कुछ इस तरह से बनाएं घर का बजट और करें सेविंग्‍स

By Anuradha Gupta30 Mar 2018, 17:55 IST

नया फाइनैंशियल ईयर स्‍टार्ट हो चुका है। सभी बिजनेसमैन और ऑफिसों में साल भर के नए बजट को प्‍लान किया जा रहा है। साल भर किन खर्चों को बचाना है और कहां खर्च करना है इस बारे में हर जगह बातें हो रही हैं। हर कोई इस नए फाइनैंशियल ईयर में ज्‍यादा से ज्‍यादा पैसे बचाना चाहता है। ऐसी ही ख्‍वाहिश हाउसवाइफ्स की भी है। जी हां, घर की फाइनैंस मिनिस्‍टर यानी हाउसवाइफ्स भी इस नए फाइनैंशियल ईयर में अपने घर का बजट बनाने में जुट गई हैं। देखा जाए तो ऐसा बहुत कम महिलाएं ही करती हैं। मगर घर का बजट बनाना बेहद जरूरी काम है। अगर बजट ही तय नहीं होगा तो सेविंग्‍स कैसे हो पाएंगी। सेविंग्‍स के लिए एक तय बजट के आधर पर घर के खर्चों को हेंडल करना बहुत जरूरी है। तो चलिए इस वीडियो में हम आपको बताएंगे कि किसी तरह से आप भी अपने घर का बजट प्‍लान कर सकती हैं और फिजूल खर्च होने से बचा सकती हैं। 

इनकम का करें आकलन 

अगर आप हाउसवाइफ हैं तो आपके हसबैंड की सैलरी से ही घर चलता होगा। घर खर्चों के लिए आपके हसबैंड आपको पैसे भी देते होंगे। उन पैसों को एक जगह इकट्ठा करके न रखें। जैसे ही आपको घर खर्च के लिए पैसे मिलें वैसे ही आप उन पैसों से घर का बजट तय करें। अगर आप बजट नही तय करेंगी तो आपके पैसे फिजूल खर्च में लग जाएंगे और जरूरी सामान खरीदने के लिए आपके पास पैसे नहीं बचेंगे। इसलिए जैसे ही आपको कैश मिले वैसे ही उस कैश के साथ एक बजट तैयार करें और उस बजट के अकॉर्डिंग ही अपने खर्चों को चलाएं। 

खर्चों की लिस्‍ट बनाएं 

घर में महीने में जो खर्च तय हैं कि होने ही हैं उन खर्चों की एक लिस्‍ट बनाएं। यह लिस्‍ट किसी डायरी में बनाएं। इस लिस्‍ट में उन खर्चों को शामिल करें जो हर महीने होते ही हैं और उन्‍हें होने से आप रोक नहीं सकतीं। फिर एक लिस्‍ट बनाएं जिनमें उन खर्चों को लिखें जो होने तो हैं मगर उन्‍हें कम किया जा सकता है। जैसे आप आगर किचन में महंगा डिश वॉशर यूज करती हैं तो इस बार कोशिश करें कि अच्‍छी क्‍वालिटी का कोई कम दाम वाला डिशवॉशर खरीदें। इसी तरह जो खर्चे तय नहीं होते उन खर्चों को भी आंजाद से लिस्‍ट में शामिल करें और उनके पैसों को भी अलग करें। 

खर्चों पर कसें लगाम 

पैसे खर्च करने के लिए ही होते हैं मगर पैसों को सही वक्‍त, सही जगह और सही चीज पर खर्च करना चाहिए। भविष्‍य में आपको कब और कितने पैसों की जरूरत पड़ सकती है इस बारे में आपको पहले से पता नहीं होता है इसलिए सेविंग्‍स बहुत जरूरी होती हैं। बजट में तय अमाउंट से किसी भी सामान पर एक रुपए ज्‍यादा खर्च न करें। ऐसा भी हो सकता है कि कभी आपको कोई सामन तय बजट से ज्‍यादा कीमत पर मिले मगर इसे बैलेंस करने के लिए आपको किसी दूसरे खर्चें को घटाना होगा। कोशिश करें कि अपनी लाइफस्‍टाइल पर भी उतना ही पैसा खर्च करें जितना जरूर हो। महिलाएं कपड़े गहने और जूते चप्‍पल खरीदने में बहुत पैसा खर्च करती हैं। मगर इन चीजों पर उतना ही खर्च करें जितने की आपको जरूरत है और बाकी पैसों को सेव करें। 

मॉल्‍स से न खरीदें सामान 

आजकल मॉल्‍स का जमाना है। मॉल्‍स में लाइफस्‍टाइल से जुड़ा हर सामान मिलता है मगर आलीशान शोरूम होने की वजह से यहां कुछ सामान अपनी कीमत से अधिक का भी मिलता है। इसलिए अगर आपको किसी खास ब्रांड का ही सामना चाहिए हो तब ही आप मॉल्‍स के अंदर घुसें। अगर आपका काम अनब्राडेड चीजों से चल सकता है तो मॉल्‍स से सामना खरीदने की जरूरत नहीं है। खासतौर पर वो सामान तो मॉल से बिलकुल भी न खरीदें जो आपको बाहर दुकानों पर सस्‍ता मिल सकता है। 

ऑफर्स से न हों आकर्षित 

अखबारों और टीवी पर ऑफर्स के कई विज्ञापन आते हैं। इनसे कभी आकर्षित न हों क्‍योंकि यह ऑफर्स केवल भ्रम में डालने वाले होते हैं। ऑफर्स लाने से पहले ही प्रोडक्‍ट की कीमत बढ़ा दी जाती है इसलिए जब भी कोई सामान खरीदें तो उसकी एक्‍चुअल वैल्‍यू पर आपको कितना प्रतिशत डिस्‍काउंट मिल रहा है उसे ध्‍यान में रख कर ही खरीदें। 

Credit:

Producer: Prabjot Kaur

Editor: Syed Afraz