विश्वभर में भारत अपनी प्राकृतिक और सांस्कृतिक सौंदर्य के लिए जाना जाता है। यहां कई ऐसे मनमोहक और अविश्वनीय स्थान हैं, जिन्हें देखने लोग दूर-दूर से आते हैं। भारत को रहस्यों से भरा माना जाता है। यहां कई ऐसे मंदिर हैं जो काफी रहस्यमय हैं। इनकी अद्भुत शक्ति के बारे में जानकर हर कोई हैरान रह जाता है। आज के आर्टिकल के हम आपको एक ऐसे अद्धुत मंदिर के बारे में बताएंगे, जिसकी तरफ बड़े से बड़ा जहाज खिंचा चला आता था।

यह कोणार्क का सूर्य मंदिर है। यह अद्धभुत मंदिर उड़ीसा में जगन्नाथपुरी से उत्तर-पूर्व में कोणार्क शहर में स्थित है। यह मंदिर अपनी दैवीय शक्ति और आस्था के लिए जाना जाता है। इस मंदिर में कई ऐसी चीजें हैं जिन्हें देखने के लिए लोग विश्वभर से यहां आते हैं।

यूनेस्कों ने विश्व धरोहर किया घोषित 

konark temple

कोणार्क का सूर्य मंदिर मध्यकालीन वास्तुकला का अनोखा नमूना है। 1984 में यूनेस्कों ने इस मंदिर को विश्व धरोहर घोषित किया था। इस मंदिर के गर्भगृह में सूर्य भगवान की मूर्ति स्थापित है। कहा जाता है कि भाग्यशाली लोगों को ही सूर्य भगवानके दर्शन करने का सौभाग्य मिलता है। कहा जाता है कि इस मंदिर मे 52 टन का चुंबक लगा हुआ था। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में स्थित भगवान शिव का ये मंदिर है सालों पुराना, जानें इससे जुड़ी विशेष बातें

मंदिर की ओर खींचे आते थे जहाज

konark temple

पौराणिक कथाओं के अनुसार, कोणार्क मंदिर में 52 टन का चुंबक लगा था। ऐसा माना जाता है कि ये विशालकाय चुंबक समुद्र की कठिनाइयों को कम करता था। यही वजह है कि यह मंदिर समुद्र के किनारे दशकों से खड़ा हुआ है। कहा जाता है कि एक समय विशालकाय चुंबक को अन्य चुंबकों के साथ इस तरह सजाया था कि मंदिर की मूर्ति हवा में तैरती दिखाई देती थी।

Recommended Video

अंग्रेजों ने मंदिर से निकलवाई विशालकाय चुंबक

konark temple

वहीं, आधुनिक काल में मंदिर की चुंबक समस्या बनने लगी। मंदिर की विशालकाय चुंबक की शक्ति इतनी तेज थी कि मंदिर की तरफ पानी के जहाज खींचने लगते थे। जब अंग्रेजों को व्यापार में नुकसान होने लगा तो उन्होंने मंदिर की विशालकाय चुंबक को निकाल दिया था।

इसे भी पढ़ें: ये हैं भारत की वो ऐतिहासिक जगहें, जिनके बारे में नहीं जानती होंगी आप!

चुंबक निकलते ही मंदिर का बिगड़ा संतुलन 

konark temple

कोणार्क का सूर्य मंदिर चुंबकीय व्यवस्था के अनुरूप ही बनाया गया था। इस मंदिर से विशालकाय चुंबक के निकलने के बाद मंदिर का संतुलन बिगड़ गया और मंदिर की कई दीवारें गिर गई।  

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरूर शेयर करें। इस तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरज़िंदगी के साथ। 

Image Credit: unsplash.com, pragativadi.com, cleantechnica.com