अखरोट खाएं और अस्‍थमा से छुटकारा पाएं

By Pooja Sinha29 Dec 2017, 19:28 IST

बादाम को ड्राई फ्रूट का राजा माना जाता है, लेकिन अखरोट भी बादाम की तरह बेहद फायदेमंद होता है। शायद बहुत कम लोग इस बारे में जानते हैं कि अखरोट आपके दिमाग के लिए बेहद फायदेमंद होता है इसलिए इसे ब्रेन फूड कहा जाता है। आपने देखा होगा कि यह ब्रेन की तरह ही दिखता हैं। मैं तो अपने बच्‍चों को बादाम के साथ-साथ अखरोट खाने के लिए जरूर देती हूं ताकी उनकी बॉडी तंदुरुस्‍त होने के साथ-साथ दिमाग भी तेज हो। और यहां तक कि मैं अपने जोड़ों की परेशानी के कारण रोजाना एक अखरोट जरूर खाती हूं। लेकिन आज मुझे पता चला कि अखरोट अस्‍थमा के लिए भी बेहद फायदेमंद होता है। जी हां अखरोट खाने से अस्‍थमा के खतरे को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

क्‍या है अस्‍थमा

अस्थमा किसी भी उम्र में हो सकता हैं चाहे वो बूढ़ा हो, या बच्चा। जब किसी की सूक्ष्‍म श्‍वास नलियों में कोई रोग उत्‍पन्‍न हो जाता है तो उसे सांस लेने में परेशानी होने लगती है जिसके कारण उसे खांसी होने लगती है। इससे स्थिति को अस्‍थमा कहते हैं। यानी अस्‍थमा एक गंभीर बीमारी है, जो श्‍वास नलिकाओं को प्रभावित करती है। श्‍वास नलिकाएं फेफड़े से हवा को अंदर बाहर करती है। इसके कई कारण हो सकते हैं, कई महिलाओं में यह धूल और परागकण आदि की एलर्जी, मौसम में आए बदलाव, कई तरह के फूड, दवाइयों, परफ्यूम जैसी खुशबू और कई अन्य वजहों से हो सकता है। अगर आप भी अस्‍थमा की समस्‍या से परेशान रहती हैं तो इस समस्‍या से बचने के लिए अपनी डाइट में अखरोट को शामिल करें।

अस्‍थमा के लिए अखरोट

ड्राई फ्रूट होने के बावजूद हसमें सोडियम की मात्रा नाममात्र की और कोलेस्‍ट्रॉल तो बिल्‍कुल नहीं होता है। लेकिन इसमें भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है जो हमारी बॉडी के लिए बहुत अच्‍छा होता है। इसके अलावा इसमें कई तरह के विटामिन जैसे-विटामिन ए, बी, सी और बी-12, डी पाया जाता है इसलिए इसे विटामिन का राजा भी माना जाता है। साथ ही इसमें प्रोटीन के साथ-साथ कैल्शियम, मैग्‍नीशियम, आयरन, फास्‍फोरस, कॉपर, सेलेनियम, मैग्‍न‍ीशियम बहुत अधिक मात्रा में होता है।

Read more: गजब! ऐसा केक जिसे किया जा सकता है 8-9 महीने तक स्टोर

asthma walnut health big

क्‍या कहती है रिसर्च

कई अध्ययनों ने अखरोट के कई health benefits पर बल दिया है। आज हम आपको इसे अपनी डेली डाइट में शामिल करने का एक और कारण बता रहे हैं। जी हां  शोधकर्ताओं के अनुसार, इस नट्स में पाया जाने वाला विटामिन ई airways की सूजन को कम कर अस्‍थमा attacks के जोखिम को कम करने में हेल्‍प करते हैं।

Gamma-tocopherol विटामिन ई का एक बड़ा रूप है, जो कई तरह के नट्स जैसे अखरोट मूंगफली के साथ-साथ कई तरह के तेल जैसे सोयाबीन, कार्न और तिल के तेल में बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है। इस तरह पर अल्फा-टोकोफेरोल की तुलना में बहुत कम ध्यान दिया गया है, जो आमतौर पर विटामिन ई पूरक आहार में पाया जाता है।

University of North’s Carolina school of medicine के Senior study author Professor Michelle Hernandez के अनुसार जो लोग अपनी डाइट में विटामिन ई अधिक मात्रा में लेते हैं उन लोगों में अन्‍य लोगों की तुलना में अस्‍थमा और एलर्जी disease का खतरा कम होता है।

Other Benefits

अगर रोजमर्रा का तनाव आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा रहा है, तो अब वक्त आ गया है कि आप अखरोट का सेवन शुरू कर दें। एक शोध के अनुसार अखरोट अथवा उसके तेल को आहार में शामिल करने से तनाव के लिए जिम्मेदार ब्‍लडप्रेशर को दूर करने में हेल्‍प मिलती है। अखरोट में फाइबर, एंटी-ऑक्सीडेंट्स और असंतृप्त फैटी एसिड विशेषकर अल्फा लिनोलेनिक एसिड और ओमेगा-3 फैटी एसिड मौजूद होते हैं।

एक शोध के मुताबिक जो महिलायें सप्ताह में दो बार 28 ग्राम अखरोट खाती हैं, उन्हें टाइप टू डायबिटीज होने का खतरा 24 फीसदी कम होता है। जर्नल ऑफ न्यूट्रीश‍न में प्रकाशित इस शोध में यह भी कहा गया।

अखरोट वजन कम करने में मदद करता है। इसमें प्रोटीन और फाइबर की मात्रा ज्‍यादा होने के कारण इससे लंबे समय तक भरा हुआ महसूस होता है और वजन कम करने के लिए जरूरी है कि आपका पेट भरा रहे। तो अगर आप वजन कम करना चाहती हैं, तो आपको अखरोट को अपने आहार में जरूर शामिल करना चाहिए।

अगर आप भी अस्‍थमा से बचना चाहती हैं तो अपनी डाइट में आज से ही अखरोट को शामिल करें।

Credits

Producer: Prabhjot Kaur

Editor: Atul Tripathi