बढ़ती उम्र के साथ जहां लोगों को कमर दर्द, थकान जैसी कई समस्याएं होने लगती हैं , वहीं कुछ लक्षण भी दिखने लगते हैं, जिसकी वजह से उम्र ज्यादा दिखने लगती है। अपनी उम्र को आप किस तरह योग से रोक सकते हैं बता रहे है मेदांता के योग विशेषज्ञ दीपक झा। आज के वयस्त दिनचर्या में लोगो के पास खुद के लिए बिलकुल समय नहीं होता समय की कमी होने की वजह से न वे अपने खानपान का ख्याल रख सकते है और न ही वो खुद को स्वस्थ रखने के लिए किसी भी तरह का शारीरिक व्यायाम करते है लेकिन ऐसा करना उनके स्वास्थ के लिए बहुत नुकसानदेह होता है और जिस वजह से उनको कम उम्र में ही स्किन से जुडी समस्याओ जैसे झुरिया ,उम्र से ज्यादा दिखने  जैसी समस्याओ का सामना करना पड़ जाता हैं।

anti aging yuga inside

इस विषय में  मेदांता हॉस्पिटल के योग विशेषज्ञ दीपक झा  का कहना है, आज उनके पास ऐसे कई लोग आते है जो स्किन से जुडी समस्याओ का सामना कर रहे है। ऐसी समस्याओ के बारे में बताते हुए दीपक झा का कहना है आज लोगो का खानपान सही नहीं होने से और किसी भी तरह का व्यायाम न करने की वजह से उन्हें इस तरह की समस्याओ का सामना करना पड़ रहा है और ऐसी समस्याओ का एक मात्र समाधान है योगाभ्यास, निरंतर योगाभ्यास करने से लोग खुद को इन समस्याओ से बचा सकते है साथ ही लोगो को चाहिए की वो योगा के साथ अपने खानपान का भी ख्याल रखे. खुद को युवा रखने के लिए अपने खानपान में हरी साग सब्जी,फल व ज़्यदातर पानी का सेवन करना चाहिए। 

 
दीपक झा योग विशेषज्ञ का कहना का कहना है आज ऐसे कई लोग है जो अपने उम्र से ज्यादा दीखते है जिस वजह से वो बहुत परेशान दिखते है और डिप्रेशन व कम आत्मविश्वास जैसी समस्याओ के शिकार हो जाते है। खुद को इन समस्याओ से बचने के लिए अपने दिनचर्या में  योगाभ्यास को शामिल करे और साथ ही अपने खानपान का ख्याल रखे तो वो इन समस्याओ  से खुद को दूर रख सकते है.योग की सहायता से आप चमकता दमकता स्किन पा सकते है।  इसलिए लोगो को चाहिए की वो योग करे और उम्र से कम दिखे न की ज्यादा कुछ योगाभ्यास जिसको नियमतः करने से आप ता उम्र युवा व स्वस्थ रह सकते है। योगाभ्यास से रोगो से लड़ने की शक्ति मिलती है साथ ही बुढ़ापे में जवान बने रह सकते है त्वचा पर चमक आती ही और शरीर स्वस्थ और बलवान बनता है।

shilpa yoga for face inside

अपनी उम्र से कम और जवां महसूस करने के लिए ये योगासन करें -

वृक्षासन

वृक्षासन आपके शरीर को संतुलन बनाने के लिए सक्षम बनाता है। इसे करने के लिए अपने पैरों को मिलाकर खड़े हो जाएं और अपने दोनों हाथों को जोड़कर सीने के पास लाएं। अब अपने उल्टे पैर पर शरीर का सारा भार लेकर सीधे पैर को उल्टे पैर की पिंडलियों पर रखें। इस अवस्था में थोड़ी देर तक रुकें और सांस ले व छोड़ते रहें। थोड़ी देर के बाद दूसरी तरफ से करें।

इसे भी पढ़े -'इन नेचुरल चीजों से सौम्या टंडन रखती हैं अपनी स्किन और फिगर का ख्याल

अर्धमत्स्येन्द्रासन

अर्धमत्स्येन्द्रासन करने से आपके शरीर में फ्लेक्सिबिलिटी बढ़ती है । अपने सीधे पैर को अपने उल्टे पैर के नीचे और कूल्हे के पास रखें। अब सीधे पैर को अपने उल्टे पैर के घुटने के पास लाकर रखें। इस दौरान कमर को सीधे रखें और अपने उल्टे हाथ को अपने पीछे कूल्हे के पास जमीन पर रखें। इस दौरान सांस लेते रहें। दूसरे हाथ को अपने चेहरे के सामने सीधा रखें।

sury inside

बालासन

बालासन आपके कमर, सीने और बाजुओं को स्ट्रेच करने में मदद करता है। बालासन करने के लिए अपने घुटनों को मोड़कर जमीन पर बैठ जाएं। अपने कूल्हों को पैरों पर टिकाएं। अब अपने सिर को नीचे की ओर झुकाते हुए जमीन पर रख दें और सीने को अपनी जांघों पर रखें। अपने दोनों हाथों को अपने सिर के सामने सीधा करके रखें। इस अवस्था में थोड़ी देर के लिए रुकें।

विपरीत करनी आसन

विपरीत करनी आसन से रक्त संचार में सुधार आता है।  घर की किसी भी दीवार के सहारे जमीन पर लेट जाएं। अपने कूल्हों को दीवार से मिलाएं और अपने दोनों पैरों को ऊपर उठाते हुए दीवार पर रख दें। अब धीरे-धीरे अपने पैरों को दीवार पर ऊपर की ओर बढ़ाएं और अपने कूल्हों को उठाएं। अब अपने दोनों हाथों को कूल्हों पर रखें। इस दौरान धीरे-धीरे सांस लेते रहें और छोड़ते रहें।