वास्तु- जानें रंगों से कैसे जुड़ा है सौभाग्य?


Smriti Kiran
www.herzindagi.com

    प्रकृति में कई रंगों का संगम होता है, जिसे हम इंद्रधनुष भी कहते हैं। रंग हमारी भावनाओं को दर्शाते हैं। वास्तु के अनुसार हर रंग का मन और शरीर से बहुत गहरा संबंध होता है।

    आज हम बात करेंगे कि रंगों का हमारे मन से क्या रिलेशन है? आइए जानते हैं वास्तु के अनुसार कब, कौन से रंग के कपड़े पहनने चाहिए-

लाल रंग

    लाल रंग ऊर्जा और शक्ति का प्रतीक है। इसलिए शक्ति पूजा में अनार, गुड़हल के फूल, कपड़े इत्यादि सभी लाल रंग की चीजों का यूज किया जाता है।

लाल रंग का असर

    लाल कपड़े पहनने से उत्साह और कार्य क्षमता में वृद्धि होती है। यह रंग सौभाग्य की निशानी है। वास्तु के अनुसार लाल रंग के स्वामी मंगल हैं। इसलिए इस रंग के कपड़े मंगलवार को पहनना शुभ होगा।

पीला रंग

    पीला रंग प्रेम, आनंद और ज्ञान का प्रतीक है। भगवान विष्णु इसके स्वामी हैं। इसलिए इन्हें पीताम्बर भी कहा गया है।

पीले रंग का असर

    यह रंग सौंदर्य और आध्यात्मिक्ता को निखारता है, साथ ही पीला कपड़ा पहनने से देव गुरु बृहस्पति खुश रहते हैं। इसलिए इस कलर के कपड़े को गुरूवार के दिन पहनें।

नांरगी रंग

    नारंगी रंग लाल और पीले से मिलकर बना होता है। इसलिए यह रंग दोनों रंगों का असर भी अपने अंदर समाहित करके चलता है।

नारंगी रंग का असर

    यह रंग ज्ञान, शक्ति, प्रेम और आनंद का प्रतीक है। जीवन में इसके यूज से मंगल और बृहस्पति दोनों ग्रहों की कृपा बनी ही रहती है। साथ ही सूर्यदेव भी प्रसन्न रहते हैं।

सफेद रंग

    सफेद रंग शांति,पवित्रता और सादगी को दर्शाता है। इस रंग के प्रयोग से चंद्रमा और शुक्र ग्रह की कृपा बनी रहती है।

सफेद रंग का असर

    वास्तु के अनुसार मन की एकाग्रता व शांति के लिए सफेद रंग सर्वोपरि माना गया है।

नीला रंग

    नीला रंग स्वच्छता, पारदर्शिता, करुणामय, उच्च विचार होने का सूचक है। नीलs रंग से जीवन के गुण व भाव बेहतर होते हैं।

नीले रंग का असर

    नीले रंग के प्रयोग से भगवान शिव की कृपा बनी रहती है और साथ ही इस रंग से शनिदेव भी प्रसन्न बने रहते हैं।

हरा रंग

    हरा रंग खुशहाली, समृद्धि और पारदर्शिता का प्रतीक है। इस रंग के प्रयोग से बुध की कृपा हमेशा बनी रहती है।

रंगों का जीवन में प्रभाव

    इस तरह रंग हमारे जीवन पर चाहे-अनचाहे अपना असर डालते रहती है। साइंस के अनुसार भी कलर का जीवन में गहरा असर पड़ता है। तभी तो आजकल कलर थेरेपी का काफी चलन है।

    स्टोरी अच्छी लगी है तो लाइक व शेयर करें। साथ ही ऐसी अन्य स्टोरी जानने के लिए क्लिक करें herzindagi.com