यूनियन हेल्थ मिनिस्ट्री से मिली अच्छी खबर के बारे में आपने सुना कि नहीं ? खबर आई है कि भारत में पहली बार ऐसा हुआ है कि पुरुषों से ज्यादा महिलाएं हैं। भारत में अब प्रति 1000 पुरुषों पर 1,020 महिलाएं हैं और अब पॉपुलेशन एक्सप्लोजन का खतरा नहीं है।

सभी तीन मौलिक निष्कर्ष राष्ट्रीय परिवार और स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के पांचवें दौर के समरी फाइंडिंग्स का हिस्सा है, जो 24 नवंबर को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए थे। हालांकि, आपको यह भी बता दें कि एनएचएफएस एक सैंपल सर्वे है।

क्या ये संख्याएं बड़ी आबादी पर लागू होती हैं? यह केवल तभी कहा जा सकता है जब अगली राष्ट्रीय जनगणना आयोजित की जाएगी। हालांकि यह बहुत संभावना है कि वे कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मामले में सही होंगे।

दो चरणों में किया गया था सर्वे

survey india sex ration

हिंदुस्तान टाइम्स में छपी एनएचएफएस की जारी रिपोर्ट के अनुसार,  NFHS-5 को 2019 और 2021 के बीच दो चरणों में आयोजित किया गया था, और इसमें देश के 707 जिलों के 650,000 परिवारों को शामिल किया गया था। चरण- II में जिन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का सर्वेक्षण किया गया उनमें अरुणाचल प्रदेश, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, हरियाणा, झारखंड, मध्य प्रदेश, दिल्ली के एनसीटी, ओडिशा, पुडुचेरी, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड हैं।

पहले चरण में शामिल 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के संबंध में एनएफएचएस-5 की फाइंडिंग्स दिसंबर 2020 में जारी किए गए थे।

एनएफएचएस महिलाओं पर ध्यान देने के साथ कई सामाजिक आर्थिक और स्वास्थ्य संकेतकों पर सबसे व्यापक डेटाबेस है - एनएफएचएस -5 में 720,000 महिलाएं और 100,000 से अधिक पुरुष शामिल हैं - और इसके मूल परिणामों की तुलना पिछले चार दौरों से की जा सकती है-1992- 93, 1998-99, 2005-06 और 2015-16।

इसे भी पढ़ें : ऑफिस में भूल से भी ना करें यह बॉडी लैंग्वेज मिसटेक्स

बीते वर्षों में चौकाने वाले थे आंकड़े

साल 1990 में भारत में प्रति 1,000 पुरुषों पर 927 महिलाएं थीं। 2005-06 में आयोजित एनएफएचएस-3 के अनुसार, यह रेशियो बराबर था, 1000 : 1000, साल 2015-16 में एनएफएचएस-4 में यह घटकर  फिर 991:1000 हो गया। अब यह पहली बार है कि किसी भी एनएफएचएस या जनगणना में लिंग अनुपात महिलाओं के पक्ष में है।

यह सुनिश्चित करने के लिए, पिछले पांच वर्षों में पैदा हुए बच्चों के लिए जन्म के समय लिंग अनुपात अभी भी 929 है, जो बताता है कि पुत्र-वरीयता, अभी भी बनी हुई है, लेकिन लिंगानुपात एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। पीछे बनी नीतियों का उद्देश्य लिंग चयन प्रथाओं पर अंकुश लगाना था जो कभी बड़े पैमाने पर होती थीं और कन्या भ्रूण हत्या को रोकना था। इसके साथ ही, एक यह तथ्य भी है कि भारत में महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक समय तक जीवित रहती हैं।

भारत की जनगणना वेबसाइट के आंकड़ों के अनुसार, 2010-14 में पुरुषों और महिलाओं के लिए जन्म के समय औसत जीवन प्रत्याशा क्रमशः 66.4 वर्ष और 69.6 वर्ष थी। (एक सशक्त महिला बनने के लिए न करें इन बातों को इग्नोर)

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन निदेशक, विकास शील ने कहा, 'जन्म के समय बेहतर लिंगानुपात और लिंगानुपात भी एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। भले ही वास्तविक तस्वीर जनगणना से सामने आएगी, हम अभी के परिणामों को देखते हुए कह सकते हैं कि महिला सशक्तिकरण के हमारे उपायों ने हमें सही दिशा में आगे बढ़ाया है।'

इसे भी पढ़ें : भारत सरकार भी करवाती है पेड इंटर्नशिप, इन जगहों पर करना होता है आवेदन

क्या कहती हैं अन्य फाइंडिंग्स?

finding in national family and health survey

संतुलित आहार पर उतना ही ध्यान देने की आवश्यकता है जितना कि पर्याप्त आहार पर, मोटापा और एनीमिया (आधे से अधिक महिलाएं और बच्चे इससे पीड़ित हैं) बढ़ रहे हैं, हालांकि भले ही राष्ट्रीय स्तर पर अल्पपोषण में गिरावट जारी है।

राष्ट्रीय स्तर पर महिलाओं और बच्चों में एनीमिया की घटना के वही परिणाम दिखाई दिए जो 14 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में थे। राष्ट्रीय स्तर के लिए इन निष्कर्षों की गणना NHFS-5 के चरण एक और चरण दो के डेटा का उपयोग करके की गई थी।

आंकड़ों के मुताबिक, बाल पोषण संकेतकों ने पूरे भारत में मामूली सुधार का संकेत दिया, जिसमें स्टंटिंग 38 फीसदी से घटकर 36 फीसदी हो गई। वेस्टिंग 21% से घटकर 19% और कम वजन का प्रतिशत 36% से घटकर 32% हो गया। हालांकि, सरकार को अभी NFHS-5 का पूरा डेटाबेस जारी करना है।

अभी जो सर्वे कह रहा है, वो हमारे लिए एक अच्छी खबर है। हमें उम्मीद है कि महिलाओं की संख्या ऐसे ही बढ़ेगी, हालांकि अभी जणगणना रिपोर्ट्स आनी बाकी हैं। इस पर आपके क्या विचार हैं हमें जरूर बताएं।

अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें और ऐसे अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े हरजिंदगी से।

Image Credit:ipinimg, freepik