बाल घने, लम्बे हों तो बरबस सबकी आंखें उन पर टिक जाती हैं । इसलिए लंबे बालों के प्रति आकर्षण पुराने समय से चला आ रहा है । लेकिन समय की कमी के कारण देखभाल न होने और प्रदूषित वातावरण के प्रभाव से लंबे बालों को रखना समस्या बन जाता है। ऐसे में हेयर एक्सटेंशन यानी असली के साथ नकली बालों की एक ऐसी एक्सेसरी जिसे अपनाने से आपका लुक बिना विग, बिना किसी नुकसान के खूबसूरत बनाया जाता है। बालों को अगर बिना किसी हार्म के आप नया शेप और लुक देना चाहती हैं तो हेयर एक्सटेंशन आपके लिए कमाल के साबित हो सकता है। आइए जानें ऐल्प्स की फाउंडर और मशहूर कॉस्मेटोलॉजिस्ट डॉ. भारती तनेजा से  इन्हें इस्तेमाल करने और देखभाल के तरीके।

hair ext. long  inside

भारती जी के अनुसार हेयर एक्सटेंशन दो प्रकार के होते हैं -

शॉर्ट टर्म एक्सटेंशन के लिए

अगर सिर्फ एक पार्टी के लुक के लिए आप हेयर एक्सटेंशन को करना चाहते हैं तो आप  क्लिप ऑन एक्सटेंशन करा सकती हैं। इसमें आपके बालों की सतह पर हेयर क्लिप को अटैच कर दिया जाता है, जिन्हें आप पूरे दिन के इस्तेमाल के बाद आसानी से रात में निकाल सकती हैं। लेकिन अगर एक हफ्ते तक बालों को उसी लुक में रखना चाहती हैं तो टेम्परेरी ग्लू ऑन बॉण्डेड एक्सटेंशन करा सकती हैं। इसमें बालों के स्कैल्प पर लिक्विड ग्लू लगाकर एक्सटेंशन को लगाया जाता है और इन्हें निकालने के लिए ऑयल बेस्ड सॉलवेंट का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसा करने के लिए आप हेयर स्टाइलिस्ट की मदद लें।

इसे भी पढ़ें: मानसून में लंबे बाल नहीं होंगे चिपचिपे, अगर ट्राय करेंगी कॉफी हेयर मास्क

लांग टर्म एक्सटेंशन लुक

hair extn. inside

अगर 4-6 महीने के लिए ऐक्सटेंशन चाहिए तो फिर केराटिन बौंड का यूज किया जा सकता है। इस में नकली बालों के टिप पर केराटिन लगा होता है। इसे असली बालों के साथ मिला कर केराटिन को गरम रौड से हलका सा पिघला दिया जाता है, जिस से ऐक्सटेंशन असली बालों के साथ चिपक जाता है। बाल धोने पर भी यह निकलता नहीं है।  लांग टर्म एक्सटेंशन करवाने में काफी समय लगता है और अगर इसे अच्छे से न करवाया जाए तो ये बालों को डैमेज भी कर सकता है। इसी के साथ इंटरलॉक वर्जन प्रक्रिया के जरिए आपके बालों के ऊपरी सिरे पर हेयर एक्सटेंशन को लगाया जाता है। इसमें बालों को बिलकुल सीधा कर दिया जाता है जिसमें आप चोटी नहीं बना सकती हैं। ब्रैडेड वर्जन उन लोगों के बालों के लिए बहुत अच्छा है जिनके बाल मोटे होते हैं। ऐसे बालों में लगे हेयर एक्सटेंशन चोटी बनाने पर दिखते नहीं हैं। अगर केराटिन बौंड का उपयोग करना आपको पसंद नहीं है तो सिलाई जैसा तरीका अपना कर हेयर एक्सटेंशन लिया जा सकता है, जिस में असली बालों के साथ नकली बालों को 2 कपड़ों की सिलाई की तरह जोड़ा जाता है. अगर आप सही तकनीक का प्रयोग करें तो बालों का ऐक्सटेंशन आप के लिए कभी भी हानिकारक साबित नहीं होता।

हेयर एक्सटेंशन में काम आने वाले बाल भी दो प्रकार के होते हैं -

नैचरल जैसे सिंथेटिक 

हेयर एक्सटेंशन में काम आने वाले नैचरल और सिंथेटिक हेयर्स में बहुत बडा अंतर होता है क्योंकि सिंथेटिक बालों को आर्टिफिशियल तरीके से तैयार किया जाता है, जबकि नेचुरल बालों को लोग कई बार डोनेट कर देते हैं । इसलिए नेचुरल  बालों से बने हेयर एक्सटेंशन खरीदने से पहले जरूरी है उसकी क्वॉलिटी चेक जरूर करें। सिंथेटिक हेयर एक्सटेंशन बहुत कम दाम पर मार्केट में आसानी से मिल जाते हैं इसलिए सिंथेटिक और नैचरल हेयर एक्सटेंशन में प्राइस डिफरेंस भी होता , लेकिन सिंथेटिक हेयर नैचरल हेयर एक्टेंशन की तुलना में टिकाऊ नहीं होते। चूंकि नैचरल हेयर एक्सटेंशन को आप कलर भी कर सकते हैं इसलिए इनके प्राइस ज्यादा होते हैं। नैचरल हेयर एक्सटेंशन एक साल तक आराम से चल जाते हैं, जरूरत है बस अच्छे से देखभाल करने की। कुछ लोगों को सिंथेटिक हेयर एक्सटेंशन से एलर्जी होती है। इसके इस्तेमाल से पहले अपने हेयर स्टाइलिस्ट से इसके बारे में बात कर लें। अगर हेयर एक्सटेंशन ठीक तरह से लगाए गए हों तो ये बहुत ही सुंदर और बिलकुल असली लगते हैं।

hair exten. short  inside

नेचरल बालों की प्रोसैसिंग

हेयर एक्सटेंशन में इस्तेमाल बालों को तैयार करने में किसी के कटे हुए असली बालों को कीटाणु मुक्त करने के लिए उन्हें प्रोसैस किया जाता है। यह काम  चाइना, सिंगापुर जैसे शहरों में किया जाता है। जहां उन कटे बालों के साथ में ग्राहक के बालों का सैंपल भी भेजा जाता है ताकि उस की पौलीशिंग इस तरह हो कि वह ग्राहक के असली बालों जैसा लगे।

क्यों हेयर एक्सटेंशन बेहतर विकल्प है

हेयर ऐक्सटेंशन के जरिए किसी भी तरह की हेयरस्टाइल बनाई जा सकती है. अगर बाल बॉबकट हों तब भी जूड़ा या कमर तक लंबे कर्ली हेयर बनाए जा सकते हैं. साइड बन या मेसी ब्रेड्स भी बनाई जा सकती हैं. शादी के रिसैप्शन के लिए दुल्हन भी हेयर ऐक्सटेंशन का यूज कर रही हैं. इन दिनों इस तरह से कलर करवाने का क्रेज भी बढ़ रहा है. लेकिन कई महिलाएं बालों में किसी पसंदीदा कलर से हाईलाइटिंग तो चाहती हैं, लेकिन कलर नहीं लगवाना चाहतीं. ऐसे में ऐक्सटेंशन हेयर पर कलर लगा कर उन्हें हाईलाइटर की तरह लगाया जा सकता है. यह  पूरी तरफ सेफ और आसान है ऐक्सटेंशन को खास तरह के न दिखने वाले क्लिप्स के जरीए भी लगाया जा सकता है. यह सब से आसान तरीका है, क्योंकि क्लिप्स को कभी भी निकाला जा सकता है।

hair exten. blunt inside

इसे भी पढ़ें: अगर बाल हो गए हैं खराब तो यूज़ करें विटामिन E, होते हैं ये फायदे भी  

हेयर एक्सटेंशन की  देखभाल

नैचरल हेयर एक्सटेंशन का ध्यान आप उसी तरह रखें जैसे कि आप अपने कुदरती बालों को करती हैं। अपने हेयर ऐक्सटेंशन को लंबे समय तक चलाने के लिए उन्हें साफसुथरा रखना अनिवार्य है। मगर आप अपने सामान्य बालों की तरह अपने ऐक्सटेंशन को नहीं धो सकतीं। इसके लिए आप को  सही तकनीक का पता होना चाहिए। अगर आप सिर में मसाज करना चाहती हैं  तो काफी धीरे -धीरे मसाज करें। हेयर ऐक्सटेंशन को धोते समय अपने सिर को सीधा रखें। इसी के साथ बिना सल्फेट वाला सौम्य मौइश्चराइजिंग शैंपू प्रयोग करें। ऐक्सटेंशन को लंबे समय तक अच्छे से रखना चाहती हैं तो उन्हें सुखाना न भूलें। कभी भी गीले बालों पर कंघी या ब्रश का प्रयोग न करें। अपने बालों को कई हिस्से में बांट कर इन्हें अच्छे से सुखाएं।अगर बालों को अच्छी तरह से सुखाया न जाए तो इसके कारण कई बार बालों की जडों में फंगस भी लग जाता है। जिससे स्कैल्प खराब होने की समस्या हो सकती है। अपने कुदरती बालों का खास ख्याल रखें क्योंकि अगर ये टूटने और झडऩे लगे तो आपकी हेयर एक्सटेंशन समय से पहले निकल सकती हैं। ज्य़ादा समय तक लगी हुई हेयर एक्सटेंशन बालों को नुकसान पहुंचा सकती हैं इसलिए इन्हें छ: हफ्ते में या फिर दस हफ्ते में एक बार निकलवा दें। अगर आपने ग्लू ऑन बॉण्डेड एक्टेंशन लगवाएं हैं तो बालों में तेल का इस्तेमाल न करें। ऐसा करने से आपकी एक्सटेंशन पर लगा ग्लू हट जाएगा और आपको समय से पहले अपने एक्सटेंशन हटवाने पडेंगे।

hair exten. color inside

टिकने का समय-

आप के बालों की गुणवत्ता पर  हेयर ऐक्सटेंशन के टिकने की अवधि निर्भर करती है। सिंथैटिक पदार्थों से बने ऐक्सटेंशन 1 या 2 हफ्ते तक चलते हैं। ज्यादा अच्छी गुणवत्ता वाले ऐक्सटेंशन 3 से 4 महीने व कई ऐसे भी ऐक्सटेंशन हैं जो 6 महीने तक चलते हैं। सब से बढि़या गुणवत्ता के ऐक्सटेंशन 1 से 2 साल चल जाते हैं।