• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile
  • Gayatree Verma
  • Her Zindagi Editorial

67 फीसदी ग्रामीण महिलाएं चाहती हैं आगे पढ़ना व 56 फीसदी ग्रामीण महिलाएं करना चाहती हैं काम: सर्वे

गांव की 67 फीसदी महिलाओं ने जवाब दिया कि वे उन्हें अगर मौका मिला तो वे आगे पढ़ना चाहेंगी।
author-profile
  • Gayatree Verma
  • Her Zindagi Editorial
Published -04 Sep 2017, 19:24 ISTUpdated -13 Oct 2017, 12:03 IST
villagers  x

women empowerment की लहर केवल शहर में ही नहीं गांव में भी बह रही है। जिस का ही नतीजा है कि गांव की अधिकतर लड़कियां जॉब करना चाहती हैं। यूपी के ग्रामीण महिलाओं पर एक सर्वे किया गया है जिसके नतीजे काफी चौंकाने वाले रहे हैं। इन नतीजों के अनुसार 67 प्रतिशत आगे और पढ़ना चाहती हैं, और 56 प्रतिशत महिलाएं कामकाजी बनना चाहती हैं जिसमें से सबसे अधिक 45 प्रतिशत टीचर बनना चाहती हैं। ये सर्वे भारत के सबसे बड़े ग्रामीण अखबार गाँव कनेक्शन ने किया है। ये सर्वे यूपी के 25 जिलों और 350 ब्लॉक में 5000 महिलाओं पर किया गया है। आगे स्लाइड्स में देखें कि ग्रामीण महिलाएं क्या चाहती हैं औऱ किस तरह से वो आगे बढ़ रही हैं।

167 फीसदी महिलाएं चाहती हैं आगे पढ़ना

villagers  Insideimage

सर्वे में 15 से 45 साल की उम्र की ग्रामीण लड़कियों/महिलाओं से सबसे पहले पूछा गया कि, "अगर मौका मिले तो क्या आगे पढ़ेंगी?" इस सवाल का जवाब काफी हैरान करने वाला था। 67 फीसदी महिलाओं ने जवाब दिया कि उन्हें अगर मौका मिला तो वे आगे पढ़ना चाहेंगी। 

2अभी है ब्यूटी पार्लर से पहुंच दूर

villagers  Insideimage

ब्यूटी पार्लर का बिजनेस अभी पूरी तरह से फैला नहीं है और गांव इनके लिए अच्छा मार्केट साबित हो सकता है। क्योंकि जब इनसे पूछा गया कि, "क्या आप ब्यूटी पार्लर जाती है?" तो 47 फीसदी महिलाओं ने माना कि वे जिंदगी में कम से कम एक बार ब्यूटी पार्लर गई हैं जिसमें से केवल 5 फीसदी महिलाएं ही रेग्युलर तौर पर ब्यूटी पार्लर जाती हैं। 

Read More: शब्द बने अपशब्द, बीजेपी सांसद ने कहा, "टनाटन हो गई हैं छत्तीसगढ़ की लड़कियां"

350 फीसदी महिलाएं जानती हैं साइकिल चलाना

villagers  Insideimage

जब इनसे पूछा गया कि, "क्या आपको साइकिल चलाना आता है?" तो 50 फीसदी महिलाओं ने कहा कि उन्हें साइकिल चलाना आता है। वहीं 2 फीसदी महिलाएं साइकिल चलाना सीख रही हैं और 4 फीसदी महिलाएं साइकिल चलाना सीखना चाहती हैं। 

456 फीसदी महिलाएं करना चाहती हैं काम

villagers  Insideimage

वहीं जब इनसे पूछा गया कि, "आप भविष्य में क्या बनना चाहेंगी?" तो 56 फीसदी महिलाओं ने जवाब दिया कि वे बाहर जाकर काम करना चाहती हैं। यहां तक कि 42 फीसदी महिलाओं ने कहा कि वे अपनी पर्सनल लाइफ में खुश नहीं हैं। 

Read More: अगर लड़की शर्माई नहीं तो क्या दे दोगे तलाक?

5गांव में जारी है दहेज प्रथा

villagers  Insideimage

केवल दहेज प्रथा से रिलेटेड सवाल का जवाब काफी दुखी करने वाला रहा। जब उनसे पूछा गया कि, "क्या उनकी शादी के लिए दहेज दिया गया?" तो 80 फीसदी ग्रामीण महिलाओं ने कहा कि, हां उनके घरवालों ने शादी के समय दहेज दिया था। जबकि 81 फीसदी कुंवारी लड़कियों ने माना कि उनके घरवाले उनकी शादी के लिए दहेज देंगे।