दिल्ली की ये भूतिया जगहें किसी डरावनी फिल्मों से कम नहीं

By Kirti Jiturekha24 Nov 2017, 16:27 IST

 

क्या आप जानते हैं दिल्ली में कुछ जगहें ऐसी हैं जहां आप जाने से पहले हजार बार सोचेंगे। आइए जानते हैं दिल्ली की उन जगहों के बारे में जिनके बारे में माना जाता है कि यहां पर आज भी आत्माओं का निवास है। 

साथ ही इन जगहों पर रात में जाने की हिम्मत बहुत कम लोग ही जुटा पाते हैं क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि जो भी इन जगहों पर रात को जाता है वो कभी भी वापस नहीं आता है। 

इस महल में भटकती है आत्मा 

नई दिल्ली में स्थित इस महल के बारे में ऐसा कहा जाता है कि इस महल आज भी आत्माएं भटकती हैं। इस महल का निर्माण आज से 700 साल पहले फिरोज़  शाह तुगलक ने करवाया था, वो इसे अपनी शिकारगाह के रूप इस्तमाल करते थे। यह महल पिछले कई सदियों से वीरान रहने के कारण खंडहर हो चुका था। 

ऐसा कहा जाता है कि इस खंडहर हो चुके महल में 1985 में अवध घराने की  बेगम विलायत महल अपने दो बच्चो, पांच नौकरो और 12 कुत्तो के साथ रहने आई। इस महल में आने के बाद वो कभी इस महल से बाहर नहीं निकली थी। इसी महल में उन्होंने 10 सितम्बर 1993 को आत्महत्या कर ली थी। ऐसा कहा जाता है कि उनकी आत्मा आज भी इसी महल में भटकती है।  

इस इलाके में दिखती हैं बच्चों की आत्माएं 

10 किमी क्षेत्रफल में फैले संजय वन इलाके में बच्चों की आत्माएं दिखाई देती हैं, ऐसा कहा जाता है वो आत्माएं अक्सर खेलती हुई नजर आती हैं। अंदर से यह वन घना और डरावना भी है।

तुगलक ने बनवाया था यह डरावना किला 

फिरोज शाह कोटला किला 1354 में फिरोज शाह तुगलक ने बनवाया था। यह किला आज खंडहर हो चुका है। आसपास की लोगों की मानें तो हर गुरुवार यहां मोमबत्तियां जलती दिखती हैं और अगले दिन किले के कुछ हिस्सों में कटोरे में दूध भी रखा मिलता है। ऐसा अक्सर होता रहा है जिसके चलते किले की पहचान अब भूतों के किले के रूप में होने लगी है।

दिल्ली में ऐसी और भी डरावनी जगहें हैं, इस वीडियो को देख आपको पता चलेगा कि दिल्ली की ये डरावनी जगहें किसी डरावनी फिल्मों से कम नहीं। 

 

 

Credits

Video Editor: Syed Afraz

Producer: Prabjot Kaur