It's Her Zindagi, तो उन्हें ही फैसला करने दें

By Gayatree Verma29 Dec 2017, 15:33 IST

ये उसकी जिंदगी है... तो उसे ही डिसाइड करने दो। 

पूजा को खाने का शौक है। लेकिन उसकी मम्मी उसे खाने नहीं देती। क्यों?

क्योंकि वो मोटी हो जाएगी और फिर उसकी शादी होने में दिक्कत होगी। लड़कियां पतली ही अच्छी लगती हैं।

किसने बनाई ये मेंटेलिटी? 

मालूम नहीं लेकिन आज भी लड़कियां इसे भुगत रही हैं। क्योंकि माना जाता है कि लड़कियों को चिड़ियों की तरह खाना चाहिए और लड़कों को कौओं वाला स्नान करना चाहिए। सुनने में ये अजीब लगता है लेकिन माना काफी जाता है। अगर लड़कियां खाना भी चाहेंगी तो उसे उसकी मम्मी, चाची और बुआ खाने नहीं होती। इतनी सारी पाबंदियां लड़कियों के ऊपर ही क्यों है? लड़कों पर क्यों नहीं?

और केवल ये एक परेशानी नहीं है। इसके अलावा भी बहुत सारी परेशानियां हैं। जैसे कि सेनेटरी नैपकिन से जुड़ा टैबू हो या फिर छोटे कपड़ों को देखकर लड़की के पूरे केरेक्टर को ही जज करने की मेंटेलिटी। मालूम नहीं ये कब बंद होगा। 

वो तो शुक्र है कि लड़कियां खुद इस तरह की मेंटेलिटी को तोड़ने की कोशिश कर रही हैं। लड़कियों की इसी कोशिश को हमने इस वीडियो में कैद किया है। जिसमें दो लड़कियां ऑफिस में सैनिटरी नैपकिन एक-दूसरे को पास कर रही हैं औऱ इन दोनों के बीच में एक लड़का बैठा है। रियल में तो ऐसा होना फिलहाल लगभग नामुमिन है। लेकिन फिर भी हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले नये साल में कुछ तो नया होगा। 

it s her zindagi and it s her life inside

इसी तरह एक लड़की वन पीस में है और लड़के से बात कर रही है। तभी लड़का उसे उसके पैरों को ढकने के लिए तकिया देता है। नॉर्मली ऐसा आपके साथ भी हुआ होगा। लेकिन क्या कर सकते हैं। क्योंकि इन लड़कों को तो समझ आती नहीं कि ये उनकी लाइफ उन्हें डिसाइड करने दो कि वो क्या पहनेंगी।

इस तरह की मेंटेलिटी को बदलने के लिए कुछ जरूरी बातों में बदलाव करने की जरूरत होती है। जैसे कि लोगों को ये समझ आ जाए कि छोटे कपड़े पहनने से कोई लड़की अपना केरेक्टर छोटा नहीं करती। 

इसी तरह सैनिटरी नैपकिन यूज़ करना नॉर्मल बात है। ये ना कोई घिन करने वाली बात है ना नाक-मुह सिकोड़ने वाली बात है। It's natural. Infact सैनिटरी नैपकिन के लिए तो लड़कों को सपोर्ट करना चाहिए। 

तो हमें उम्मीद रहेगी कि आने वाले नये साल में कुछ बदलेगा। तब तक इस वीडियो को देखें, लाइक करें और शेयर करें।   

 

Credits

Producer- Sudipta Dey

Editor- Anand Sarpate

 

DOP- Raj Patil