घर में पेरेंट्स और स्कूल में टीचर्स से ही बच्चे बहुत कुछ सीखते हैं। बच्चों के शुरूआती दौर की लर्निंग्स उनके लाइफ टाइम के लिए सबक बनती हैं। कई बार देखा गया है कि  माता-पिता अपने ऑफिस और घर के काम में इतना ज्यादा व्यस्त हो जाते हैं कि बहुत सारी बातें  बच्चों को नहीं सिखा पाते हैं। ऐसे में पैरेंट्स  को चाहिए कि बच्चों के बेडटाइम का पूरा इस्तेमाल करें और बच्चों को सोते समय आप बहुत सी स्किल डेवलपमेंट की बातें बता सकती हैं । आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे ट्रिक्स जिनसे आप बच्चों को सोने से पहले कई अच्छी बातें सिखा सकती हैं जो उनकी स्किल डेवलपमेंट के लिए जरूरी हैं। 

स्कूल की बातें करें 

bed time learning ()

अक्सर ऐसा देखा गया है कि टाइम की कमी की वजह से वर्किंग पैरेंट्स बच्चों से उनके स्कूल की बातें नहीं कर पाते और वही बच्चे धीरे-धीरे पढ़ाई में पिछड़ते जाते हैं। सोने से पहले बच्चों से उनके स्कूल में क्या हो रहा है और कैसे हो रहा है जैसी बातें करें। इसके अलावा उसे गुड टच और बैड टच भी सिखाएं। बच्चों को ये भी सिखाएं कि स्कूल में होने वाली हर छोटी बड़ी एक्टिविटी वो घर में अपने पेरेंट्स से शेयर ज़रूर करे। 

इसे जरूर पढ़ें:गलती करने पर बच्चों को डांटे नहीं, बल्कि इन क्रिएटिव Punishment का लें सहारा

Recommended Video


छोटी कहानियां सुनाएं  

सोने का टाइम ऐसा टाइम होता है जब माता-पिता और बच्चे साथ होते हैं। इसलिए बच्चों को सोते टाइम इंस्पिरेशन वाली कहानियां सुनाएं। बच्चों को किसी का उदाहरण देकर अच्छी बातें सिखाने का प्रयास करें। ज़रूरी नहीं है कि बच्चों को सच्ची कहानियां ही सुनाएं बल्कि कभी-कभी किसी कार्टून से जोड़कर भी उसे कहानियां सुनाएं और उसकी लिसनिंग स्किल्स (ऐसे डालें एक्टिव लिसनिंग हैबिट्स ) को डेवलप करें। 

ओरल पढ़ाई करवाएं 

bed time learning ()

बच्चा यदि छोटी क्लास में हैं तो उसपर लिखने से ज्यादा सुनने का प्रभाव पड़ता है इसलिए बच्चे को उसके कोर्स के हिसाब से ओरल पढ़ाई करवाएं जैसे आप बच्चों की शब्दावलि बढ़ाने में भी उनकी मदद कर सकती हैं। 

स्टोरी सुनाने को बोलें 

आप बच्चे से बोलें कि वो कोई स्टोरी सुनाए।  इससे बच्चे की क्रिएटिविटी डेवलप  होने के साथ -साथ उसका दिमाग भी तेज़ होगा और कई बार बच्चे के स्टोरी सुनाने के ढंग से ये भी पता चलता है कि बच्चे के दिमाग में किस तरह की भावनाओं का विकास हो रहा है। ये बातें भी उसकी भविष्य के लिए स्किल डेवलप करने में मदद करेंगी। 

इसे जरूर पढ़ें:बच्चों के खिलौने खरीद रही हैं तो रखें इन बातों का ध्यान

सिबलिंग को साथ में कुछ पढ़ाएं 

bed time learning ()

बच्चे को सिबलिंग के साथ इंटरेक्शन करने के लिए कहें। इससे दोनों को बहुत सी बातें सीखने को मिलेंगी और उनकी बॉन्डिंग भी अच्छी होगी। दोनों बच्चों को कोई स्टोरी पढ़ने के लिए दे सकती हैं। 

इन बातों को ध्यान में रखकर आप बच्चों को उनके उज्जवल भविष्य के लिए तैयार कर सकती हैं। तो आज ही ये ट्रिक्स अपनाएं और बेड टाइम को लर्निंग टाइम बनाएं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:free pik