें बता रहे हैं जाने माने वास्तु विशेषज्ञ और ज्योतिषी आचार्य मनोज श्रीवास्तव जी। आइए जानें-

ऐसे लोग सूर्यास्त के बाद दूध का सेवन न करें 

sunset

रात्रि का समय शनि का होता है, शनि अन्धकार का गृह है। ज्योतिष के अनुसार शनि के दुश्मन सूर्य, चन्द्र और मंगल ग्रह हैं। इन्हीं पर कई सारे रीति रिवाज बने हुए हैं। जैसे जिन लोगों की जन्मकुंडली में चन्द्र छठे घर में है या किसी अन्य तरीके से खराब है तो उनको रात को दूध नहीं पीना चाहिए। 

जूठे बर्तन सिंक में न छोड़ें 

mistakes

आजकल कई घरों में रात को बर्तन सिंक में ही छोड़ दिए जाते हैं जिससे अगले दिन मेड उन्हें साफ़ करती है। रात में सिंक में जूठे बर्तन कभी न छोड़ें ऐसा करने से घर की बरकत कम हो जाती है। ज्योतिष में बर्तन को भी शनि और शुक्र का द्योतक माना गया है। शायद इसलिए इनके प्रभाव को बनाए रखने के लिए ये रिवाज बनाए गए हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: Vastu Tips: मन की शांति और धन प्राप्ती के लिए लौंग से करें ये उपाय

बाल एवं नाखून न कटवाएं 

sunset view

आजकल के मॉडर्न चाल-चलन में रात को बाल काटना या शेविंग करना एक आम बात है लेकिन इससे भी घर की सुख शांति खराब हो सकती है। ज्योतिष में बाल शनि के माने गए हैं और उनको काटने के लिए इस्तेमाल में आने वाली कैंची और ब्लेड मंगल के द्योतक होते हैं और इसीलिए ऐसा कहा गया है कि रात को बाल नहीं काटने चाहिए। इसी प्रकार सूर्यास्त के बाद नाख़ून नहीं काटने चाहिए जो शनि और मंगल की दुश्मनी को बढाता है। 

Recommended Video

रात को बेड के पास न रखें ये चीज़ें 

sunset mistakes

रात को अपने पलंग के नीचे जूते चप्पल नहीं रखनी चाहिए न ही शयनकक्ष में झाड़ू रखनी चाहिए। ये दोनों चीजें न सिर्फ घर की सुख-शांति में बल्कि अच्छी गहरी नींद में भी बाधक होती हैं। रात को शयनकक्ष में झाड़ू रखने से जीवन में व्यर्थ की चिंता बनी रहेंगी। 

इसे जरूर पढ़ें: Food Tips: इन 7 बातों का खाना खाते समय रखेंगी ख्याल तो सेहत से हो जाएंगी मालामाल

बेड पर बैठकर खाना न खाएं 

sunset inside

आजकल बिस्तर पर बैठ कर खाने का चलन है। खासतौर से रात का खाना लोग अपने-अपने कमरे में बिस्तर पर बैठकर और टीवी देखते हुए खाना पसंद करते हैं। न सिर्फ इससे घर के सदस्यों में आपसी जुडाव और सौहाद्र कमज़ोर होता है, बल्कि रात में बुरे सपने भी आते हैं और घर की शान्ति भी भंग होती है। 

इसलिए यह आवश्यक है कि हम हर छोटी-छोटी बातों का ख्याल रखें जिससे शनि की नकारात्मक उर्जा से हम बच सकें और एक सुखद जीवन जी सकें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।