दुनिया के अधिकांश भागों के लिए, दुनिया ग्रेगोरियन कैलेंडर पर, 365 दिन या एक वर्ष में 12 महीने या लीप वर्ष के साथ चलती है। इस कैलेंडर के अनुसार साल  31 दिसंबर को समाप्त होता है और 1 जनवरी को नए साल का आरम्भ होता है। लेकिन दुनिया की  कई संस्कृतियां ऐसी हैं जो 1 जनवरी की जगह अन्य तिथियों में नए साल का जश्न मनाते हैं। यहां तक कि भारत में भी कई अलग तिथियों में नए साल का जश्न मनाया जाता है। आइए जानें दुनिया के अलग देशों में कब मनाया जाता है नया साल। 

भारत में नए साल की तारीखें

आमतौर पर भारत और दुनिया के अधिकांश लोग 1 जनवरी को रोमन कैलेंडर के अनुसार नया साल मनाते हैं, लेकिन इस विविध राष्ट्र भारत में कुछ संस्कृतियां हैं जो अपने नए साल की शुरुआत अन्य तारीखों में करती हैं।

उगादी (13 अप्रैल 2021)

ugaadi celebration

तेलगूऔर कन्नड़ संस्कृतियों में नया साल आम तौर पर मार्च और अप्रैल के बीच आता है। आंध्र प्रदेश, तेलंगाना के लोग इसी तिथि में नया साल मनाते हैं और नए साल के पहले महीने को चैत्र मास के नाम से जाना जाता है। इस दिन, लोग घर के मुख्य द्वार को रंगोली से सजाते हैं, नए कपड़े खरीदते हैं, पूजा करते हैं और आम के पत्तों के साथ अपने प्रवेश द्वार को सजाते हैं। साल 2021 में यह 13 अप्रैल को मनाया जाएगा। 

Recommended Video

गुड़ी पड़वा (13 अप्रैल 2021 )

मराठी लोग गुड़ी पड़वा के दिन हिन्दू नववर्ष मनाते हैं। उगादि को ही मराठी संस्कृति में गुड़ी पड़वा की तरह मनाया जाता है।  चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को गुड़ी पड़वा का प्रारम्भ होता है। इस दिन हिन्दु नववर्ष का आरम्भ होता है। 'गुड़ी' का अर्थ 'विजय पताका' होता है।आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में ‘उगादि‘ और महाराष्ट्र में यह पर्व 'ग़ुड़ी पड़वा' के रूप में मनाया जाता है। इसी दिन चैत्र नवरात्रि का प्रारम्भ होता है।

गुजराती नव वर्ष (5 नवंबर 2021 )

gujrati new year

गुजराती अपने नए साल को दिवाली के दिन चंद्र कैलेंडर के अनुसार मनाते हैं, जहां वे दीपावली के त्योहार और नए साल की खुशियों के साथ अपने घरों में मोमबत्तियां जलाने और रोशनी करने का आनंद लेते हैं।

चिथिराई थिरुविझा

तमिलनाडु में, लोग 13 अप्रैल, 14 या 15 अप्रैल को पवित्र शहर मदुरै में नए साल का जश्न मनाते हैं। नए साल को चिथिराई थिरुविझा के रूप में जाना जाता है और मीनाक्षी मंदिर में मनाया जाता है, यही नहीं, लोग इस दिन प्रदर्शन और हिंदू भोज आयोजित करते हैं। चिथिरई महोत्सव एक वार्षिक उत्सव है। यह तमिल महीने के चैथिराई के दौरान मनाया जाता है। यह एक महीने तक रहता है, जिसमें पहले 15 दिन देवी मीनाक्षी और भगवान सुंदरेश्वर और देवी मीनाक्षी के विवाह के उत्सव के रूप में मनाए जाते हैं और अगले 15 दिनों में कल्लाझगर मंदिर से भगवान अलगर की यात्रा का उत्सव मनाया जाता है। 

चाइनीज़ न्यू इयर (12 फरवरी 2021 )

chinese new year

चीनी कैलेंडर के अनुसार, चीनी नया साल सर्दियों के संक्रांति के बाद दूसरे नए चंद्रमा पर पड़ता है, जो वसंत के मौसम की शुरुआत को भी चिह्नित करता है, इसे चंद्र नव वर्ष के रूप में भी जाना जाता है और व्यापक रूप से वसंत के रूप में मनाया जाता है । पारंपरिक जॉर्जियाई कैलेंडर के अनुसार, जो दुनिया में सदियों से चला आ रहा है, इस वर्ष, चीनी नववर्ष 12 फरवरी 2021 से शुरू होगा । चीनी नव वर्ष का पहला दिन 21 जनवरी से 20 फरवरी के बीच अमावस्या के दिन मनाया जाएगा। यह दिन रात्रिभोज के लिए पुनर्मिलन वाले परिवारों द्वारा मनाया जाता है और लालटेन को प्रकाशित किया जाता है, जो कि त्योहार मनाने का एक पारंपरिक चीनी तरीका है।

जापानी नव वर्ष (1 जनवरी 2021 )

अन्य पारंपरिक कैलेंडर के विपरीत, जापानी नया साल 1873 से जॉर्जियाई कैलेंडर के अनुसार मनाया जाता है, जो कि 1 जनवरी को है। इसके अलावा, जापानी नए साल की कुछ पारंपरिक घटनाओं को नए साल के पहले दिन को आधुनिक टेंपो कैलेंडर के अनुसार मनाया जाता है, जो चीनी की तरह एक चंद्र कैलेंडर है। जापानी इस दिन को अपने प्रियजनों को पोस्टकार्ड भेजकर मनाते हैं, परिवार के सभी लोग एक दावत के लिए इकट्ठा होते हैं और नए साल की पूर्व संध्या की रात जापान के सभी मंदिरों में घंटी बजती है, जो नए साल की शुरुआत को चिह्नित करते हुए लगभग 108 बार बजाई जाती है।

कोरियाई नव वर्ष (12 फरवरी 2021 )

korian new year

कोरियाई नव वर्ष कोरियन कैलेंडर के हिसाब से पहले दिन मनाया जाता है। यह पारम्परिक छुटियों के लिए विशेष दिन होता है। आमतौर पर यहाँ नव वर्ष का सेलिब्रेशन तीन दिनों तक चलता है। इस दौरान कोरियन लोग एक दूसरे के घरों में जाते हैं, ट्रेडिशनल भोजन तैयार किया जाता है और बड़े लोग बच्चों को उपहार में धन देते हैं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and shutterstock