हर महिला को पता होने चाहिए बैंकिंग से जुड़े ये 9 नियम

क्या आप जानती हैं कि आप क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड से भी फायदा कमा सकती हैं या फिर एक सेविंग्स अकाउंट आपको FD जैसा इंटरेस्ट रेट दे सकता है। 
best banking rules for housewives

सुनने में ये शायद आपको थोड़ा अजीब लगे, लेकिन अधिकतर महिलाएं बैंकिंग के कामकाज से बहुत हिचकिचाती हैं। महिलाओं के मन में ये डर रहता है कि कहीं कोई गलती न हो जाए। सेविंग्स बैंक अकाउंट ही उनके लिए बहुत बड़ा सहारा होता है जहां बिना खतरे के वो अपना पैसा सुरक्षित रख सकती हैं और कुछ हद तक फाइनेंशियल इंडिपेंडेंस महसूस कर सकती हैं। पर क्या आपको पता है कि इसी सेविंग्स बैंक अकाउंट से जुड़े कुछ खास टिप्स आपको कितना फायदा पहुंचा सकते हैं?

आज हम बात कर रहे हैं हाउसवाइफ और सेविंग्स बैंक अकाउंट्स की। बैंकिंग से जुड़े ये 9 नियम अगर आपको पता होंगे तो आपके लिए बहुत ही सुविधाजनक स्थिति बनेगी। 

नोट: ये सारी जानकारी RBI, SBI और अन्य बैंक्स की वेबसाइट के हिसाब से है। 

 

1सेविंग्स अकाउंट पर इंटरेस्ट-

banking and money matters

अधिकतर लोगों को लगता है कि सेविंग्स अकाउंट पर ज्यादा इंटरेस्ट नहीं मिल सकता। ये कुछ हद तक सही भी है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि नया अकाउंट खोलते समय या अपना अकाउंट अपडेट करते समय आप ज्यादा इंटरेस्ट वाले सेविंग्स अकाउंट के बारे में पता कर सकते हैं। आपको 2% से लेकर 6% प्रति साल तक का इंटरेस्ट मिल सकता है। आपको बस अपने बैंक से इसके बारे पता करना चाहिए। 

उदाहरण के तौर पर सेविंग्स अकाउंट में 25000 से ज्यादा रकम रखने पर कुछ बैंक्स 6% तक का इंटरेस्ट देते हैं और कुछ बैंक्स जीरो बैलेंस सेविंग्स अकाउंट में ज्यादा इंटरेस्ट देते हैं। 

2जीरो बैलेंस सेविंग्स अकाउंट-

money and trasactions

अधिकतर महिलाओं के पास कुछ जमा पूंजी होती है जो घर के किसी कोने में रखी होती है। इसपर आपको इंटरेस्ट मिलता रहे और सेविंग्स अकाउंट में मिनिमम बैलेंस रखने का झंझट न हो उसके लिए कुछ बैंक्स जीरो बैलेंस सेविंग्स अकाउंट भी बनाते हैं। ऐसे में आप 10 रुपए से भी अकाउंट शुरू कर सकती हैं, लेकिन ध्यान इस बात का रहे कि जीरो बैलेंस सेविंग्स अकाउंट का पैसा एफडी वगैरह में ऑनलाइन ट्रांसफर नहीं किया जा सकता और महीने में कितनी बार पैसा निकाला जा सकता है उसका भी हिसाब होता है। इसलिए जीरो बैलेंस सेविंग्स अकाउंट के नियम अपने बैंक से जरूर जान लें। 

3 10 साल से ऊपर के बच्चे खोल सकते हैं अकाउंट-

money saving banking

कई लोगों को लगता है कि सिर्फ 18 साल के होने पर ही बैंक अकाउंट खोले जा सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। 10 साल के बच्चे का बैंक अकाउंट भी खोला जा सकता है जिसमें माता-पिता या गार्जियन का ज्वाइंट अकाउंट होता है। ऐसे अकाउंट्स में फाइनेंशियल लिमिट होती है और 18 साल के होने पर ये पूरी तरह से बच्चे के नाम चला जाता है। 

4नया क्रेडिट या डेबिट कार्ड लेने से पहले जानें ये बातें-

money card

नया क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड लेते समय आपको कुछ चीज़ों का ध्यान रखना चाहिए-

- क्रेडिट या डेबिट कार्ड में किन चीज़ों में प्वाइंट्स मिलते हैं (एयर माइल्स, रेस्त्रां, शॉपिंग, स्पा आदि)
- क्रेडिट या डेबिट कार्ड में एक्स्ट्रा चार्ज कौन से हैं
- किस कार्ड में घरेलू शॉपिंग में ज्यादा फायदा होगा

इन सारी चीज़ों पर अगर आप ध्यान देंगे तो क्रेडिट और डेबिट कार्ड से भी फायदा मिल सकता है। 

5आखिर क्यों 1 से ज्यादा बैंक अकाउंट रखना चाहिए-

money savings and banking

- इमरजेंसी फंड के लिए अलग से अकाउंट रहता है।
- अलग-अलग बैंकों में RD और FD का इंटरेस्ट रेट अलग है।
- अगर किसी एक बैंक में नॉर्मल सेविंग्स अकाउंट है तो दूसरे बैंक में RD खोलने से साल के अंत में ज्यादा इंटरेस्ट मिल सकता है।
- किसी वजह से एक अकाउंट ब्लॉक हो गया या फिर एक अकाउंट का क्रेडिट या डेबिट कार्ड खो गया तो दूसरे अकाउंट में सुरक्षित पैसा रह सकता है।

6सेविंग्स अकाउंट से कैसे कमाएं ज्यादा इंटरेस्ट-

money and online payment

सेविंग्स अकाउंट को स्वीप इन/आउट (Sweep In/ Out, SBI के लिए 'सेविंग्स प्लस अकाउंट ') अकाउंट में तब्दील किया जा सकता है। ऐसे में सेविंग्स अकाउंट का पैसा टेम्परेरी एफडी में तब्दील किया जा सकता है। इसे आप कभी भी तोड़ सकते हैं और एक लिमिट के ऊपर पैसे पर आपको सेविंग्स अकाउंट का नहीं बल्कि एफडी का इंटरेस्ट रेट मिलेगा। यानि सीधे 3% से 7% तक ये इंटरेस्ट रेट हो सकता है। 

हर बैंक के नियम अलग होते हैं और इसके लिए सेविंग्स अकाउंट और एफडी में एक ब्रेक थ्रू अमाउंट भी जमा करना होता है। उसके बारे में अपने बैंक से डिटेल्स जरूर लें। 

7क्रेडिट कार्ड का बिल देते समय ध्यान रखें ये बातें-

money savings card

क्रेडिट कार्ड का बिल चुकाते समय आपको कुछ बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए और वो ये हैं-

Minimum Amount due (MAD) के चक्कर में न पड़ें। जितना अमाउंट दे सकते हैं उतना दें, क्योंकि एक्स्ट्रा बचे अमाउंट पर बैंक इंटरेस्ट लगाएगा जो 18% तक हो सकता है। मिनिमम अमाउंट बिल का 5% हिस्सा होता है।

ऐसे में अगर 1 लाख रुपए बिल है तो 5 हज़ार ही मिनिमम अमाउंट होगा और 95000 कैरी फॉर्वर्ड हो जाएगा। इसे देने के लिए एक ग्रेस पीरियड होता है जिसमें अगर पैसा नहीं चुकाया तो उसी पैसे पर इंटरेस्ट लगेगा। उदाहरण के तौर पर 95000 को पूरे दो महीने और मिनिमम अमाउंट कर चुकाएंगे तो 4% के तौर पर इंटरेस्ट लग जाएगा। यानि आपका अमाउंट 95000 का 4% लगभग 3800 हुआ और आपका टोटल बिल 98,800 हो गया। ऐसे ही मिनिमम अमाउंट चुकाते-चुकाते बैंक आपके ही पैसे से अपनी कमाई कर लेंगे। 

8पर्सनल लोन्स बहुत ध्यान से लें-

money and loans

अगर आप पर्सनल लोन ले रहे हैं तो आप पहले अलग-अलग बैंक्स का इंटरेस्ट रेट पता करें। दरअसल, बैंक कम इंटरेस्ट रेट दिखाते हैं और ज्यादा लेते हैं। उसके पीछे की एक ट्रिक है जैसे-

आप किसी बैंक से लोन लेते हैं और वो आपको 14% इंटरेस्ट रेट कहता है। इसपर एक क्लॉज दिया जाता है कि मान लीजिए 1 लाख का लोन है और 10000 EMI देनी है तो आपको 2 EMI की एडवांस पेमेंट करनी होगी। यूजर को लगता है कि इसमें हर्ज ही क्या है। पर असल में ऐसे केस में आपका लोन अमाउंट खाली 80 हज़ार हो गया और इस हिसाब से आपका इंटरेस्ट रेट 14% से बढ़कर 16% हो गया क्योंकि आपको उन दो EMI का पैसा मिला ही नहीं। ये बहुत कॉमन ट्रिक है जिसे आपको हमेशा लोन लेते समय ध्यान रखना चाहिए। ये नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल सर्विसेज में सबसे ज्यादा देखी जाती है। 

 

9अगर आपके साथ फ्रॉड हुआ है तो किन स्थितियों में पैसा वापस मिलेगा?

money tree banking

- अगर बैंक के किसी कर्मचारी ने गलती की हो
- अगर पूरी तरह से बैंक (किसी भी तरह से) दोषी हो
- ऐसा केस जहां पर बैंक या कस्टमर दोनों की ही गलती न हो
- ऐसा केस जहां फ्रॉड होने के 72 घंटे के अंदर बैंक के पास शिकायत पहुंच गई हो

इनके अलावा, फ्रॉड का पैसा वापस पाने की गुंजाइश थोड़ी कम हो जाती है। 

अगर आपको ये सारे नियम पता हैं तो आपकी बैंकिंग बहुत आसान हो जाएगी और पर्सनल फाइनेंस के सिलसिले में आप थोड़ी और जानकारी इकट्ठा कर पाएंगी। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।