Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    इस तरह मैंने मां होते हुए निभाया पिता का किरदार  

    अगर आप भी एक सिंगल मदर हैं तो अपने बच्चे की देखभाल और उसके पालन पोषण की टिप्स के लिए इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें।
    author-profile
    • Guest Author
    • Editorial
    Updated at - 2022-12-12,16:53 IST
    Next
    Article
    Single Parenting Ki Tips

    एक बच्चे की परवरिश में मां और पिता दोनों का अहम रोल होता है। मां के लाड़ में बच्चा भावनाओं के साथ पनपता है और पिता की डांट से परिस्थिति से लड़ने लायक बनता है। मां और पिता बच्चे के लिए वो पेड़ होते हैं जिसकी छाया में वो नन्ही सी जान खिलती है, बढ़ती है और उन्हीं की भांति आगे चलकर एक सशक्त आकार लेती है। 

    वहीं, अगर मां और पिता में से कोई एक भी न हो तो बच्चे की परवरिश करना मुश्किल हो जाता है। आज इस आर्टिकल में मैं यही बताने जा रही हूं कि कैसे एक सिंगल मदर होने के बावजूद भी आप अपने बच्चे को पिता का प्यार दे सकते हैं। कैसे उसका पालन-पोषण कर सकते हैं और उसकी देखभाल अकेले हाथों संभाल सकते हैं।

    बच्चे को भरपूर समय दें

    एक सिंगल मदर होने के कारण कई जिम्मेदारियां आ जाती हैं। बच्चे के साथ- साथ खुद को और पूरे घर को संभालना होता है लेकिन इन सब में कभी भी अपने बच्चे को अपनी कमी महसूस न होने दें। चाहे कैसी भी परिस्थिति हो लेकिन अपने बच्चे को पूरा पूरा समय दें। 

    किसी भी एक भावना को न दर्शाएं 

    मां हमेशा कोमल हृदय की होती है। ये भावना तब तक ठीक है जब तक बच्चे के सिर पर उसके पिता का हाथ है क्योंकि जहां मां का प्यार बच्चे को थोड़ी ढील देगा तो पिता सख्ती बच्चे को गलत करने से रोकेगी। वहीं, अगर सिंगल मदर हैं तो प्यार के साथ साथ पिता की तरह ही आपको अपने अंदर थोड़ा कड़कपन भी लाना होगा। तभी बच्चा सही राह पर चल सकेगा। 

    expert

    बच्चे की हर एक्टिविटी में उसका साथ दें 

    आपके लिए बेस्ट पार्ट यही है कि आपका बच्चा आपको और आप अपने बच्चे को तभी समझ पाएंगे जब आप उसकी हर एक्टिविटी में उसका साथ देंगे। फिर चाहे खेलकूद हो या ड्राइंग, सिंगिंग हो या डांसिंग या कोई भी और चीज हर एक्टिविटी में उसके साथ रहिये, उसे सपोर्ट कीजिये और उसका मनोबल बढ़ाइए।

    गुस्से को कंट्रोल करें 

    अक्सर ऐसा हो जाता है कि कभी- कभी कुछ सिचुएशन्स के चलते गुस्सा, चिड़चिड़ाहट, अकेलापन महसूस होने लगता है और इन सब की फ्रस्ट्रेशन आप अपने ही बच्चे पर उतार देते हैं। बेहतर होगा कि ऐसा न करें। अपने बच्चे पर भूलकर भी अपना गुस्सा न उतारें। अपने बच्चे के सामने गुस्सा न करें।  बल्कि उसे समझें और उसके साथ खेलकूद या बातचीत में इतना बिजी हो जाएं कि आप अपनी परेशानी खुद भूल जाएं।  

    शीला मिश्रा

    (शीला मिश्रा एक हाउस वाइफ हैं। इस लेख में दिए गए विचार और टिप्स उनके हैं।)

    उम्मीद है आगे से आप इन टिप्स की मदद से एक मां और एक पिता दोनों की तरह अपने बच्चे की देखभाल कर पाने में आसानी महसूस करेंगी। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

    Image Credit: Herzindagi

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।