ऑफिस में करेंगी ये गलतियां तो मुसीबत में पड़ जाएंगी आप

By Anuradha Gupta26 Mar 2018, 11:50 IST

अगर आप वर्किंग वुमन हैं तो आपको ऑफिस तो रोज ही जाना होता होगा। ऑफिस का माहौल दुनिया की हर जगह से एकदम अलग होता है। यहां आप आजाद हो कर भी कई चीजों में बंधे होते। ऑफीशियल लैंगवेज में इसे ऑफिस डेकोरम कहा जाता है। इस डेकोरम के अंदर बहुत सारी बातों का ध्‍यान रखना होता है मगर कुछ बातें किसी को याद नहीं रहती और अपने स्‍वभाव के मुताबिक वे लोग ऑफिस में भी वैसा ही बिहेवियर रखते हैं जैसा कि वे ऑफिस से बाहर होते हैं। ऐसे लोगों को इस बात का एहसास कभी नहीं हो पाता कि वे क्‍या गलत कर रहे हैं मगर मैनेजमेंट में उनके इस बिहेवियर को नोट किया जाता है और समय आने पर या तो उनको इस हरकत के लिए पनिशमेंट दिया जाता है नहीं तो कई बार उन्‍हें अपनी नौकरी तक से हाथ धोना पड़ता है। अगर आप भी ऑफिस डेकोरम का ध्‍यान नहीं रखती तो अब रखना शुरू कर दें। खासतौर पर कुछ बातों को तो ऑफिस में भूल कर भी न करें। 

बॉस की चापलूसी 

बॉस के ऑडर्स को फॉलो करना चाहिए, मगर चापलूसी भूल कर भी न करें। बॉस को अपने काम से खुश करें न कि उसकी चापलूसी करके। यह काम न केवल ऑफिस में अन्‍य कर्मचारियों के बीच आपकी गलत इमेज बनाएगा बल्कि आपके बॉस को इस बात का अहसास कराएगा कि आप अपनी जॉब को लेकर कितनी इनसिक्‍योर हैं। जाहिर है अगर आप का बॉस यह भांप लेगा तो आपकी परफॉर्मेंस पर उसे कभी भी कॉन्‍फीडेंस नहीं होगा। इससे न तो आपका कभी प्रमोशन होगा न ही आप ज्‍यादा दिन तक उस ऑफिस में टिक सकेंगी। 

ऑफिस पॉलिटिक्‍स 

ऑफिस पॉलिटिक्‍स, यह सबसे से खतरनाक काम होता है। न तो कभी इसे करें न इसमें कभी फंसे। दोनों में आपका ही नुकसान होगा। ऑफिस आपको केवल आपने काम से मतलब होना चाहिए, दूसरा क्‍या कर रहा है इससे मतलब रखेंगी तो आपको ही पछताना पड़ेगा। इसके साथ ही कभी भी इधर की बात उधर न करें। जो लोग ऐसा करते हैं उनसे भी दूर रहने की कोशिश करें। कोई आप से किसी की चुगली करे तो आप एक कान से सुन कर दूसरे कान से निकाल दें क्‍योंकि इन सबमें पड़़ने का मतलब है कि आप भी इस पॉलिटिक्‍स में शामिल हैं। इससे आपकी नौकरी तक को खतरा हो सकता है। 

ऑफिस में पर्सनल टॉक्‍स 

बेशक ऑफिस में आपकी कोई बहुत अच्‍छी सहेली बन गई होगी मगर ऑफिस को अपने घर का ड्रॉइंग रूम समझने की गलती कभी न करें। अपनी पर्सनल बातों को शेयर करना भी होतो ऑफिस में वर्किंग आवर्स खत्‍म होने का इंतजार करें। आपकी पर्सनल टॉक करने के लिए कंपनी आपको हाई सैलरी नहीं देती है। आपकी पर्सनल टॉक्‍स की वजह से आपका सारा टाइम उसी में लग जाएगा तो आप काम क्‍या करेंगी। इसलिए कोशिश करें कि अपनी सहेली से ब्रेक टाइम या ऑफिस के बाद बात करें। 

कुलीग्‍स से चिट-चैट 

अगर यह कहा जाए कि अपने कुलीग्‍स से बिलकुल भी बात न करें तो ऐसा नहीं हो सकता मगर इसकी लिमिट तय कर लें। काम के समय में काम की ही बात करें। इसके साथ ही जो व्‍यक्ति जिस चीज के लिए ऑर्थराइज्‍ड है उससे उसी के विषय में बात करें। आप जितना कम बात करें ऑफिस में आपकी छवि उतनी ही गंभीर और डेडीकेटेड एंप्‍लॉय की बनेगी। 

सैलरी और जॉब सैटिसफैक्‍शन का डिसकशन 

हर व्‍यक्ति अपनी जॉब खुद चुनता है कभी जॉब जबरदस्‍ती आदमी के पास चल कर नहीं आती। आपने भी अपनी जॉब खुद चुनी होगी। इसलिए उसकी रिस्‍पेक्‍ट करें और कभी ऑफिस में जॉब डिससैटिसफैक्‍शन या सैलरी को लेकर डिसकशन न करें। यह बातें एचआर में आपकी इमेज को बिगाड़ती हैं। 

Credit:

Producer: Prabjot Kaur

Editor: Atul Tripathi