• Inna Khosla
  • Her Zindagi Editorial
  • Thu, 10 Jan 2019 17:42 IST

भारत में ऐसी एक- दो नहीं बल्कि कई लड़कियां हैं जिन पर एसिड अटैक हुए और फिर उनकी ज़िंदगी इस कदर बदल गयी कि उन्होंने पहले तो दर्द से और लोगों के अपमान के डर से घर से बाहर निकलना छोड़ दिया था लेकिन आज वो ना सिर्फ घर से बाहर निकलती हैं बल्कि सिर उठाकर जीती हैं और नौकरी भी करती हैं। समाज में अच्छाई करने वालों की कमी नहीं हैं इन एसिड अटैक पीड़ित लड़कियों को Sheroes ने स्पोर्ट किया। शीरोज़ की ये असली हीरोज़ आज समाज में अपमान के साथ नहीं बल्कि सम्मान के साथ जीती हैं लेकिन उनका ये सफर कैसा रहा किस दर्द से वो गुज़री और उन्होंने कैसे जीत हासिल की उन्होंने अपनी ये कहानी herzindagi.com के साथ शेयर की। 

Sheroes की असली हीरोज़ की ज़ुबानी ही आप उनकी ये कहानी इस वीडियो में देख सकते हैं और उन्हें स्पोर्ट भी कर सकती हैं। ये लड़कियां समाज के लिए बहुत बड़ी मिसाल हैं। ज़िंदगी से हारना नहीं बल्कि उस पर जीत हासिल कर आगे बढ़ना आप इन सभी लड़कियों से सीख सकते हैं।

Read more: साल 2018 में इन कानूनों से महिला सशक्तीकरण को मिला बढ़ावा

मुशकिलें इनकी ज़िंदगी में भी कम नहीं थी। बेहद खूबसूरत दिखने वाली इन लड़कियों के साथ जब ये हादसा हुआ तो इन्होंने अपने अंदर की असली खूबसूरती को पहचाना और नए नज़रिए के साथ खुद को और इस समाज को देखना शुरु किया। कई सालों तक घर पर मुंह छिपाकर जीने वाली ये लड़कियां अब मेकअप करके आम लड़कियों की तरह ही अपनी ज़िंदगी में आगे बढ़ रही हैं। अब ये एसिड के निशानों के दर्द से आगे बढ़ चुकी हैं।  ऊंचाइयों को छूने के लिए एक-दूसरे को  इन्सपायर कर रही हैं। शीरोज़ ने इन्हें अपने पैरों पर खड़े होने का मौका दिया है। एसिड अटैक रोकने के लिए अब ये मुहिम भी चला रही हैं। इनकी बहादुरी, इनकी ताकत को Her Zindagi सलाम करती है। 

Credits
Producer: Prabhjot Kaur