मातृत्व

sushma singh Hervoice peom

मातृत्व

मां जैसी कोई नहीं; आखिर क्यों इतनी ख़ास होती है मां?

मां बनकर ही मैंने समझा कि आखिर मां इतनी खास क्‍यों होती है। आइए आप भी इस कविता के माध्‍यम से जानें। 

daughters are special hervoice m

मातृत्व

सर्दियों में गुनगुनाती धूप-सी होती हैं बेटियां

बेटियों के बारे में यूं तो बहुत कुछ है जो पहले भी कहा जा चुका है, पर फिर भी ऐसा बहुत कुछ है जो कहने के लिए रह गया है। पढ़ें मेरी ये खास कविता-