नया साल आ रहा है और इसके साथ वो समय भी आ गया है, जब लोग न्यू इयर Resolution बनाते हैं। Resolution जो कुछ पूरे होते हैं और कुछ अगले साल तक शिफ्ट हो जाते हैं ऐसे ही कुछ Resolutions बॉलीवुड एक्ट्रेस दिया मिर्ज़ा ने भी बनाए थे जिनमें से कुछ तो उन्होंने पूरे कर लिए हैं और कुछ वो साल 2019 में पूरा करने वाली हैं।

हमसे ख़ास बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि resolution बनाना भी अपने आप में एक टास्क है मगर, इसे बनाना एक अच्छी हैबिट है जो सबको अपनानी चाहिए। आइये जानते हैं दिया के साल 2019 के resolutions-

वार्डरोब में लाने हैं ये बदलाव

dia mirza shared her  resolution inside

दिया कहती हैं कि मैं अपने वार्डरोब में कुछ बदलाव चाहती हूं। मैंने गौर किया है कि मेरे पास ड्रेसेज़ ज्यादा है, साड़ियां भी हैं मगर जीन्स और टॉप या टी शर्ट्स बहुत कम है। मैं अब जीन्स और टी शर्ट्स पहनना चाहती हूं, इसके साथ और भी ऐसेसरीज़ होती हैं, जैसे जैकेट्स, शूज़, स्लिंग बैग्स... ये सब मेरे पास बहुत कम हैं। तो, आने वाले साल मैं ये सब चीज़े खरीदूंगी।

Read more: दीया मिर्जा के ब्यूटी रुटीन से लेकर मेकअप और स्किन केयर तक सारे सीक्रेट्स जानिए

इसके अलावा मुझे फुटवियर में भी हील्स और पंप्स पहनने की आदत है इसलिए मैं फ्लैट्स पहनना भी शुरू करुंगी। मैंने पिछले साल सोचा था कि मैं कम से कम मेकअप करुंगी और मुझे लगता है मैंने अपना यह resolution तो पूरा किया ही है।

पिछले साल के ये resolution रह गए अधूरे

dia mirza shared her  resolution inside

दिया ने बताया कि पिछले साल के कई resolution अधूरे रह गए हैं जो मैं 2019 में पूरा करने वाले हूँ और सबसे पहली चीज़ जो मुझे करनी है वो है डायरी मेंटेन करना। मैने सालों पहले डायरी मेंटेन करा छोड़ दिया है। मुझे लगता है कि जब मैं डायरी में अपने थॉट्स लिखती थी तो अपने आपको ज्यादा समझ पाती थी और साल के अंत में जब मैं पहला पन्ना फिर से पढ़ती थी तो बड़ा अच्छा लगता था। लेकिन, धीरे-धीरे मैंने लिखना कम कर दिया और फिर ये बंद हो गया तो मुझे इसे फिर से शुरू करना है।

Read more: दीया मिर्ज़ा को शौक है झुमकों का, वार्डरॉब में आया कैज्यूअल ड्रेसेज़ का कलेक्शन भी

इसके अलावा मुझे मूवीज़ देखनी चाहिए और वो भी थिएटर में जाकर। मैंने सोचा था कि मैं साल 2018 में थिएटर में जाकर मूवीज देखूंगी मगर मैं ये कर नहीं पाई। दरअसल, मैं इतनी देर तक एक जगह पर बैठ ही नहीं सकती और आज कल सब कुछ फोन और लैपटॉप तक आ गया है तो थिएटर जाना ही नहीं होता। मगर, थिएटर में फिल्मों का पाना मज़ा है जो मैं 2019 में ज़रूर उठाऊंगी।