एक मशहूर कहावत है शादियां स्वर्ग से तय हो जाती हैं, वास्तव में धरती पर तो इनमें सिर्फ रस्मों की मुहर लगाई जाती है और दो लोगों को जन्मों के बंधन में बांध दिया जाता है। शादी में जन्म जन्मों तक साथ निभाने वाले दूल्हा और दुल्हन दोनों को सम्मान और प्यार देने का वादा करते हैं और दोनों ही एक दूसरे की भावनाओं को बराबर समझने की बातें करते हैं।

wedding ceremony

अक्सर यही देखा जाता है कि शादी की रस्मों से लेकर हरेक पूजा-पाठ में पत्नी ही अपने पति के सामने नतमस्तक होकर आशीर्वाद लेती है और पति जिसे परमेश्वर का दर्जा दिया गया है वो आशीर्वाद देता हुआ नज़र आता है। आमतौर पर पारंपरिक शादियों के दौरान होने वाली कई प्रथाओं को पितृसत्तात्मक कहा जा सकता है। जिसका सबसे बड़ा उदाहरण तब नज़र आता है जब एक महिला के अपने पिता का घर छोड़कर अपने पति के घर चली जाती है और पराई हो जाती है। यही नहीं शादी की रस्मों के दौरान भी एक नवविवाहिता को पति का आशीर्वाद उसके पैर छूकर लेने के लिए कहा जाता है और महिला ख़ुशी से ऐसा करती है क्योंकि ये भी सामजिक प्रथा का ही एक हिस्सा है। लेकिन शादी की रस्मों में अगर कभी एक पति शादी में अपनी पत्नी के पैर छूकर आशीर्वाद लेता हुआ नज़र आए तो आप क्या कहेंगे। 

इसे जरूर पढ़ें: दीपिका पादुकोण से लेकर ऐश्वर्या राय तक, इन एक्ट्रेसेस ने फिल्मों में पहना था भारी-भरकम कॉस्टयूम

wedding bengali

हाल ही में एक बंगाली शादी के दौरान एक बेहद अनोखा नज़ारा देखने को मिला। यहां शादी की परम्पराओं को दूल्हा और दुल्हन ने एक नई दिशा में मोड़ दिया। सिर्फ दुल्हन के पैर छूकर आशीर्वाद लेने की बजाय, दोनों ने एक-दूसरे के सामने नतमस्तक होकर आशीर्वाद मांगा। सबसे पहले, दुल्हन अपने घुटनों पर बैठ गई और उसने अपने हाथों को प्राणम की मुद्रा में जोड़ कर आशीर्वाद लिया। उसके बाद दूल्हे ने दुल्हन को पकड़कर खड़ा किया और खुद अपने घुटनों पर बैठ गया और हाथ जोड़कर आशीर्वाद लिया।

बेशक दूल्हे का ऐसा करना आजकल की युवा पीढ़ी को अच्छी सोच का नतीजा है जो लड़के और लड़की के बीच के भेद को ख़त्म कर रही है। वास्तव में बंगाल की ये शादी सभी युवाओं के लिए एक अच्छा उदाहरण है और लोग इसकी सराहना कर रहे हैं। जैसे ही उनका ये वीडियो वायरल हुआ लोगों के कमैंट्स आने शुरू हो गए। कई लोगों ने कहा कि यह आपसी सम्मान और प्यार को दर्शाता है जो दोनों ने एक दूसरे से करते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: कोरियोग्राफर पुनीत पाठक ने निधि सिंह के साथ लिए सात फेरे

वास्तव में बंगाल की ये शादी हम सभी के लिए अच्छा उदाहरण है जो समाज की सोच को बदलने के लिए एक दिशा निर्देश प्रस्तुत करती है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik