महिलाएं अगर अपने करियर को लेकर पहले से ही जागरूक रहें तो कुछ ही सालों में वे अपने करियर में अच्छी ग्रोथ हासिल कर सकती हैं। इसके लिए पहला कदम है ऐसे करियर का चुनाव करना, जिसमें उनके लिए अपने टैंलेट को शोकेस करने के लिए अच्छी संभावनाएं हों। हालांकि आज के समय में महिलाएं को प्रोफेशनली कामयाबी हासिल करने के लिए ढेर सारे विकल्प उपलब्ध हैं, लेकिन कुछ खास करियर आगे बढ़ने के लिए कहीं ज्यादा फायदेमंद हो सकते हैं। महिलाओं को अहम पॉजिशन्स पर पहुंचाने वाले ऐसे ही कुछ अच्छे करियर के बारे में हम हर हफ्ते बताएंगे, जिसका महिलाएं बेनिफिट उठा सकती हैं। आज से हम एक नई सीरीज की शुरुआत कर रहे हैं, जिसमें सीनियर करियर काउंसलर आशीष आदर्श ऐसे 25 करियर विकल्पों की बात करेंगे, जो महिलाओं के लिए काफी अच्छे रिजल्ट दे सकते हैं या जिनमें काम करना महिलाओं को काफी रास आएगा। इन करियर को अपनाने पर महिलाएं आगे चलकर वर्किंग वुमन की भूमिका के साथ न्याय करने के साथ-साथ वर्कलाइफ बैलेंस भी स्थापित कर सकती हैं।

career counsellor ashish adarsh inside

Senior Career Counsellor Ashish Aadarsh

इस कड़ी में हम पहले करियर की शुरुआत कर रहे हैं लाइब्रेरी साइंस से। इस करियर में किस तरह की महिलाओं के लिए किस तरह के करियर की संभावनाएं हो सकती हैं, आइए जानते हैं-

लाइब्रेरी साइंस में बनाइए करियर

अगर आप लाइब्रेरी साइंस का करियर ऑप्शन चुनती हैं तो इसमें आपको जॉब और करियर ग्रोथ की काफी संभावनाएं मिलती हैं। नियमों के अनुसार देश के हर स्कूल, कॉलेज, इंस्टीट्यूट, संस्थान, विश्वविद्यालय, कम्युनिटी लाइब्रेरी और अनेक सरकारी विभागों में लाइब्रेरियन की नियुक्ति अनिवार्य है। देश में खुलने वाले नए डीम्ड विश्वविद्यालयों के कारण भी बड़ी संख्या में लाइब्रेरियन की जरूरत पैदा हुई है। महिलाओं के लिए यह क्षेत्र इस मायने में भी उपयुक्त है कि इसमें रात में रात के समय में देरी से छूटने जैसी समस्याएं नहीं हैं, जिससे महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित होती है। इसमें लगभग 6 से 8 घंटी के सीमित समय में महिलाएं अपना काम पूरा कर सकती हैं।

career in library science inside

एक लाइब्रेरियन के तौर पर आप अपने घर के आसपास एक स्कूल, कॉलेज, क्लब या पब्लिक लाइब्रेरी में जॉब तलाश सकती हैं। इस क्षेत्र में स्थापित होने के लिए किसी भी विषय से ग्रेजुएशन करें और उसके बाद 2 पाठ्यक्रम पूरे करें – एक वर्षीय बैचलर्स इन लाइब्रेरी एंड इनफार्मेशन साइन्स (बीएलआईएस) और उसके बाद एक वर्षीय मास्टर्स इन लाइब्रेरी एंड इनफार्मेशन साइन्स (एमएलआईएस)। इस प्रकार दो वर्षों में आप लाइब्रेरी साइंस में स्नातकोत्तर हो जायेंगी और फिर किसी भी संस्थान में लाइब्रेरियन के पद के लिए आवेदन दे सकेंगी।

प्रैक्टिकल ट्रेनिंग का विशेष महत्व

महिलाएं एक बात का विशेष ध्यान रखें कि लाइब्रेरी साइंस में प्रैक्टिकल ट्रेनिंग का विशेष महत्व होता है। लाइब्रेरी साइंस में कई दूरस्थ शिक्षा के पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं, जहां केवल डिग्री बांटने पर जोर दिया जाता है। ऐसे पाठ्यक्रमों का आपको कोई विशेष लाभ रोजगार में नहीं मिल पायेगा। इसीलिए कोशिश करें, पाठ्यक्रम रेगुलर/ फुलटाइम हो। यदि दूरस्थ शिक्षा से बीएलआईएस या एमएलआईएस पाठ्यक्रम करना हो, तो इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय सर्वश्रेष्ठ रहेगा।             

 

Recommended Video