घर पर बनाई जा सकती है ये 9 तरह की रोटियां

अगर आप रोज़-रोज़ नॉर्मल रोटी खाकर बोर हो गए हैं तो ये 9 तरह की रोटियां आपके लिए बहुत मददगार साबित होंगी। 
how to make different types of rotis

घर पर रोटियां तो बनती ही रहती हैं। रोटी खाना और पकाना बहुत ही आसान सा काम लगता है, लेकिन बोरिंग भी है। रोज़-रोज़ वही रोटी-दाल-सब्जी खाना थोड़ा सा उबाऊ काम हो सकता है। जब भी हमें लगता है कि घर पर कुछ अच्छा पकाया जाए तो सब्जी में बदलाव ले आते हैं, चावल की जगह पुलाव बना लेते हैं, लेकिन रोटी का क्या? 

घर पर सादी रोटी की जगह कई अलग तरह की रोटियां बनाई जा सकती हैं। अगर आपसे ही पूछा जाए कि आप कितनी तरह की रोटियों के बारे में जानते हैं तो आप भारत में मिलने वाली कितनी रोटियों के बारे में बता पाएंगे? वैसे में बता दूं कि यहां 25 से भी ज्यादा तरह की रोटियां प्रचलित हैं जिनमें से 9 के बारे में हम आज आपको बताते हैं। 

1अक्की रोटी

akki roti for breakfast

कहां से है- कर्नाटक

अक्की रोटी कर्नाटक में काफी प्रसिद्ध है हालांकि, ये बहुत सारे राज्यों में भी मिलती है, लेकिन ये मुख्य आहार कर्नाटक का ही है। ये गेहूं या बाजरे की नहीं बल्कि चावल की रोटी होती है जिसमें कई सारी सब्जियां और मसाले भी डाले जाते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें- नाश्ते या खाने में झटपट बनाएं अक्की रोटी, नहीं पड़ेगी किसी सब्जी या दाल की जरूरत

 

2थालीपीठ

thalipeeth for breakfast

कहां से है- महाराष्ट्र

ये बहुत आसानी से बनाई जाती है और रोजाना घर में बनने वाली रोटी जैसा ही टेक्सचर होता है। थालीपीठ में कई तरह के आटे मिलाए जाते हैं और इसमें गेहूं के साथ-साथ चावल, चना, बाजरा, ज्वार का आटा भई होता है जो इसे बहुत हेल्दी ऑप्शन बनाता है। इसी तरह से गुजरात में भाकरी भी मिलती है। (थालीपीठ की रेसिपी यहां देखें)

3नान

naan for breakfast

कहां से है- पूरे भारत में प्रसिद्ध है

नान ने सिर्फ नेशनल ही नहीं बल्कि इंटरनेशनल लेवल पर भी फेमस हो गई है। इसमें भी अलग-अलग तरह की वेराइटी मिलती है जिसमें गार्लिक नान का अपना अलग स्थान है। मैदे से बनने वाली तंदूर में पकने वाली नान (घर के तवे पर नान कैसे बनाएं उसकी रेसिपी यहां पर पढ़ें) यकीनन सबसे फेमस रोटी कही जा सकती है। 

 

4रागी रोटी

ragi roti for breakfast

कहां से है- दक्षिण भारत

सब्जियों, मसालों और प्याज आदि मिलाकर बनने वाली रागी रोटी बहुत ही प्रसिद्ध है और इसे लंच के लिए बहुत ही हेल्दी ऑप्शन माना जा सकता है। (ऐसे बनाएं रागी रोटी)

 

5मक्के की रोटी

makki ki roti of india

कहां से है- पंजाब

अब ये एक बहुत ही क्लासिक डिश है जिसे सर्दियों की सबसे पसंदीदा डिश में से एक माना जा सकता है। सफेद मक्खन और सरसों के साग के साथ मक्के की रोटी बहुत ही स्वादिष्ट ऑप्शन लगती है। (मक्के की रोटी बनाने की रेसिपी यहां पढ़ें)

6शीरमाल

sheermal roti

कहां से है- कश्मीर

अगर आपने शीरमाल नहीं खाया तो आपने कश्मीरी स्वाद को पूरी तरह से नहीं चखा। इसे घर पर भी बनाया जाता है और इसे आटा, घी, नमक, शक्कर और केसर वाले दूध को मिलाकर गूंथा जाता है। इसे पकाने का तरीका भी थोड़ा अलग है जहां इसके आटे को खमीर के लिए 2 घंटे तक रखा जाता है। 

इसके बाद गर्म तवे पर दूध लगाकर इसे सेंका जाता है और खाते वक्त घी का इस्तेमाल किया जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें- रोज़ के खाने में बनाई जा सकती है ये 5 तरह की रोटियां

 

7रुमाली रोटी

roomali roti of india

कहां से है- पूरे भारत में प्रसिद्ध

ये कहना कि रुमाली रोटी किसी एक प्रांत या राज्य की खास है ये गलत होगा। रुमाली रोटी में खास मैदा होता है जो वैसे तो हेल्दी नहीं माना जाता, लेकिन इसे लचीलापन यही देता है। रुमाली रोटी भी घर पर बनाई जा सकती है, लेकिन इसे बनाने के लिए थोड़े स्किल्स चाहिए जो आप प्रैक्टिस के साथ ही पाएंगे। (रुमाली रोटी घर पर बनाने की रेसिपी)

8मिस्सी रोटी

missi roti of india

कहां से है- नॉर्थ इंडिया

ये रोटी भी लगभग पूरे भारत में फेमस है और दक्षिण भारत की अक्की रोटी की तरह ही इसमें कई सारे ऑप्शन्स मिलते हैं। इस मसालेदार रोटी में आटा, बेसन, नमक, अजवाइन, प्याज, हींग, हल्दी, कसूरी मेथी, धनिया जैसे इंग्रीडिएंट्स डाले जाते हैं और इसे बनाया जाता है। (मिस्सी रोटी रेसिपी)

9 गोला रोटी

egg gola roti

कहां से है- बंगाल

इसे बंगाली चीला कहा जाए तो गलत नहीं होगा। इसमें अंडा, मसाले, सब्जियां आदि बहुत कुछ मिलाया जाता है और इसे गर्मा गर्म बनाया जाता है। गोला रोटी की रेसिपी भी नॉर्मल चीले की तरह होती है, लेकिन इसमें सबसे जरूरी अंडा होता है जो इसे ब्रेकफास्ट के लिए बहुत अच्छा बनाता है। ये काफी सही ऑप्शन आपको झटपट कोई रेसिपी बनानी है तो। 

ये सारी रोटियां काफी स्वादिष्ट होती हैं। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।