शादी का दिन हर किसी के लिए खास होता है। खासतौर पर एक दुल्‍हन के लिए इस दिन की अहमियत अलग ही होती है। महीनों से चल रही शादी की तैयारियों और रस्‍मों के बीच एक दुल्‍हन के मन में क्‍या भावनाएं उमड़ रही होती हैं, यह तो एक दुल्‍हन ही बता सकती हैं। 

अपनी इन्‍हीं भावनाओं को आज हरजिंदगी से शेयर किया है, शैलजा वर्मा ने, जो कि पेशे से पत्रकार हैं और दिल्‍ली में रहती हैं। शैलजा बताती हैं, 'मेरा बचपन केरल में बीता है और बाद में हम बैंगलोर शिफ्ट हो गए। मैंने वर्ष 2015 में अर्विंद से शादी की थी, जो कि एक समर वेडिंग थी, जो पेशे से कॉरपोरेट लॉयर हैं।'

हर आम लड़की की तरह शैलजा ने भी अपनी शादी से जुड़ी कई बहुमूल्‍य यादों को संजो कर रखा है।शादी के दौरान शैलजा के मन में क्‍या भावनाएं उमड़ रही थीं और अपनी शादी से जुड़े कौने से मीठे पलों को अब तक वह भुला नहीं सकी हैं, अपनी शादी की यादों के हसीन पिटारे को शैलजा ने केवल हमारे आगे खोला ही नहीं बल्कि कुछ यादगार बातें भी हमशे शेयर की- 

shaadi ki rasham

शादी की रस्‍में 

शादी की रस्‍में हर धर्म, राज्‍य, प्रांत और कस्‍बे में अलग-अलग होती हैं। खासतौर पर यदि केरल में हिंदू वेडिंग (हिंदू वेडिंग की खास रस्‍में) की बात की जाए तो आपको यह जान कर हैरानी होगी कि यहां लगभग 10 मिनट में ही शादी की रस्‍में निभा ली जाती हैं। शैलजा की शादी में भी केरल के रिति-रिवाजों को फॉलो किया गया था। मगर शादी से पहले हुई एक रस्‍म 'अयिनियोनु' उनके दिल के बेहद करीब है।

kasavu mundu

वह बताती हैं, 'यह रस्‍म शादी के ठीक एक दिन पहले निभाई जाती हैं और इसमें दुल्‍हन के माता-पिता उसे आशीर्वाद देते हैं। इस रस्‍म के लिए मुझे एक तलाब में ले जाया गया था, जहां पानी से मुझे अपने पैरों को साफ करना था। इस दौरान मुझे 10 विशेष तरह के फूल दिए गए थे, जो मुझे अपने बालों में बनाए जूड़े (5 जूड़ा स्‍टाइल) में लगाने थे। मैने इस रस्‍म में पेस्‍टल कलर के बॉर्डर का kasavu mundu और गोल्‍डन ब्‍लाउज पहना था। रस्‍म के पूरे होने के बाद वह फूल पूरे दिन मैं अपने हाथों में ही पकड़ी रही। मुझे इसी दिन मेहंदी भी लगाई गई थी, जिसके बाद मेरे  घरवालों और रिश्‍तेदारों ने ट्रेडिशनल तिरुवातिरकली डांस किया था। पूरा दिन रोचक रस्‍मों और मजेदार रिवाजों से भरा हुआ था, जिसका मैनें बहुत आनंद उठाया था।'

इसे जरूर पढ़ें: अपनी शादी पर पाएं बेदाग त्वचा, एक्सपर्ट के बताए ये टिप्स करें फॉलो

jaymala

वैसे एक और रस्‍म शैलजा के दिल के बहुत करीब है, जिसका जिक्र करते हुए वह कहती हैं, 'शादी किसी के लिए भी बहुत ही प्‍यारा अनुभव होता है। मेरे लिए भी यह दिन बेहद खास था। हर छोटी-बड़ी रस्‍में मेरे दिल को छू रही थीं, मगर जो रस्‍म मुझे सबसे ज्‍यादा अच्‍छी लगी वह थी 'हार बदलने की रस्‍म'।'

कैसे चुनी थी वेडिंग ड्रेस 

अपनी वेडिंग ड्रेस को लेकर हर दुल्‍हन के कई अरमान होते हैं। शैलजा ने भी अपने वेडिंग आउटफिट को लेकर काफी कुछ पहले से सोच कर रखा था। वह बतती हैं, 'मैंने पहले ही तय कर लिया था कि साड़ी की जगह ट्रेडिशनल गोल्‍डन बॉर्डर वाला kasavu mundu अपनी शादी में पेहनुंगी और मैनें ऐसा ही किया था। इसे मैंने रेड वेलवेट ब्‍लाउज के साथ पहना था और साथ में टेंपल ज्‍वेलरी पहनी थी।' जाहिर है, वेडिंग ड्रेस (इन ड्रेसेस से लें इंस्पिरेशन) और ज्‍वेलरी का चुनाव इतना आसान नहीं होता है। शैलजा को भी महीनों पहले से इसकी तैयारी करनी पड़ी थी। शैलजा बताती है, 'मैंने अपनी वेडिंग ड्रेस के चुनाव से लेकर अपने बालों के हेयरस्‍टाइल तक के लिए महीनों पहले से तैयारियां शुरू कर दी थीं। यहां तक कि शादी में जो फूल मुझे अपने जूड़े में लगाने थे वह मेरे होम टाउन त्रिशूर में मिलना मुश्किल थे इसलिए मैनें पहले ही फूलवाले को इन फूलों को कोयम्बटूर से मंगवाने की बात कर ली थी, जो शादी वाले दिन सुबह ही मुझ तक पहुंचा दिए गए थे।' इतना ही नहीं, शैलजा और अरविंद ने पहले से ही तय कर लिया था कि वह मैचिंग के आउटफिट्स पहनेंगे और अपने इस प्‍लान में वह कामयाब भी रहे थे।

dulhan

मगर शादी की शॉपिंग इतनी आसान नहीं होती है और इस बात से शैलजा सहमत भी है। वह अपना अनुभव बताती हैं, 'मैंने और अर्विंद ने 5-6 महीने पहले ही शॉपिंग शुरू कर दी थी। मगर हमारी शॉपिंग शादी के कुछ दिन पहले तक पूरी नहीं हो सकी। मगर मैं कुछ न भूलूं इसलिए मैंने कपड़ों और एक्‍सेसरीज की एक लिस्‍ट तैयार की थी, जिससे मुझे बहुत मदद मिली।'

shringar

कोविड-19 संक्रमण के दौरान शादी कर रहे लोगों को सलाह

कोविड-19 संक्रमण का कहर अभी भी थमा नहीं है, मगर जिन्‍हें अपने जीवन की नई शुरुआत करनी है, वह भी अब इस संक्रमण के खत्‍म होने का इंतजार करते-करते थक चुके हैं। कई लोगों ने तो इस चुनौतीपूर्ण समय में ही अपने जीवन की नई शुरुआत करने का हौसला दिखाया है। ऐसे लोग जो कोविड पीरियड में ही शादी कर रहे हैं उन्‍हें शैलजा सलाह देती हैं और कहती हैं, ' बेशक यह समय चुनौतीपूर्ण हो, मगर जो लोग शादी कर रहे हैं, उनके लिए यह जीवन का एक हसीन पल है और अपने इस लम्‍हे को खूबसूरत और यादगार बनाने के लिए मौजूदा सोर्सेज का इस्‍तेमाल कर कुछ क्रिएटिव कर सकते हैं। खासतौर पर अपनी वेडिंग फोटोग्राफी पर फोकस करें और हर यादगार लम्‍हें को कैमरे में कैद कर लें।'

इसे जरूर पढ़ें: Winter wedding: वेडिंग लुक की खूबसूरती बढ़ाएँगे ये कलीरे डिजाइन्स, जानें आपके लिए कौन सा है बेस्ट

rituals

शादी से जुड़ी अपनी मीठी यादों के अलावा शैलजा ने यह भी बताया कि वह अपने दादा जी को बहुत मिस करती हैं। शैलजा कहती हैं, ' शादी के वक्‍त मेरे दादा जी ने ही सारी रस्‍में पूरी करवाई थीं। मगर वह अब हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी यादें हमारे साथ हमेशा रहेंगी।'

आपको यह आर्टिकल अच्‍छा लगा हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें साथ ही इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

 Image Credit: Shylaja Varma