आज हर भारतवासी का सीना गर्व से चौड़ा हो गया है, क्योंकि भारतीय महिला हॉकी टीम ने इतिहास रचते हुए टोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। उससे भी बड़ी बात यह है कि पूरे 41 साल में टीम ने पहली बार यह कारनामा कर दिखाया है। भारतीय महिला टीम के शानदार प्रदर्शन ने देशवासियों को 'चक दे' मोमेंट याद दिला दिया है। सोशल मीडिया पर बस चक दे इंडिया के नारे लग रहे हैं। इस असंभव-सी सफलता को मुमकिन बनाया है देश की 16 धाकड़ बेटियों ने। इन्होंने ऑस्ट्रेलिया, साउथ अफ्रीका, आयरलैंड जैसी टीमों को हराया। हालांकि यहां तक पहुंचना हर किसी के लिए आसान नहीं था। कड़े संघर्ष और तमाम बाधाओं के बाद वे यहां तक पहुंची हैं। किसी के परिवार ने मोटरसाइकिल बेच कर बेटी को यहां तक पहुंचाया, तो किसी लकवे के बाद भी हार नहीं मानी। तो चलिए जानते हैं रियल लाइफ की इन चक दे गर्ल्स के बारे में...

सविता पूनिया, गोलकीपर

golkeeper savita punia indian women hockey team

सविता पूनिया को 'वॉल ऑफ द टीम' कहा जा रहा है। हरियाणा के सिरसा जिले की रहने वाली सविता पूनिया को उनके दादा ने हॉकी खेलने के लिए प्रेरित किया था। जब सविता 9वीं कक्षा में थी, वह तब हिसार कोचिंग के लिए आई थीं।  यहां पर एक प्रैक्टिस मैच में सविता को गोलकीपर बनाया था। जब उनके कोच आजाद सिंह मलिक ने उस मैच में सविता का रिएक्शन टाइम देखा तो उनको लगा कि सविता को गोलकीपर के तौर पर ही तराशा जाना चाहिए। उस मैच से लेकर अब तक सविता लगातार अपने खेल में सुधार करती रही हैं।

दीप ग्रेस एक्का, डिफेंडर

deep grace ekka women hockey team

डिफेंडर दीप ग्रेस एक्का ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले की रहने वाली हैं। उनके परिवार में उनके बड़े भाई दिनेश भी हॉकी से ताल्लुक रखते हैं। उनके बड़े भाई भारत के पूर्व गोलकीपर हैं। उनके नक्शेकदम पर चलते हुए दीप ने भी हॉकी को चुना। हालांकि वह एक गोलकीपर बनना चाहती थी, लेकिन उनके भाई ने उन्हें डिफेंडर के रूप में खेलने के लिए प्रेरित किया। दीप के परिवार वालों ने उनका सपोर्ट किया और वह 2017 में एशिया कप जीतने वाली टीम का हिस्सा बनीं। यह उनका दूसरा ओलंपिक है।

निक्की प्रधान, डिफेंडर

nikki pradhan indian women hockey team

झारखंड के खूंटी जिले की बेटी ओलंपिक में झंडे गाड़ रही है। निक्की झारखंड की पहली महिला हॉकी खिलाड़ी हैं, जिन्होंने ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया। नक्सलियों के गढ़ माने जाने वाले इलाके की रहने वाली प्रधान ने दावा किया कि अपने माता-पिता से मिलने के लिए वापस जाते समय वह डर जाती हैं। बड़ी होने के दौरान आर्थिक परेशानियों से जूझ रही उसकी बड़ी बहन, जो हॉकी भी खेलती थी, हॉकी स्टिक खरीदने के लिए एक मजदूर के रूप में काम करती थी।

गुरजीत कौर, डिफेंडर

gurjeet kaur indian women hockey team

अमृतसर के गांव मियादी कलां से ताल्लुक रखने वाली गुरजीत कौर ने ऑस्ट्रेलिया से जीत दिलाने में मुख्य भूमिका निभाई थी। भारत ने ऑस्ट्रेलिया को क्वार्टर फाइनल में 1-0 से हराया। भारत के लिए इकलौता गोल गुरजीत कौर ने किया था। गुरजीत टीम में डिफेंडर और ड्रैग फ्लिक स्पेशलिस्ट की भूमिका निभाती हैं।  गुरजीत और उनकी बहन प्रदीप ने शुरुआती शिक्षा गांव के निजी स्कूल से ली और फिर बाद में उनका दाखिला तरनतारन के कैरों गांव में स्थित बोर्डिंग स्कूल में करा दिया गया। गुरजीत का हॉकी का सपना वहीं से शुरू हुआ। हालांकि, गुरजीत को हॉकी खिलाड़ी बनाना उनके परिवार के लिए आसान नहीं था। उनके लिए हॉकी किट खरीदने के लिए उनके पिता ने मोटरसाइकिल तक बेच दी थी।

उदिता दुहन, डिफेंडर

udita duhan indian women hocley team

हिसार, हरियाणा की उदिता दुहन अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए हैंडबॉल खेल रही थीं। हॉकी तो शायद कभी उनके दिमाग में आया ही नहीं। एक दिन उनके स्कूल के हैंडबॉल कोच ने प्रैक्टिस के लिए आना बंद कर दिया। मां के कहने पर उदिता ने हॉकी स्टिक उठाई और आज वह भारतीय हॉकी टीम का हिस्सा हैं। साल 2016 में उन्होंने जूनियर टीम के लिए डेब्यू किया। 2016 में उन्हें अंडर-18 एशियाई कप में कांस्य पदक जीतने वाली टीम का कप्तान बनाया गया था।

निशा, मिडफील्डर

nisha indian women hocley team

निशा वारसी पहली बार ओलंपिक में भाग ले रही हैं। उन्हें यहां तक पहुंचने के लिए कई मुश्किलों से जूझना पड़ा। उनके पिता सोहराब अहमद एक दर्जी थे। साल 2015 में उन्हें लकवा मार गया था, जिस वजह से उन्हें काम छोड़ना पड़ा। निशा ने अपनी ट्रेनिंग कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीतने वाली टीम का हिस्सा रही रानी सिवाच की अकादमी से हैं। लकवा मारने के बाद, उनकी कोच ने निशा का साथ दिया। उन्होंने उनके माता-पिता को समझाया। 2018 में निशा को भारतीय टीम के कैंप के लिए चुना गया। उन्होंने अपना इंटरनेशनल डेब्यू 2019 में हिरोशिमा में FIH फाइनल्स में किया। तब से वह नौ बार भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं।

नेहा गोयल, मिडफील्डर

neha goyal indian women hocley team

हरियाणा के सोनीपत की रहने वाली भारतीय मिडफील्डर नेहा गोयल के पिता के पास कमाई का साधन नहीं था। एक दोस्त ने सलाह दी कि हॉकी खेलने से अच्छे जूते और कपड़े मिलेंगे। वह छठी कक्षा में थीं, तभी से हॉकी स्टिक थाम ली। जिला स्तर का मुकाबला जीतने के बाद उन्हें दो हजार रुपए का इनाम मिला। बेटी को आगे बढ़ाने के लिए मां सावित्री फैक्ट्री में काम करने लगीं। उन्होंने 18 साल की उम्र में राष्ट्रीय टीम के लिए पदार्पण किया। 2018 से, गोयल ने एशियाई खेलों में रजत पदक जीता है और उन्हें हॉकी इंडिया मिडफील्डर ऑफ द ईयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

सुशीला चानू, मिडफील्डर

sushila chanu indian women hocley team

टीम में सबसे वरिष्ठ खिलाड़ियों में से एक, सुशीला रानी रामपाल के साथ पिछले एक दशक में भारत की सबसे प्रभावशाली खिलाड़ियों में से एक रही है। भारत की ओर से ब्राजील के रियो डि जेनेरियो में आयोजित किये गए 2016 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में प्रतिनिधित्व किया। यह सुशीला चानू का दूसरा ओलंपिक है।

मोनिका, मिडफील्डर

monika malik indian women hocley team

सोनीपत जिले के गामड़ी गांव की मोनिका मलिक को बचपन से ही पिता तकदीर सिंह ने खेलों के लिए प्रोत्साहित किया था। मोनिका ने 8वीं कक्षा के दौरान ही हॉकी खेलना शुरू कर दिया था। हालांकि, उनके पिता उन्हें पहलवान बनाना चाहते थे। बेटी की हॉकी में रुचि देखकर उन्होंने फिर अपना मन बदल लिया। मोनिका अब टीम की स्टार मिडफील्डर हैं। हॉकी के मैदान पर, राष्ट्रीय टीम की रीढ़ ने 2018 में एशिया कप, 2014 और 2018 एशियाई खेलों में कांस्य और रजत पदक जीता है।

नवजोत कौर, मिडफील्डर

navjot kaur indian women hocley team

नवजोत कौर के पिता एक मैकेनिक थे और चाहते थे कि उनके बच्चों में से एक तो किसी खेल को अपनाएं और उन्होंने नवजोत को हॉकी खेलने के लिए प्रेरित किया। नवजोत उन्होंने 2003 में संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान स्कूल में प्रशिक्षण शुरू किया। अंडर-19 स्तर पर अपने पहले टूर्नामेंट में ही उन्होंने शीर्ष स्थान प्राप्त किया। उन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए हॉकी के 100 से अधिक अंतरराष्ट्रीय मैचों में हिस्सा लिया है। वह उस टीम में भी थीं जिसने 2016 के रियो खेलों और 2018 में विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई थी।

सलीमा टेटे, मिडफील्डर

indian women hocley team Salima tete

सलीमा टेटे की हॉकी यात्रा उसी तरह शुरू हुई जैसे भारत में अधिकांश लोगों को खेल से प्यार हो जाता है - एक धूल भरे मैदान में जहां पत्थरों को हटाने की जरूरत होती है और अस्थायी गोल पोस्ट का निर्माण किया जाना था। उनका जन्म नक्सलियों के गढ़ में हुआ था, जो हॉकी का अड्डा भी है। उन्होंने परिवार के खेत में काम किया, पैसे कमाए और अपने लिए एक हॉकी स्टिक खरीदी। ओलंपिक से पहले, उन्होंने सीनियर राष्ट्रीय टीम के लिए 29 कैप जीते थे।

रानी रामपाल, फॉर्वर्ड

Rani rampal indian women hocley team

भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल हरियाणा के कुरुक्षेत्र के शाहाबाद कस्बे की रहने वाली हैं। उनके रामपाल पिता तांगा चलाया करते थे। रानी के घर के सामने ही लड़कियों की हॉकी की एकेडमी थी। रानी जब एकेडमी में दाखिले के लिए गईं तो कोच बलदेव सिंह ने साफ मना कर दिया था, लेकिन उनके बार-बार जिद्द करने पर आखिर उन्हें ट्रेनिंग मिल ही गई। उन्होंने टीम को जूनियर विश्व कप पदक, एशियाई कप जीतने में भी मदद की है, और यह एक प्रमुख कारण था कि भारत पहली बार बैक-टू-बैक ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर सका।

नवनीत कौर, फॉर्वर्ड

navneet kaur indian women hocley team

वह टीम में आठ खिलाड़ियों में से एक हैं जिन्होंने रियो ओलंपिक में भी भाग लिया था। नवनीत कौर ने 2013 में जूनियर वर्ल्ड कप में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। इसके बाद 2017 में एशियन कप में गोल्ड मेडल, 2018 में एशियन गेम्स में सिल्वर, 2018 में ही कॉमनवेल्थ गेम्स में चौथा स्थान पाया। 2018 में ही सीनियर वर्ल्ड कप, 2019 में ओलंपिक और 2021 में टोक्यो ओलिंपिक क्वालिफाई किया। 

लालरेम्सियामी, फॉर्वर्ड

lalraeisiami indian women hocley team

जब लालरेम्सियामी को पहली बार 16 साल की उम्र में चुना गया था, तो सियामी अंग्रेजी या हिंदी नहीं बोल सकती थी। उन्होंने ओलंपिक में जगह बनाने वाली मिजोरम की पहली महिला खिलाड़ी बनकर इतिहास रच दिया।  जून 2019 में जब वे टीम के साथ थीं तभी उनके पिता की मृत्यु हो गई। इसके बावजूद उन्होंने टीम के साथ रहने का फैसला किया और FIH महिला हॉकी सीरीज में हिस्सा लिया।

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics 2021: जानें हॉकी टीम से ओलंपिक के लिए क्वालीफाई होने वाली सुशीला चानू के जीवन से जुड़ी बातें

वंदना कटारिया, फॉर्वर्ड

vandana kataria indian women hocley team

साउथ अफ्रीका के खिलाफ पूल मैच में हैट्रिक जमाने वाली फॉरवर्ड वंदना कटारिया हरिद्वार के रोशनाबाद की रहने वाली हैं।  वंदना के परिवार में ज्यादातर लोग नहीं चाहते थे कि वे हॉकी खेलें, लेकिन पिता नाहर सिंह चाहते थे कि बेटी आगे बढ़े। वंदना जब ओलंपिक की ट्रेनिंग के लिए बेंगलुरु में थीं तभी उनके पिता का निधन हो गया। कोरोना के कारण वे उनके अंतिम संस्कार में भी नहीं पहुंच सकीं। अब परिवार का कहना है कि वंदना खेल के मैदान पर पिता की आखिरी ख्वाहिश पूरा करने के लिए खेल रही हैं। 

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics 2021: तमाम मुश्किलों को पार करती हुई मोनिका मलिक आज भारतीय महिला हॉकी टीम की हैं शान, जानें उनके बारे में

शर्मिला, फॉर्वर्ड

ahrmila devi indian women hocley team

शर्मिला ने 2019 में ओलंपिक टेस्ट इवेंट में टोक्यो में अंतरराष्ट्रीय स्तर से डेब्यू किया था। जब वह चौथी क्लास में थीं तभी कोच प्रवीण सिहाग से मुलाकात हुई। वह हॉकी, वॉलीबॉल और फुटबॉल में इस्तेमाल की जाने वाली गेंदों से आकर्षित थी, और वह जिस खेल को आगे बढ़ाना चाहती थी उसे चुनने में कुछ समय लगा। प्रवीण सिहाग ने शर्मिला देवी की हर स्तर पर मदद की और इंटरनेशनल लेवल का खिलाड़ी बनाया।

गोल्ड मेडल से दो कदम दूर भारतीय महिला टीम

indian women hockey team playes in tokyo olympics

भारतीय महिला हॉकी टीम अपने ओलंपिक गोल्ड मेडल से बस दो कदम दूर है। हालांकि इससे पहले उन्हें सेमीफाइनल के अपने मुकाबले में अर्जेंटीना की टीम को हराना होगा। यहां तक पहुंचने के लिए टीम ने तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया की टीम को 1-0 से शिकस्त किया था। दोपहर 3:30 बजे उनकी भिड़ंत अर्जेंटीना से होगी।

भारतवासियों की निगाहें अपनी लाडली बेटियों पर टिकी है। हमें उम्मीद है कि उनका खेल शानदार होगा। महिला हॉकी टीम को हमारी ओर से ढेरों बधाई। उम्मीद है भारतीय महिला हॉकी टीम के बारे में जानकर आपको अच्छा लगा होगा। ऐसे ही अन्य खबरों के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

Image Credit: www.instagram.com & bridge.in