स्वास्थ्य सलाह
  • Pooja Sinha
  • Her Zindagi Editorial | 08 Nov 2017, 10:55 IST

ओरल कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का रास्‍ता रोकते हैं ये 5 हर्ब्‍स

आयुर्वेदिक Dr. Durga Arod आज आपको ऐसे कुछ हर्ब्‍स के बारे में बता रही हैं, जिनका सेवन अगर आप आज से ही अपनी लाइफ में शुरू कर देगी तो यह ओरल कैंसर आपके ...
oral cancer weekly main
  • Pooja Sinha
  • Her Zindagi Editorial | 08 Nov 2017, 10:55 IST

ओरल कैंसर यानि मुंह में होने वाला कैंसर की शुरुआत तंबाकू के सेवन और स्‍मोकिंग से होती है। सामान्‍यतया ओरल कैंसर मुंह, नाक, कान गले के साथ थायरॉयड तक जोड़ा जाता है। ओरल कैंसर की प्रमुख वजह तंबाकू के सेवन के साथ-साथ अस्‍वस्‍थ खानपान और अनहेल्‍दी लाइफस्‍टाइल भी है। इसके शुरूआत में छाले और मुंह में नॉर्मल पेन हो सकता हैं। पहले यह बीमारी पुरुषों में ज्‍यादा पाई जाती थी लेकिन बदलती लाइफस्‍टाइल के चलते यह बीमारी महिलाओं में भी आम हो गई है।
 
कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसकी जानकारी फर्स्ट स्टेज पर ना होने पर यह भयावह रूप ले लेती है। लेकिन आज स्‍वामी परमानंद प्राकृतिक चिकित्‍सालय योग एवं अनुसंधान केन्‍द्र की आयुर्वेदिक Dr. Durga Arod (RMO) आज आपको ऐसे कुछ हर्ब्‍स के बारे में बता रही हैं, जिनका सेवन अगर आप आज से ही अपनी लाइफ में शुरू कर दें तो यह बीमारी आपके जीवन में आएगी ही नहीं। आइए जानें
आयुर्वेदिक Dr. Durga Arod से जानें कौन से है ये हर्ब्‍स।

1लेमन हनी वॉटर

Image Courtesy : Shutterstock.comoral cancer lemon water inside

इम्‍यूनिटी और विटामिन सी की कमी के चलते ओरल कैंसर की समस्‍या होती है। नींबू विटामिन सी और अन्‍य पोषक तत्‍वों से भरपूर होता है, जो ओरल कैंसर से बचाने में सहायक होता है। इसलिए अपनी डाइट में विटामिन सी को शामिल करें। इसके अलावा नींबू एंटी-ऑक्‍सीडेंट और जहरीले पदार्थों के संपर्क में आने से नए कोशिकाओं या गैर कैंसर कोशिकाओं को बचाता है, साथ ही फ्री रेडिकल्‍स को डैमेज होने से बचाता है।

Read more : ब्रेस्‍ट कैंसर को मात देते हैं किचन में मौजूद ये 5 हर्ब्‍स

2कैंसर रोधी तुलसी

Image Courtesy : Shutterstock.comoral cancer basil inside

आयुर्वेदिक Dr. Durga Arod  के अनुसार, ''शक्तिशाली एंटी-ऑक्‍सीडेंट और एंटी-कार्सिनोजेनिक गुणों के कारण तुलसी की पत्तियां महिलाओं में ब्रेस्‍ट कैंसर के साथ-साथ ओरल कैंसर को भी आपके पास आने नहीं देती है। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि तुलसी के घटक ट्यूमर तक ब्‍लड के प्रवाह को पहुंचने ही नहीं देते। इसलिए कैंसर से बचने के लिए रोजाना तुलसी के पांच पत्‍तों का सेवन करें।'' इसके लिए तुलसी शक्तिशाली एंटी-स्‍ट्रेस तत्‍व होने के कारण यह स्‍मोकिंग छोड़ने में मददगार हो सकती है।

3जरूरी है गाजर

Image Courtesy : Shutterstock.comoral cancer carrot inside

बीटा कैरोटीन एक ऐसा घटक है जो ओरल कैंसर से बचने के लिए जरूरी है। और गाजर बीटा कैरोटीन बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है, जिसे कैंसर विरोधी माना जाता है। इसके अलावा गाजर एंटी-ऑक्सीडेंट का समृद्ध स्रोत है और ओरल कैंसर और कई अन्य बीमारियों के उपचार की शक्ति होती है। इसके अलावा गाजर में falcarinol नामक पदार्थ पाया जाता है जो ओरल कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए जाना जाता है। रोजाना एक गिलास गाजार का जूस पीने से ओरल कैंसर से बचने में मदद मिलती है। अच्‍छे परिणाम पाने के लिए आप रोजाना छह से आठ म‍हीनों तक गाजर का जूस पीना चाहिूए।

4कड़वा लेकिन हेल्‍दी करेले का जूस

Image Courtesy : Shutterstock.comoral cancer bitter gourd inside

करेले का जूस औषधीय गुणों से भरपूर होता है और रोजाना इसके सेवन से आप कई तरह की बीमारियों से बचे रह सकती हैं। करेले में मौजूद एक्टिव ingredient अल्फा एलिस्टेरिक एसिड और dihydroxy alpha eleostearic acid  कैंसर की कोशिकाओं को मारने में हेल्‍प करती हे। अगर आप रोजाना एक छोटा गिलास करेले के जूस का सेवन छह से सात महीनों तक करती हैं तो ओरल कैंसर को खुद को कोसों दूर रख सकती है।

5अंगूर के बीज

Image Courtesy : Shutterstock.comoral cancer grapes seed inside

अंगूर में मौजूद अंगूर के बीज एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं जो ओरल कैंसर से लड़ने में मदद करते हैं। यह पदार्थ फ्री रेडिकल्‍स को नष्‍ट करते हैं जो मुंह में मौजूद कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाते हैं।
अंगूर के बीज विटामिन सी, ई और बीटा कैरोटीन से भरपूर होते हैं। यह इम्‍यूनिटी लेवल को बढ़ाते है और बॉडी की सही ब्‍लड सर्कुलेशन में हेल्‍प करते हैं। जिससे बॉडी अच्‍छे से डिटॉक्‍स होती है।

Read more : ये 5 हर्ब्‍स ओवेरियन कैंसर को आप तक पहुंचने ही नहीं देंगे

Loading...
Loading...