Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    अपने बच्चे के साथ कुछ इस तरह किया मैंने पहली बार सफर

    लखनऊ से बेंगलुरु तक का मेरा सफर मुझे हमेशा याद रहेगा। इसलिए नहीं कि यह बहुत अच्छा था बल्कि यह मेरा पहला ऐसा सफर था जो मैंने अपने बेबी के साथ तय किया था। 
    author-profile
    • Guest Author
    • Editorial
    Updated at - 2022-12-05,16:02 IST
    Next
    Article
    how to travel on flight with baby in hindi

    मैं कृति यादव काफी समय से कहीं घूमने का प्लान कर रही थी लेकिन बेबी होने के बाद मुझे अपना ज्यादातर समय उसकी देखभाल में लगाना होता था और मेरे पति भी यह चाहते थे कि बच्चे की डिलीवरी के बाद मैं अपना और बेबी का ध्यान सही से रखूं। मैंने और मेरे पति ने मिलकर अपनी बेटी का नाम वियाना रखा। कुछ माह बाद मेरे पति को काम की वजह से बेंगलुरु जाना पड़ा। जब दो सप्ताह बीत गए तो उन्होंने मुझे बेंगलुरु आने को कहा। पहले तो मैंने यह सोचा कि बच्चे के साथ अकेले मैं कैसे ट्रेवल करूंगी और ऐसा पहली बार होगा जब मैं फ्लाइट से अपने बच्चे के साथ लखनऊ से किसी दूसरे शहर जाऊंगी। 

    my first trip with baby

    मैंने इस बारे में अपने माता-पिता से बात की तो पहले उन्होंने कहा कि वह भी साथ में चलेंगे लेकिन फिर मैंने उन्हें यह समझाया कि उन्हें बहुत अधिक चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि मैं अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभा सकती हूं और अकेले भी आराम से जा सकती हूं। इसके बाद मेरी पैकिंग शुरू हुई तब मेरे मन में कई सवाल भी चल रहे थे कि कहीं पहली बार बच्चे के साथ जाने में कोई परेशानी ना हो जाए या फिर एयरपोर्ट पर बहुत अधिक भीड़ में मेरी बच्ची घबरा कर रोने ना लगे और क्या अकेले मैं उसे सही से कैसे संभालूंगी? इन सभी सवालों को मन में दबाकर मैं अगले दिन अपनी नन्ही सी बेटी यानी वियाना के साथ घर से फ्लाइट लेने के लिए चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पहुंच गई। 

    सबसे पहले मेरे सामान की स्कैनिंग हुई और इसके बाद सुरक्षा जांच भी हुई। सुरक्षा जांच में मेरा हैंडबैग भी चेक हुआ तब मेरी बच्ची वियाना थोड़ा घबरा गई क्योंकि वहां बहुत अधिक भीड़ थी पर मैंने उसका रोना चुप कराया और अपनी फ्लाइट के लिए निर्धारित गेट नंबर पर जाने लगी। उस समय वियाना को भी आसपास की चीजों को देखकर बहुत खुशी हो रही थी। आपको जानकर थोड़ा आश्चर्य होगा कि दो साल से कम उम्र के बच्चों का भी टिकट लगता है पर उन्हें कोई भी सीट प्लेन में नहीं मिलती है। जब फ्लाइट आ गई तो मैं अपने मन में साहस के साथ आगे बढ़ी और अपनी सीट पर जाकर आराम से बैठ गई।

    Her voice expert talk message

    यह सफर लगभग तीन घंटे का था। मेरे पति भी बार-बार मेरा और वियाना का हालचाल लेने के लिए कॉल कर रहे थे। इसके बाद जब प्लेन ने उड़ान भरी तो वियाना जोर-जोर से रोने लगी। मैं भी घबरा गई पर मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की और आखिर थोड़े वक्त के बाद वह शांत हो गई और विंडो सीट से बाहर के नजारे देखकर मंद-मंद मुस्कुराने लगी। इसके बाद प्लेन में हमें कोई भी असुविधा नहीं हुई और फिर हम तीन घंटे के बाद बेंगलुरु पहुंच गये जहां मेरे हसबैंड मुझे लेने आए हुए थे। 

    मैं भले ही पहले बहुत घबरा रही थी लेकिन आखिरकार बहुत आराम से मैंने बिना किसी डर के अपनी नन्ही सी जान वियाना के साथ सफर को पूरा किया और फिर हम बेंगलुरु पहुंच गए और यह सफर मेरे लिए हमेशा खास रहेगा क्योंकि मैंने और वियाना ने पहली बार एक साथ फ्लाइट से सफर को तय किया। 

    आपको मेरा एक्सपीरियंस कैसा लगा, हमें कमेंट कर जरूर बताएं। 

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।