चाय का स्वाद बढ़ाने के लिए मिलाए जा सकते हैं ये 10 इंग्रीडिएंट्स

अगर आपको चाय पीना अच्छा लगता है तो उसमें ये एक्स्ट्रा इंग्रीडिएंट्स डालकर एक्सपेरिमेंट जरूर करें। हो सकता है आपको उस चाय का स्वाद ज्यादा अच्छा लगे। 
 ingredients in chai

भारत में चाय का महत्व क्या है ये किसी ऐसे इंसान से पूछें जिसे चाय पसंद है और उसे समय पर चाय मिली नहीं है। चाय सिर्फ एक हॉट ड्रिंक ही नहीं बल्कि किसी इमोशन से कम नहीं है। पर कई लोगों को चाय के साथ अलग-अलग तरह के एक्सपेरिमेंट्स करना पसंद होता है। ऐसे में एक बड़ी समस्या ये होती है कि चाय में इस्तेमाल किए जाने वाले इंग्रीडिएंट्स की मात्रा लोगों को नहीं पता होती है। 

क्या आप जानते हैं कि दूध, चीनी, चाय पत्ती, पानी, अदरक के अलावा भी 10 से ज्यादा इंग्रीडिएंट्स चाय में एड किए जा सकते हैं? तो चलिए अब आपको बताते हैं कि चाय के साथ किन इंग्रीडिएंट्स को आपको एड करना चाहिए। 

 

1केसर-

kesar in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: एक या ज्यादा से ज्यादा दो स्ट्रैंड्स

केसर वाली चाय बहुत ही प्रसिद्ध होती है और इसके फायदे भी माने जाते हैं। केसर का इस्तेमाल इसलिए भी किया जाता है ताकि चाय में स्वाद और फ्लेवर रोज़ाना से अलग आ सके। आप एक बार चाय में केसर डालकर तो देखिए आपको खुद इस चाय की आदत लग सकती है। 

इसे जरूर पढ़ें- Anti Ageing में मदद कर सकती हैं ये 7 तरह की चाय, जानें फायदे 

 

2स्टार एनिस

star anise in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: 1 फूल

स्टार एनिस चाय में आने के बाद कुछ-कुछ उसी तरह का स्वाद देता है जैसे मुलेठी देती है। अगर गले में खराश आदि हो रही है तो स्टार एनिस अच्छा ऑप्शन साबित हो सकता है। इसे आप अपनी चाय में रोज़ाना शामिल कर सकते हैं। 

 

3दालचीनी

dalchini in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: 1/8 चम्मच दालचीनी पाउडर या फिर छोटा सा टुकड़ा

दालचीनी वाली चाय में एक अलग फ्लेवर होता है जिसे आप बहुत पसंद कर सकते हैं। ये सर्दियों के समय तो काफी स्वादिष्ट लगती है। हां, दालचीनी वाली चाय बनाते समय ध्यान रखें कि इसे ज्यादा ना डालें वर्ना चाय आपके गले में खिचखिच पैदा कर सकती है। 

 

4 हल्दी

haldi in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: 1/8 चम्मच 

जिस तरह से हल्दी वाला दूध लाभकारी होता है वैसे ही हल्दी वाली चाय भी होती है जिसे लोग पीते हैं। ये चाय काफी स्वादिष्ट होती है और अगर आपको ज्यादा सर्दी लग रही है या मौसम खराब होने के कारण थोड़ी सी परेशानी हो रही है तो ये चाय अच्छी लगेगी। 

5लौंग

laung in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: 3-4

लौंग का इस्तेमाल तो चाय में बहुत ज्यादा किया जाता है और ये सर्दी, खांसी, जुकाम आदि में बहुत फायदेमंद होती है। लौंग से चाय में थोड़ा कड़क स्वाद आता है और ये यकीनन आपको पसंद आएगी। हां, बहुत ज्यादा लौंग ना डालें क्योंकि ऐसे में फिर आपकी चाय ज्यादा कड़वी हो जाएगी। 

 

6पुदीना

pudina in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: 1-2 पत्तियां

अगर आप बिना दूध वाली चाय बना रहे हैं तो पुदीने का इस्तेमाल करके देखें। ये चाय ना सिर्फ ताज़गी देगी बल्कि इतना बेहतरीन फ्लेवर भी देगी कि आपको मज़ा आ जाए। नींबू और पुदीने वाली चाय कई लोगों को पसंद होती है और आइस-टी में तो पुदीना अहम इंग्रीडिएंट होता है। 

इसे जरूर पढ़ें- रोज़ाना की चाय में आएगा दोगुना स्वाद अगर बनाते समय अपनाएंगे ये ट्रिक्स

 

 

7इलायची

ilaichi in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: 1-2 

इलायची का स्वाद अदरक के साथ ज्यादा अच्छा आता है। हालांकि, ज्यादा इलायची डालने से बचना चाहिए और अगर आपको मीठी चाय पसंद है तो इसे 1 से ज्यादा ना डालें। इलायची आपकी चाय में हर्ब वाला फ्लेवर लेकर आएगी और चाय के स्वाद को बढ़ाएगी। 

8गुड़

gur in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: जितनी मीठी चाय आपको पीनी हो

प्रोसेस्ड शक्कर की तुलना में हमेशा गुड़ वाली चाय ज्यादा हेल्दी मानी जाती है। हालांकि, ज्यादा मीठा खाना अच्छा नहीं माना जाता है इसलिए थोड़ा सा ध्यान रखें। गुड़ वाली चाय में तंदूरी फ्लेवर आता है और इसका स्वाद शक्कर वाली चाय की तुलना में काफी अलग होता है। 

9काली मिर्च

black pepper in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: 2-3

अगर आपका गला खराब है तो ये काली मिर्च वाली चाय बहुत ही फायदा कर सकती है। ये चाय आपको सर्दियों या बरसात के मौसम में पीनी चाहिए। हालांकि, गर्मी के मौसम में ये ज्यादा परेशान कर सकती है इसलिए इसे मौसम के हिसाब से ही पिएं। 

10काला नमक

kala namak in chai

1 कप चाय में कितनी मात्रा: 1/4 छोटा चम्मच

अगर आपने एक दिन पहले बहुत चिल्ला लिया है, आवाज़ दबी हुई आ रही है या फिर गला बैठ गया है तो काले नमक वाली चाय आपके लिए अच्छी साबित हो सकती है। एक बार आप इसे ट्राई करके देखिए आपको खुद ही समझ आ जाएगा ये कितना फायदा कर सकती है। 

ये सारे इंग्रीडिएंट्स चाय में डाले जाते हैं, लेकिन अगर आपको इनमें से किसी इंग्रीडिएंट से समस्या होती है और आपको वो सूट नहीं करता है तो इसका इस्तेमाल ना करें। 

सिर्फ चाय पीने से आपकी तबीयत पूरी तरह से ठीक कभी नहीं होगी इसलिए डॉक्टरी सलाह बहुत जरूरी है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।