साल 1979 में चंडीगढ़ में पैदा हुईं गुल पनाग आज बॉलीवुड का एक जाना-माना चेहरा हैं। बॉलीवुड से लेकर पूरे देश में गुल पनाग ने अपनी एक अलग ही छवि बनाई है। आज गुल पनाग एक ऐसीं शख्सियत हैं जिन पर सारे देश को नाज़ है। गुल पनाग बचपन से थोड़ा अलग हटकर थीं या यूं कहें कि उन्होने समाज के तमाम बंधनों को तोड़ते हुऐ अपने रास्ते खुद बनाये।

Gul panag trophy

जो कि आज के समाज में महिलाओं के लिए सबसे बड़ी चुनौती होती है। समाज की उन सभी रूढ़ीवादी मान्याताओं को तोड़ते हुऐ गुल पनाग ने महिलाओं को एक नई दिशा दी है। कि वो बिना किसी पर निर्भर हुऐ अपना भविष्य खुद बना सकतीं हैं। उन्होने महिलाओं के लिए समाज में एक मिसाल कायम की है। अगर आप भी उनके जीवन के कुछ पहलुओं के बारे में जानेंगी तो आप हैरान रह जायेंगी।

मिस इंडिया का जीता खिताब

मॉडलिंग से लेकर मिस इंडिया बनने तक का गुल पनाग का सफर काफी उतार-चढ़ाव वाला रहा। जहां एक तरफ उनके अदंर पुरुषों के समान महिलाओं को बराबरी का अधिकार दिलवाने का जुनून था तो दूसरी तरफ वो मॉडिलंग इंडस्ट्री में अपने आपको स्थापित करना चाहतीं थीं। और उन्होने ये बखूबी करके भी दिखाया। उन्हें पहली सफलता तब हालिस हुई जब साल 1999 में उन्होने मिस इंडिया का खिताब अपने नाम किया। और फिर क्या था उसके बाद गुल पनाग ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। हालांकि विश्व मंच पर मिस यूनिवर्स का खिताब हासिल करने में वो नाकामयाब रहीं लेकिन उन्होने इस असफलता से हार नहीं मानी।

बचपन के दोस्त को चुना जीवनसाथी

आजकल हमारे समाज में love मैरिज एक आम बात हो चली है लेकिन कुछ साल पहले इसे अच्छे नजरिये से नहीं देखा जाता था। या यूं कहें हमारा समाज ये कभी स्वीकार नहीं करता था कि लड़की अपनी मर्जी से अपना जीवन साथी चुने। समाज की इस धारणा को तोड़ते हुऐ गुल पनाग ने साल 2011 में अपने बचपन के दोस्त से शादी की और ये साबित कर दिया कि महिलाएं भी अपने जीवन के फैसले खुद ले सकतीं हैं।

बुलेट पर विदा होकर गईं ससुराल

Gul panag bullet

गुल पनाग सिर्फ शादी तक ही नहीं रुकीं बल्कि अपनी विदाई के वक्त हमारे समाज की पुरानी मान्यताओं को तोड़ते हुऐ उन्होने डोली के बजाय बुलेट बाईक पर बैठकर मायके से ससुराल गईं। ये समाज के उन ठेकेदारों के मुंह पर करारा तमाचा था जो ये सोचते थे कि महिलाओं को सिर्फ पर्दे में रहना चाहिए या फिर शर्म और लज्जा अच्छी महिलाओं के गुण होते हैं।

किरण खेर के खिलाफ लोकसभा चुनाव में उतरीं

बॉलीवुड में अपना करियर बनाने के साथ-साथ गुल पनाग एक समय में राजनीति में भी काफी सक्रिय रहीं। वो अन्ना हजारे द्वारा चलाये गये भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन से लगातार जुड़ीं रहीं। इसके बाद उन्होने आम आदमी पार्टी की टिकट पर साल 2014 में चंडीगढ़ लोकसभा सीट से किरण खेर और पवन बंसल के खिलाफ मैदान में उतरीं थीं।

चुनाव प्रचार भी बाईक से किया

Gul panag bullet

हमारे समाज में महिलाओं की एक ही छवि को दिखाया गया है जिसमें वो या तो अपने मेकअप से प्यार करती है या फिर उसे ज्वैलरी पसंद होती है। लेकिन गुल पनाग ने अपने जीवन में इन सारी स्टीरियो टाइप धारणाओं को तोड़ा है। उनका बुलेट बाईक से प्यार ये साबित करता है कि महिलाएं सिर्फ गहनों और मेकअप तक ही सीमित नहीं रहतीं।

रियल लाईफ में पायलट भी हैं

Gul panag pilot

महिलाओं के लिए समाज में एक मिसाल कायम करने के साथ-साथ गुल पनाग ने कई ऐसे काम किये जिसे देखकर हमारे समाज को गुल पनाग के जज्बे को सलाम करना पड़ा। गुल पनाग एक अभिनेत्री और राजनेता होने के साथ-साथ एक अच्छी पायलट भी हैं। आपने रील लाइफ में अभिनेत्रियों को विमान उड़ाते हुऐ देखा होगा लेकिन गुल पनाग रील लाइफ के साथ-साथ अपनी असल जिंदगी में भी एक अच्छी पायलट हैं।

Watch more: विद्या बालन की ऐसी 5 फिल्में जो हर महिला को देखनी चाहिए

Formula-e की हैं राईडर

Gul panag formula rider

आपको इस बात का अंदाजा भी नहीं होगा कि शायद ही बॉलीवुड में अभी तक कोई ऐसी अभिनेत्री रही होगी जिसमें इतनी सारी खासियतें होंगीं। गुल पनाग एक पायलट होने के साथ-साथ formula-e racing राइडर भी हैं। आपने अक्सर इन कारों की रेस को अपनी टी.वी स्क्रीन पर तेज रफ्तार में दौड़ते हुऐ देखा होगा। क्या आपको अंदाजा भी है कि एक ऐसे समाज में जहां अभी तक लड़्कियों को पैदा हुोने से पहले ही कोख में मार दिया जाता है। उसी समाज से निकलकर कोई महिला अपनी जिंदगी में इतने सारे काम एक साथ कर सकती है।

 

Credits

Producer: Rohit Chavan

Video Editor: Anand Sarpate

Watch more: It's Her Zindagi, तो उन्हें ही फैसला करने दें