भारत की अनूठी परंपरा और संस्कृति की विरासत को खुद में समेटने वाली राजस्थान की राजधानी जयपुर में खान-पान की शान ही निराली है। राजे-रजवाड़ों की निवासस्थली रही जयपुर कहलाती है पिंक सिटी। यहां के लोगों का मिजाज, उनकी पोशाक में काफी वैराएटी देखने को मिलती है और कुछ ऐसा ही यहां के भव्य महलों और ऐतिहासिक स्थलों को देखकर भी महसूस होता है। जयपुर का खाना इतना लजीज है कि हर दिन आपको जयपुर में होने का अहसास कराता है। अगर आप जयपुर शॉपिंग या फिर घूमने के लिए जाने का प्लान बना रही हैं तो यहां के टेस्टी फूड का स्वाद जरूर चखें। टेस्टी अड्डा में आज Radio City की Rj Sudeepta के साथ करते हैं यहां के बेस्ट फूड आउटलेट्स की सैर-

लस्सीवाला 

लस्सी हो तो एमआई रोड पर लस्सी वाले की। बड़े-बड़े सैलेब्स जैसे कि मुकेश अंबानी, अमिताभ बच्चन तक यहां की टेस्टी लस्सी के दीवाने रहे हैं। किशनलाल अग्रवाल ने 1944 में इसकी शुरुआत की थी और तभी से यहां से जयपुर वासी टेस्टी लस्सी का मजा उठा रहे हैं। कुल्हड़ में लस्सी पीने का स्वाद उम्दा लगता है। इसमें मीठा बिल्कुल संतुलित है। 

सम्राट रेस्टोरेंट

चौड़ा रास्ता के खस्ता समोसे खाकर आपका दिन बन जाएगा। 67 साल पुरानी इस दुकान में समोसे के साथ चटनी का उम्दा स्वाद मिलता है। चटनी में 27 आइटम्स पड़े होते हैं, इसीलिए इसका स्वाद अद्भुत लगता है और उस पर जबरदस्त चाय का कॉम्बिनेशन। 

ओम महावीर रबड़ी भंडार

150 साल पुरानी इस शॉप में आपको ऑथेंटिक राजस्थानी खाने का स्वाद मिलेगा। यहां आलू-प्याज-पनीर की सब्जी, बेजड़ की रोटी और उसके साथ रबड़ी का बेहतरीन स्वाद। गेहूं,चने और जौ के आटे से बनती है बेजड़ की रोटी। उसके ऊपर थोड़ा सा घी, साथ ही चटनी, मिर्च के टिपोरे और रायता भी। है ना बढ़िया फूड कॉम्बिनेशन।

स्पाइस कोर्ट

राजस्थान में बाटी शौक से खाई जाती है, लेकिन यहां की कीमा बाटी यूनीक है। स्पाइस कोर्ट लगभग 14 साल पुराना है और टूरिस्ट्स का यह फेवरेट फूड स्पॉट है। यहां शाम को 7 बजे से 10 बजे तक फोक डांस होता है। खाने के साथ आप यहां डांस का मजा ले सकते हैं। अगर आप नॉन वेज की शौकीन हैं तो यहां की कीमा बाटी, जंगली मास और उसके साथ सर्व की जाने वाली ग्रेवी का टेस्ट जरूर करें। बाटी बाहर से जितनी खस्ता होती है, अंदर से उतनी ही टेस्टी। जंगली मास खाने में काफी सॉफ्ट होता है। ये काफी स्पाइसी है, लेकिन इसका स्वाद इतना अद्भुत है कि आप इसे फटाफट खा जाएंगी।

थाली हाउस

साल 2004 में इस थाली हाउस की शुरुआत हुई थी। देखते-देखते अब इसके दो-दो आउटलेट खुल चुके हैं। यहां की थाली में आपको गट्टा कड़ी, सिंपल कड़ी, चावल और दो तरह की बाटियां और दो तरह के चूरमे सर्व किए जाते हैं। इस खाने का जायका लेने का भी एक खास तरीका है। दो तरह की बाटियां, उस पर कड़ी, चटनी और चूरमा को साथ में मिलाकर खाने का स्वाद लाजवाब लगता है। अगर आपने ये नहीं चखा तो समझ लीजिए कि जयपुर की ट्रिप अधूरी रह गई।

जलमहल आइसक्रीम पार्लर

1953 में इसकी शुरुआत हुई थी। सुबह 10 बजे से यहां आइसक्रीम के स्वाद का मजा उठाया जा सकता है। फरेरो रोशेर शेक और यहां की सिग्नेचर आइसक्रीम जलमहल आइसक्रीम संडे का स्वाद चखना ना भूलें। इसमें बहुत सारी चॉकलेट होती है। इसके साथ वेफल का टेस्ट भी मजेदार लगता है। इसमें ड्राई फ्रूट्स, चेरी और फ्रेश फ्रूट्स होते हैं, जिन्हें खाने के बाद आप यहां बार-बार आना चाहेंगे। 

रावत मिष्ठान भंडार

डेली फिटनेस रूटीन और हेल्दी फूड से अगर आप बोर हो गई हैं तो खुद को स्वादिष्ट मिठाइयों की ट्रीट देने के लिए रुख करें रावत मिष्ठान भंडार का। जयपुर की फेमस प्याज की कचौड़ी स्टेशन रोड पर मिलती है। इनका मावा कचौड़ी और दाल बाटी चूरमा और मीठे में घेवर काफी ज्यादा पसंद किया जाता है। यहां की कचौड़ियां ज्यादा आयली नहीं लगती, बल्कि क्रिस्पी और बेहद लजीज लगती हैं।